यूपी मकान के अंदर गैरकानूनी तरीके से बनाए जा रहे थे आधार कार्ड पुलिस ने धर दबोचा

2019-03-28T12:08:38Z

मकान के अंदर गैरकानूनी तरीके से आधार कार्ड बनाए जा रहे थे। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने मशीन सहित एक को पकड़ लिया।

agra@inext.co.in
BARHAN : थाना क्षेत्र के गांव तिहैया में मकान के अन्दर आधार कार्ड बनाने की मशील लगाकर एक युवक ग्रामीणों के आधार कार्ड बना रहा था किसी ग्रामीण ने पुलिस को सूचना दी। डायल हंड्रेड पुलिस ने एक युवक को मशीन सहित हिरासत में ले लिया है।


मशीन के साथ मिला प्रिंटर

मशीन के साथ बरामद हुए प्रिंटर को एक ग्रामीण के सुपुर्द कर दिया। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। बताया गया है कि आधार कार्ड बनाने में फर्जीफिकेशन की अधिक शिकायतें मिलने एंव आतंकवादियों तक के आधार बन जाने पर केन्द्र सरकार ने जन सेवा केन्द्रों एवं प्राइवेट आपरेटरों से आधार कार्ड बनाने का कार्य बन्द करा दिया है। अब आधार कार्ड बनाने एंव उसमें किसी प्रकार के परिवर्तन कराने का कार्य चुनिंदा पोस्ट ऑफिस व बैंकों के माध्यम से होता है। उसके बावजूद थाना बरहन क्षेत्र के गांव तिहैया निवासी मोंनू उर्फ वेदप्रकाश ने आधार कार्ड बनाने का पूरा सैटअप अपने घर में लगा रखा है जिस पर वह ग्रामीणों के नए आधार कार्ड एंव पुरानों में मनचाहा परिवर्तन करने का कार्य बेधड़क होकर रहा था।

कहां से मिला कोड

काफी दिनों आधार कार्ड से हो रहे कार्ड बनाने के कार्य की बुधवार को किसी ग्रामीण ने थाना पुलिस को सूचना दे दी। सूचना पर डायल हंड्रेड की बाइक पर पहुची पुलिस मोंनू उर्फ बेद प्रकाश को आधार कार्ड बनाने की मशीन सहित थाने ले आई। नया आधार कार्ड बनाने अथवा पुराने में परिवर्तन के लिए साइट का कोड और पासवर्ड आधार कार्ड अथॉरिटी द्वारा उन्ही संस्थाओं को दिया गया है, जिन्हें आधार कार्ड बनाने की अथॉरिटी दी गई है। अन्य अन्य कोई व्यक्ति साइट को खोल नहीं सकता। उसके बावजूद तिहैया में आधार की मशीन लगाकर कार्ड बनाने वाले युवक के पासकोर्ड और पासवर्ड नम्बर कहां से आया। आधार बनाने की मशीन कहां से मिली, इस तरह के कई गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं।

फर्जी मतदान के लिए तो नहीं बन रहे आधार

आगरा में दूसरे चरण में लोकसभा के लिए मतदान होना है। चुनाव आयोग ने मतदान के लिए आधार कार्ड को भी परिचय पत्र के लिए मान्य किया  है। तिहैया गांव में आधार कार्ड कहीं फर्जी मतदान के लिए तो नहीं बनाए जा रहे थे। इस तरह की चर्चा क्षेत्र में इसलिए भी फैल रही थी। क्योंकि पुलिस के पहुंचने पर आधार कार्ड बना रहे वेद प्रकाश की सिफारिश करने एक सपा नेता पहुंचा था। लेकिन मामला अधिकारियों की नॉलेज में आ जाने पर पुलिस ने वेदप्रकाश को तुरंत छोडऩा ठीक नहीं समझा।

'मैंने तो सुना ही नहीं'

आधार कार्ड बनाते हुए पुलिस द्वारा पकड़े युवक की जानकारी जब एसडीएम एत्मादपुर से की गई तो उनका कहना था कि मशीन पकड़े जाने की बात मैंने तो सुनी भी नहीं है। यह कह कर फोन काट दिया। सीओ एत्मादपुर ने बताया कि आधार कार्ड बानाने का मामला संज्ञान में आया है, जिसकी जांच थानाध्यक्ष बरहन द्वारा की जा रही है।



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.