इलाहाबाद में नेपाली एक्ट्रेस का कत्‍ल

2012-04-19T14:11:44Z

ALLAHABAD इसे पुलिस का नकारापन कहिए या क्रिमिनल्स की शातिराना सोच हकीकत यही है कि इलाहाबाद क्रिमिनल्स के लिए सेफ जोन बनता जा रहा है तभी तो घटना कहीं भी हो बॉडी को ठिकाने के लिए शातिर इसी जगह को चुनते हैं दिल्ली की सुप्रिया के बाद अब मुंबई की मीनाक्षी का संगम नगरी के साथ ये दुखद रिश्ता बना है क्रिमिनल्स ने मर्डर करने के बाद उसकी बॉडी को यहीं ठिकाना लगाया

मीनाक्षी थापा बेसिकली नेपाल की रहने वाली थी. वह बॉलीवुड में पैर जमाने की कोशिश कर रही थी. पुलिस सोर्सेज का कहना है कि उसे मूवी '404' में ब्रेक मिला था. इसके अलावा कई बी ग्रेड मूवीज और कॉमर्शियल्स में भी उसने एक्टिंग की.
मुंबई क्राइम ब्रांच ने किया खुलासा

मीनाक्षी के मर्डर केस का खुलासा संडे को मुंबई क्राइम ब्रांच ने किया. ऑफिसर्स ने मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार भी किया है. इनमें एक युवती और एक युवक शामिल हैं. दोनों बॉलीवुड में कदम जमाने के लिए मीनाक्षी के साथ मायानगरी में ही स्ट्रगल कर रहे थे. क्राइम ब्रांच ऑफिसर्स के मुताबिक ये दोनों धोखे से मीनाक्षी को इलाहाबाद ले आए. उन्होंने उसे एक मूवी में रोल दिलाने की बात कही थी. यहां फाफामऊ एरिया में सुनसान जगह पर ले जाकर उन्होंने मीनाक्षी को कत्ल कर दिया.
धड़ से अलग कर दिया था सिर
मर्डर के आरोप में जिस युवक और युवती को गिरफ्तार किया गया है उनके नाम अमित कुमार जायसवाल और प्रीति एलविना हैं. पुलिस का कहना है कि 14 मार्च को आरोपियों ने घटना को अंजाम दिया. उन्होंने किसी धारदार हथियार से मीनाक्षी का गला काट डाला था. धड़ के कई पार्ट करने के बाद उन्हें एक सेप्टिक टैंक में डाल दिया. इसके बाद मीनाक्षी का सिर एक पॉलिथिन में चल दिए. रास्ते में फाफामऊ पुल के नीचे ही सिर को फेंका और फिर चुपचाप मुंबई लौट गए.
फाफामऊ का है रहने वाला
मीनाक्षी की खबर न मिलने पर उसके परिजनों ने मुम्बई के अंबोली थाने में 18 मार्च को गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी. मामले की जांच मुम्बई क्राइम ब्रांच को सौंपी गई थी. सर्विलांस की मदद से मीनाक्षी की कॉल डिटेल निकाली गई तो प्रीति और अमित का नाम सामने आया. दोनों को पकड़कर पुलिस ने पूछताछ की तो उन्होंने हकीकत कुबूल ली. खास बात यह है कि अमित बेसिकली फाफामऊ एरिया को बिलांग करता है.
आना ही होगा
जानकारों का कहना है कि मुंबई क्राइम जांच के लिए इलाहाबाद भी आ सकती है. उसे ये पता है कि जब तक बॉडी नहीं मिलेगी, कोर्ट में आरोपियों का जुर्म साबित नहीं हो जाएगा. ऐसे में आरोपियों को लेकर पुलिस यहां आ सकती है. इलाहाबाद पुलिस भी अभी तक मीनाक्षी की बॉडी के बारे में कुछ पता नहीं लगा सकी है. घटना की जानकारी होने पर खुद एसएसपी ने सभी थानों से इसकी जानकारी ली.
डॉक्टर ने भी यही किया था
लास्ट इयर सितंबर में भी सिटी में एक ऐसा ही मामला सामने आया था. दिल्ली के एक डॉक्टर ने चन्द्र विभाष ने अपनी वाइफ सुप्रिया की हत्या करके उसकी बॉडी इलाहबाद में ही लाकर फेंकी थी. 24 सितंबर की रात किसी बात पर नोकझोंक हुई तो चन्द्र विभाष ने लोहे की राड से सुप्रिया के सिर पर हमला कर दिया. इससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई. इसके बाद डॉक्टर कार से सुप्रिया की बॉडी लेकर इलाहाबाद आ गया. हण्डिया पुल से उसने बॉडी नीचे फेंक दी और वापस दिल्ली चला गया. 28 सितंबर को बॉडी की शिनाख्त हुई थी. दिल्ली पुलिस ने चन्द्र बिभाष को अरेस्ट भी कर लिया था.



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.