एकेटीयू हर साल 30 हजार स्टूडेंट्स का करवाएगा प्लेसमेंट

2019-06-27T06:01:00Z

- गूगल, फेसबुक और एमेजॉन जैसी बड़ी कंपनियों के साथ एकेटीयू करेगा करार

- टेक्निकल शिक्षा मंत्री ने गिनाई विभाग की उपलब्धियां और बताई भविष्य की योजनाएं

LUCKNOW : स्टेट के करीब 600 इंजीनिय¨रग व मैनेजमेंट कॉलेजों के स्टूडेंट्स को अब रोजगार के लिए और अधिक अवसर मिलेंगे। एकेटीयू से संबद्ध इन कॉलेजों में अब हर साल 30 हजार स्टूडेंट्स के प्लेसमेंट करवाए जाएंगे। स्टूडेंट्स को नौकरी भी नामचीन कंपनियों में मिलेगी। इसमें गूगल, एमेजॉन व फेसबुक जैसी टॉप कंपनियों से एमओयू किया गया है। यह जानकारी टेक्निकल शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन गोपाल ने दी। लोक भवन के मीडिया सेंटर में टेक्निकल शिक्षा विभाग की एक वर्ष की उपलब्धियां और भविष्य की योजनाओं को उन्होंने पत्रकारों के साथ साझा किया।

टेक्निकल एजुकेशन में 44.42 प्रतिशत स्टूडेंट्स को दिलाया जाएगा रोजगार

टेक्निकल शिक्षा मंत्री ने बताया कि अभी हर साल 10 हजार स्टूडेंट्स का विभिन्न कंपनियों में प्लेसमेंट कराया जा रहा है। केंद्रीय प्लेसमेंट सेल को और मजबूत बनाते हुए रोजगार के अवसर बढ़ाए जाएंगे। यूनिवर्सिटी इंडस्ट्री इंटरफेस सेल भी बनाया गया है। इसके साथ ही पॉलीटेक्निक संस्थानों में भी स्टूडेंट्स को रोजगार दिलाया गया। बीते वर्ष राजकीय व अनुदानित पॉलीटेक्निक संस्थाओं में 16278 पास हुए, जिसमें से 7230 कुल 44.42 फीसद को रोजगार दिलाया गया। इस वर्ष अंतिम वर्ष में अध्ययनरत 19155 स्टूडेंट्स में से 4838 यानी 25 फीसद विद्यार्थी कैंपस इंटरव्यू के माध्यम से सत्रावसान के पूर्व ही नौकरी पा चुके हैं। पॉलीटेक्निक में राज्य प्लेसमेंट सेल व 10 बड़ी संस्थाओं में क्षेत्रीय प्लेसमेंट सेल बनाए गए हैं। वहीं एकेटीयू विदेश के नामचीन उच्च शिक्षण संस्थानों से एमओयू कर साझा शिक्षण व शोध कार्य को बढ़ावा देगा। मंत्री के साथ एकेटीयू के वीसी प्रो। विनय कुमार पाठक व टेक्निकल शिक्षा सचिव भुवनेश कुमार मौजूद रहे।

ऑनलाइन टीचिंग पर फोकस

विभाग तकनीकी यूनिवर्सिटी के साथ-साथ पॉलीटेक्निक संस्थाओं में भी ऑनलाइन टीचिंग व लर्निग पर जोर दे रहा है। 47 पॉलीटेक्निक संस्थानों में वर्चुअल क्लास रूम बनाए गए। 49 पॉलीटेक्निक संस्थाओं में लैंग्वेज लैब बनाई गई हैं। एकेटीयू के लखनऊ व नोएडा कैंपस में अत्याधुनिक शैक्षिक स्टूडियो बनाया गया है। इसके अलावा नेशनल बोर्ड ऑफ एक्रिडिएशन (एनबीए) से मूल्यांकन कराने के बाद एचबीटीयू, एमएमएमटीयू और यूपीटीटीआई में विभिन्न कोर्सेज की ब्रांच में बढ़ोतरी हुई। अब 2022 तक सभी सरकारी इंजीनिय¨रग कॉलेजों का एनबीए से मूल्यांकन करवाया जाएगा।

पांच सौ छात्रों को दिया जाएगा लैपटॉप

प्राविधिक शिक्षा विभाग इस साल 500 छात्रों को लैपटॉप देने जा रहा है, जिसमें इंजीनियरिंग कॉलेज के 200 स्टूडेंट्स एवं पॉलीटेक्निक के 300 स्टूडेंट्स को दिया जाएगा। यह लैपटॉप मेरिट में आने वाले स्टूडेंट्स को ही दिया जाएगा। 29 पॉलीटेक्निक नए भवनों में शिफ्ट हो चुके हैं जबकि 51 का निर्माण कार्य जारी है। प्रदेश के राजकीय पॉलीटेक्निक में कंप्यूटर लाइव के लिए 13 सौ कंप्यूटर दिए गए हैं। साथ ही वर्चुअल क्लासेस भी शुरू करा दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि नैक से मूल्यांकन की दिशा में प्रयास किये जा रहे हैं। इस वर्ष 6 नये राजकीय कॉलेजों का निर्माण कराया जा रहा है जबकि 23 नये कॉलेजों को खोलने की घोषणा मुख्यमंत्री की तरफ से की गयी है। इस दौरान उन्होंने प्राविधिक शिक्षा की उपलब्धियों पर एक पुस्तक का भी विमोचन किया।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.