15 लाख पर लटकी तलवार

2017-04-12T07:41:03Z

आधार कार्ड सीडिंग में पिछड़ा जिला, जून तक देनी है जानकारी

परिवार के सभी सदस्यों का आधार नंबर न देने पर काट दिए जाएगा नाम

ALLAHABAD: राशन कार्डो की आधार सीडिंग में जिला पिछड़ता जा रहा है। अभी तक लाखों ऐसे लाभार्थी हैं जिन्होंने अपना आधार जमा नही किया है, जिससे उनका नाम सूची से कटने की नौबत आ गई है। लाख कोशिशों के बावजूद यह लाभार्थी अपना आधार नामांकन जमा कराने कोटेदारों तक नही पहुंचे हैं। शासन ने भी जून तक का अल्टीमेटम दे दिया है। ऐसी स्थिति में सूची में लाखों अपात्रों के शामिल होने की संभावना बढ़ गई है।

नियम ने बिगाड़ दिया खेल

जिले में पात्र गृहस्थी और अंत्योदय के मिलाकर 10.44 लाख कुल राशन कार्ड हैं, जिनमें 44 लाख लाभार्थियों का नाम दर्ज है। इन्हें खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत सस्ती दर पर अनाज मुहैया कराया जाता है। पिछले साल तक आधार सीडिंग में केवल घर के मुखिया का आधार नामांकन देना था लेकिन इसके बाद नियम बदल गया। कहा गया कि कार्ड में शामिल प्रत्येक लाभार्थी का आधार सीडिंग किया जाना है। इसके बाद प्रक्रिया पर जैसे ब्रेक लग गया। लाख कोशिशों के बावजूद महज 66.5 फीसदी लाभार्थियों का आधार नामांकन ही राशन कार्ड के साथ लिंक किया जा सका है। इससे 15 लाख लाभार्थियों के सूची से बाहर आने की नौबत आ चुकी है।

बाक्स

प्रखंडों पर आधार जमा कराने की छूट

अभी तक लाभार्थियों की शिकायत थी कि कोटेदार द्वारा दिलचस्पी नही लिए जाने से आधार नामांकन नही हो पा रहा है। इसको देखते हुए आपूर्ति विभाग ने प्रखंड कार्यालयों में आधार सीडिंग कराने की छूट दे दी है। उदाहरण के तौर पर दारागंज, अलोपीबाग, अल्लापुर, सोहबतियाबाग, बैरहना, बाई का बाग, रामबाग, तुलारामाबाग, कीडगंज, मुट्ठीगंज, कटघर, गऊघाट के निवासी तेज बहादुर सप्रू मार्ग स्थित (होमगाडर््स ऑफिस के निकट) प्रखंड चार कार्यालय में अपना आधार नामांकन जमा करा सकते हैं।

बॉक्स

अपात्रों को जल्द मिल सकता है मौका

वह दिन दूर नही जब आगरा और आजमगढ़ की तर्ज पर इलाहाबाद के पात्रों को भी सूची में शामिल होने का मौका मिलेगा। माना जा रहा है कि आधार सीडिंग नही कराने वाले अधिकतर लाभार्थी फर्जी हैं और उनका नाम जून तक कट जाएगा। इसके बाद वेबसाइट दोबारा खुलेगी और नए पात्रों को आवेदन करने का मौका मिलेगा।

fact file

जिले में कुल पात्र- 44 लाख

कुल राशन कार्ड- 10.44 लाख

कुल आधार सीडिंग- 66.5 फीसदी

शेष लाभार्थी- 33.5 फीसदी यानी लगभग 15 लाख

अभी तक कोटेदारों के पास आधार नामांकन जमा किया जाता था लेकिन अब प्रखंड कार्यालयों में आकर अपना आधार सीडिंग कराया जा सकता है। इससे जनता का समय बचेगा और कोटेदारों की मनमानी भी खत्म होगी।

-नीलेश उत्पल,

एआरओ, आपूर्ति विभाग इलाहाबाद

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.