केदारनाथ से सभी निकाले गए सुरक्षित

2013-06-26T14:56:00Z

उत्तराखंड में मची तबाही और बचाव के दौरान हेलीकॉप्टर क्रैश की दुखद घटनाओं के बीच वायु सेना अध्यक्ष एनएकेब्राउन और आइटीबीपी के डीआइजी इंद्र सिंह नेगी ने राहत की खबर दी है ब्राउन ने बुधवार को गौचर में कहा कि केदारनाथ से सभी लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है अब बदरीनाथ में राहत कार्य चलाया जाएगा उन्होंने बताया कि मौसम ने साथ दिया तो चार दिन के अंतराल में राहत एवं बचाव कार्य पूरा कर लिया जाएगा बदरीनाथ में अभी भी करीब चार हजार लोग अलगअलग स्थानों में फंसे हुए हैं

रेस्क्यू ऑपरेशन जारी रहेगा
इधर, एयर चीफ मार्शल ने कहा कि आपदा प्रभावित क्षेत्रों में रेस्क्यू ऑपरेशन जारी रहेगा. महिलाओं और बुजुगों के साथ ही घायलों और बच्चों को पहले सुरक्षित स्थानों पर ले जाने का प्रयास किया जा रहा है. इस दौरान वायुसेना अध्यक्ष ब्राउन ने कहा कि ये दुर्घटना सेना के मंसूबों को नहीं तोड़ सकेगी. सेना उसी जज्बे के साथ जान पर खेल कर आपदा में फंसे लोगों की जान बचाएगी.

कमांडो घटनास्थल के लिए रवाना
ब्राउन ने हेलीकॉप्टर में सवार सभी 20 लोगों के मौत की पुष्टि की है. उन्होंने कहा कि 13 शव बरामद किए गए है और शेष को ढूंढने के लिए चार हेलीकॉप्टर और कुछ कमांडो घटनास्थल के लिए रवाना कर दिए गए हैं. उन्होंने कहा कि हेलीकॉप्टर का डेटा वॉयस रिकॉर्डर मिल गया है और इसे जांच के लिए चंडीगढ़ भेजा गया है.
मृतकों के परिजनों को 10 लाख मुआवजा
इधर, उत्तराखंड सरकार ने हेलीकॉप्टर में दुर्घटनाग्रस्त हुए शहीद जवानों के सम्मान में एक दिन का राजकीय शोक घोषित किया है और मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये मुआवजा देने का ऐलान किया है.
भारी बारिश का अंदेशा
दूसरी ओर मौसम विभाग के मुताबिक उत्तराखंड में आज भी भारी बारिश हो सकती है. अगले कुछ दिनों के भीतर उत्तर-पश्चिम और मध्य भारत के कई इलाकों में भारी बारिश का अंदेशा है. बताया जा रहा है कि बदरीनाथ में चार और हर्षिल में सात हेलीकॉप्टर की मदद से फंसे यात्रियों को निकालने का काम आज भी जारी है. अभी भी इन दोनों मार्गो पर पांच हजार लोग फंसे हैं. वहीं, आज केदारनाथ में शवों की अंत्येष्टि हो सकती है.
केदारनाथ के लिए उड़ा था हेलीकॉप्टर
उत्तराखंड में बड़ी संख्या में लोगों के फंसे होने की वजह से इसकी सेवाएं ली गई. राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एम शशिधर रेड्डी के अनुसार हेलीकॉप्टर में वायुसेना के चालक दल व अन्य कर्मियों के साथ आइटीबीपी और एनडीआरएफ के जवान भी थे. यह हेलीकॉप्टर राहत सामग्री और अंतिम संस्कार का सामान लेकर गौचर से केदारनाथ के लिए उड़ा था. केदारनाथ से वापसी के दौरान यह गौरीकुंड के तोशी गांव के नजदीक दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. शहीद हुए जवानों में नौ एनडीआरएफ, छह आइटीबीपी और पांच एयरफोर्स के अधिकारी शामिल थे.
शहीद वायुसेना कर्मियों की सूची :
1. विंग कमांडर डेरेल केस्टेलीनो
2. फ्लाइट लेफ्टिनेंट प्रवीण
3. फ्लाइट लेफ्टिनेंट पी कपूर
4. जूनियर वारंट ऑफीसर एके सिंह
5. सार्जेट सुधाकर



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.