कुंभ में तैनात होंगे 180 एटीएस कमांडो

2018-12-03T06:00:04Z

- चार घाटों में तैनात होंगे स्नाइपर्स

- जमीन से लेकर पानी तक में 24 घंटे तक होगी गश्त

द्यह्वष्द्मठ्ठश्र2@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

रुष्टयहृह्रङ्ख : कुंभ में देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं व राजनयिकों की सुरक्षा के लिये यूपी एटीएस ने कमर कस ली है। इसके लिये जमीन से लेकर पानी तक में सुरक्षा इंतजामों का खाका खींचा गया है। जिन चार घाटों पर वीवीआईपी आएंगे, वहां पर स्नाइपर्स की तैनाती की योजना है। कुंभ मेला में आतंकी हमले की आशंका के मद्देनजर यूपी एटीएस 180 कमांडो को तैनात करेगा। सूत्रों के मुताबिक, मेले के दौरान सुरक्षा व्यवस्था को चौकस करने के लिये नेशनल सिक्योरिटी गा‌र्ड्स की भी तैनाती की योजना है।

पानी पर विशेष निगरानी

विश्व के सबसे बड़े धार्मिक मेला कुंभ में देश-विदेश से करोड़ों श्रद्धालुओं के आने की संभावना है। यही वजह है कि इस मेले पर दुनिया भर की मीडिया की नजरें लगी रहेंगी। इतने महत्वपूर्ण धार्मिक आयोजन को देखते हुए आतंकी खतरे को भी सिरे से नकारा नहीं जा सकता। इसी को देखते हुए यूपी एटीएस ने कुंभ मेला के लिये विशेष प्लान तैयार किया है। घाटों में इंट्री के दौरान तो सभी की चेकिंग होगी लेकिन, पानी के रास्ते अगर कोई संदिग्ध या आतंकी घुस आया तो उसे रोकना बेहद मुश्किल होगा। मुंबई में पानी के रास्ते घुसे आतंकियों की मॉडस ऑपरेंडी के मद्देनजर एटीएस ने भी पानी पर अपना ध्यान केंद्रित किया है। प्लान के तहत पानी में एटीएस के कमांडो स्पीड बोट के जरिये 24 घंटे गश्त करेंगे।

स्नाइपर्स रखेंगे संदिग्धों पर नजर

डीआईजी कुंभ केपी सिंह के मुताबिक, कुंभ मेला के दौरान पानी के रास्तों की सुरक्षा को लेकर विचार किया गया है। सुरक्षा एजेंसियां इस ओर भी पूरा ध्यान दे रही हैं और इस रास्ते को भी अभेद्य बनाने का प्लान बनाया गया है। एटीएस सूत्रों के मुताबिक, आतंकी खतरे से निपटने के लिये जो प्लान बनाया गया है, उसके मुताबिक, मेले में 180 कमांडो तैनात किये जाएंगे। यह कमांडो अत्याधुनिक हथियारों से लैस होंगे। इसके अलावा करीब दो दर्जन स्नाइपर्स की भी तैनाती की जाएगी। यह स्नाइपर्स स्नाइपर्स स्पास 15 गन, हाईक्वालिटी की दूरबीन और नाइट विजन डिवाइस से लैस होंगे और दिन-रात संदिग्धों पर नजर रखेंगे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.