खर्च करें रुपए हजार और उड़ाएं हवाई जहाज

2015-01-28T07:02:28Z

RANCHI अगर आपमें एडवेंचर और साइंस से जुड़ा पैशन है। आप जहाज उड़ाने का शौक रखते हैं। आप जानना चाहते हैं कि फ्लाइट कैसे उड़ती है, तो आपके लिए खुशखबरी है। झारखंड गवर्नमेंट सिविल एविएशन डिपार्टमेंट ने एयरपोर्ट के पास स्थित स्टेट हैंगर में एयरो मॉडलिंग कोर्स शुरू किया है। इसका मेंबर बन कर आप एयर मॉडलिंग कर सकते हैं।

मंगलवार को नगर विमानन विभाग के सेक्रेटरी सजल चक्रवर्ती ने बताया कि देश के बाकी शहरों की तर्ज पर रांची में भी एयरो मॉडलिंग की शुरुआत की गई है। जहां पर लोग एयरो मॉडलिंग के जरिए रिमोट कंट्रोल और ट्रांसमीटर के जरिए छोटे हवाई जहाज उड़ाने का मजा ले सकते हैं।

क्या है एयरो मॉडलिंग

एयरो मॉडलिंग एक हॉबी है। इसमें छोटे और खासकर हाथ से बने प्लेन जिसको टॉय प्लेन भी कहते हैं को हवा में गैस, बैट्री और एयरोक्राफ्ट फ्यूल से 200 किलोमीटर की रफ्तार से उड़ा सकते हैं। इसे रिमोट कंट्रोल और ट्रांसमीटर के जरिए कंट्रोल किया जाता है। यह प्लेन एक बार उड़ान भरने के बाद करीब 10 से लेकर 15 मिनट तक हवा में कलाबाजी करता है। इसको एक किलोमीटर के रेडियस में भी उड़ाया जाता है। यह बहुत ही रोमांचक होता है।

स्टूडेंट्स को मिलेगा फायदा

एयरो मॉडलिंग का सबसे ज्यादा फायदा बच्चों को होता है। बच्चे टॉय प्लेन को हवा में उड़ाते हैं। जो बड़े प्लेन की तरह स्टेट हैंगर में होता है। इससे बच्चों का एयर विंग में इंट्रेस्ट बढ़ता है। बच्चे इसी बहाने एयरपोर्ट और स्टेट हैंगर आते हैं। वह प्लेन को करीब से देखते और जानते हैं। इससे उनका इंट्रेस्ट इस फील्ड में बढ़ता है। यह कहना है सिविल एविएशन डिपार्टमेंट के सेक्रेटरी सजल चक्रवती का। जिनके प्रयास से रांची में एयरो मॉडलिंग पहली बार शुरू किया गया है।

यह है कोर्स स्ट्रक्चर

स्टेट हैंगर में शुरू होने जा रहे एयरो मॉडलिंग के लिए स्टूडेंट्स के अलावा नौकरी पेशा कोई भी व्यक्ति मेंबर बन सकता है।

बेसिक कोर्स

एयरो मॉडलिंग का बेसिक कोर्स 10 महीने का है। इसकी फी 100 रुपए महीना है। इसमें शुरुआत में कैटापुल ग्लाइडर, टो लाइन ग्लाइडर और फ्री फ्लाइट ग्लाइडर उड़ाने की ट्रेनिंग दी जाएंगी।

एडवांस कोर्स

यह कोर्स चार महीने का होगा। इसमें 250 रुपए महीना फी लगेगा। इसमें आरसी पावर ग्लाइडर, आरसी एयरोबेटिक उड़ान की ट्रेनिंग मिलेगी।

हॉबी मेंबर

इसके साथ ही 100 रुपए महीने की फी देकर एयरो मॉडलिंग का हॉबी मेंबर भी बना जा सकता है।

वर्जन

लोग जान पाएंगे कैसे उड़ते हैं जहाज

प्लेन कैसे उड़ते हैं। काश, मैं भी इसे उड़ा पाता। यह चाहत बच्चों से लेकर बड़ी उम्र के लोगों तक में होती है। यह बहुत ही रोमांचक नशा है। इसके लिए एयरो मॉडलिंग कोर्स करना पड़ता है। इसमें छोटे-छोटे जहाज का मॉडल बनाकर पूरी तरह कंट्रोल सिस्टम से जोड़ कर हवा में उड़ाया जाता है। रांची में स्टेट हैंगर में यह शुरू किया जा रहा है। जो लोग इंट्रेस्ट रखते हैं, वे यहां पर अपना एडमिशन करा सकते हैं।

-सजल चक्रवर्ती, सेक्रेटरी, सिविल एविएशन डिपार्टमेंट, झारखंड गवर्नमेंट


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.