मांग रहे थे एक करोड़ अब पड़ेंगे कोड़े

2019-03-02T06:00:52Z

25

फरवरी को दिनदहाड़े हुआ था व्यापारी का अपहरण

4.95

लाख रुपये फिरौती में वसूल लिये थे व्यापारी के परिजनो से

04

आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, एक महिला भी शामिल

03

तमंचे बरामद हुए बदमाशों के पास से

10

जिंदा कारतूस व एक खोखा भी मिला

04

चार मोबाइल अपहरणकर्ताओं के पुलिस ने जब्त किये

01

स्विफ्ट डिजायर गाड़ी पुलिस ने कब्जे में ली

तीन दिन पहले हुआ था शराब कारोबारी का अपहरण

वाराणसी से पकड़े गये अपहर्ता, सोनभद्र से छूटा व्यापारी

PRAYAGRAJ: 25 फरवरी को दिनदहाड़े असलहों के दम पर धनूपुर से अपहृत शराब कारोबारी को पुलिस ने शुक्रवार को सकुशल रिहा कराने में कामयाबी हासिल कर ली। पुलिस को कारोबारी सोनभद्र में मिला। उस पर निगाह रखने के लिए तैनात महिला को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। पुलिस ने फिरौती की पहली किश्त के पैसे लेकर निकले तीन अपहर्ताओं को वाराणसी-भदोही जिले की सरहद से गिरफ्तार किया है। उनके पास से 4.95 लाख रुपये भी बरामद किये हैं। पुलिस का कहना है कि घेराबंदी करने पर बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग भी की। इस पर हंडिया कोतवाली में उनके खिलाफ कुल चार मामले दर्ज किये गये हैं। पुलिस कप्तान ने कारोबारी की रिहाई में शामिल पुलिसकर्मियों का हौसला अफजाई करते हुए उन्हें पुरस्कृत करने की घोषणा की है।

वसूल चुके थे फिरौती की पहली किश्त

अपहृत कारोबारी का नाम बसंत लाल बताया गया है। वह हंडिया एरिया के धनूपुर के रहने वाले हैं। पुलिस ने ऑफिशियली उनका कारोबार बताया नहीं लेकिन सूत्रों का कहना है कि वह शराब के कारोबार से जुड़े हैं और लम्बा चौड़ा नेटवर्क है। चार पहिया वाहन सवार बदमाशों ने 25 फरवरी को उनको असलहे के दम पर अगवा कर लिया था। इसकी सूचना से हड़कंप मच गया था। पुलिस ने कारोबारी का पता लगाने के लिए पूरी ताकत झोंक दी थी। हंडिया के साथ क्राइम ब्रांच को भी लगाया गया था। पुलिस के अनुसार अपहरणकर्ताओं ने 27 फरवरी को व्यापारी के परिजनों से सपंर्क किया और फिरौती के रूप में एक करोड़ रुपये मांगे। पहली किश्त के रूप में पांच लाख रुपये का भुगतान किया गया। यह रकम लेकर व्यापारी का भतीजा शिवम वाराणसी जिले के लोहता तक गया था।

वाराणसी से शुरू हुआ पीछा

पुलिस को डील की भनक लग गयी तो वह पीछा करने लगी। पांच लाख रुपये हैंडओवर होने के बाद बदमाश स्विफ्ट डिजायर से रामेश्वर चौकी की तरफ निकले तो पुलिस पीछे लग गयी। एसएसपी के अनुसार पीछा कर रही पुलिस को वरुणा नदी मोड़ के पास गाड़ी खड़ी दिखी। बदमाशों को पुलिस के पीछा करने का एहसास हुआ तो वे फिर से गाड़ी में आकर बैठ गये और वाराणसी-इलाहाबाद हाईवे पकड़ लिया। पुलिस के अनुसार भीटी चौराहे पर पुलिस ने ओवरटेक कर बदमाशों की गाड़ी को रोक लिया तो उन्होंने बचने के लिए पुलिस पर फायर झोंक दिया। पुलिस ने सामने से मोर्चा संभाला और फाइनली गाड़ी के साथ तीन को पकड़ लिया।

सहयोगी महिला भी गिरफ्तार

पकड़े गए बदमाशों में बृजेश मिश्र पुत्र राजेंद्र मिश्र निवासी राजापुर चोलापुर वाराणसी, रोशन सिंह पुत्र रामसनेही सिंह उर्फ लोहा सिंह निवासी महामनापुरी कॉलोनी हैदराबाद बीएचयू सुसुवाही लंका वाराणसी व आकाश मौर्य पुत्र स्व। नन्दलाल मौर्य निवासी कोईरीपुरकला थाना बड़गांव शामिल हैं। पूछताछ में तीनों ने पुलिस को बताया कि बसंतलाल को सोनभद्र स्थित संतनगर गुरमा थाना राबर्टसगंज निवासी महिला शशि पांडेय पत्‍‌नी राकेश पांडेय के घर उसी की देखरेख में रखा गया था। पुलिस ने शशि पांडेय को भी गिरफ्तार कर लिया है। बदमाशों ने शिवम द्वारा दिए गए पांच लाख रुपए में से पांच हजार खर्च कर दिया था।

पुलिस टीम ने कारोबारी को सकुशल बरामद कर लिया है। एक महिला समेत चार अन्य गिरफ्तार किये गये हैं। बाकियों की गिरफ्तारी के लिए टीमें लगा दी गयी हैं। जल्द ही वे भी गिरफ्त में होंगे।

अतुल शर्मा, एसएसपी प्रयागराज


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.