आखिर हम कब देंगे इस हत्या का जवाब

2013-05-03T12:23:18Z

Allahabad चाइना 19 किमी तक हमारी सीमा में घुसकर बैठा है हमारे सैनिकों का सिर काटकर पाकिस्तानी सैनिक ले जाते हैं और अब सरबजीत की जेल के अंदर हत्या कर दी जाती है फिर भी हम खामोश बैठे हैं जब तक हम बुदजिल की तरह बैठे रहेंगे तब तक लोग हमारा माखौल उड़ाते रहेंगे यह कहना है सिंह सभा के प्रेसीडेंट सरदार जोगिंदर सिंह का सरबजीत की मौत से लोग गुस्से में हैं थर्सडे को सिटी में जगहजगह प्रदर्शन किए गए प्रदर्शन में जहां पाकिस्तान की निंदा की गई वहीं इंडियन गवर्नमेंट के ढु़लमुल रवैये के खिलाफ भी नाराजगी जाहिर की गई हर कोई बस एक ही बात कह रहा था कि आखिर हमारी गवर्नमेंट कब आक्रामक रुख अख्तियार करेगी आखिर कब हम ईट का जवाब पत्थर से देना सीखेंगे?

अमेरिका तक से आ रहे हैं फोनसरबजीत की मौत से सिर्फ इंडिया में ही लोग गुस्से में नहीं है, बल्कि इंडियन ओरिजीन के एनआरआई भी बेहद नाराज हैं. सरदार जोगिंदर सिंह बताते हैं कि मेरे पास अमेरिका से कई रिलेटिव्स के फोन आए हैं. सब कहते हैं कि कैसा सरदार क्र(प्राइम मिनिस्टरक्र) बैठा रखा है, जो पड़ोसी देशों के इतने दुस्साहस के बाद भी शांत बैठा हुआ है. आक्रोशित लोगों ने सिविल लाइंस में पाकिस्तानी गवर्नमेंट का पुतला दहन किया, वहीं इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में भी इस इश्यू पर नाराज स्टूडेंटस ने पाकिस्तान गवर्नमेंट की शवयात्रा निकालकर इस घटना का जबरदस्त विरोध किया. हर कोई इस दुस्साहस का पाक को जवाब दिए जाने की डिमांड कर रहा है. 
घटना नहीं साजिश है23 साल में सरबजीत एक ऐसा नाम था जो हर किसी की जुबान तक पहुंच चुका था. ऐसे में उसकी मौत ने सभी को झकझोर कर रख दिया है. लॉ के स्टूडेंट्स सुनील निगम शक जाहिर करते हैं कि यह घटना नहीं बल्कि साजिशन हत्या है. वह बताते हैं कि छह कैदियों के सरबजीत पर जानलेवा हमला करने की बात सामने आई है. लेकिन यह हमला क्यों किया गया? सरबजीत 23 साल से जेल में बंद था? जिन लोगों ने हमला किया वह अब जेल में आए थे? अगर वह भी पुराने कैदी थे तो फिर हमला क्यों किया? अगर नए थे तो क्या प्लांड वे में उनको लाया गया था? बहुत से सवाल हैं जिनके जवाब हिंदुस्तानियों को चाहिए. वह कहते हैं कि इंडियन गवर्नमेंट को डिप्लोमेटिक अंदाज में इसका पता जरूर लगाना चाहिए. 
हम कब तक बात करते रहेंगे? भले ही चाइना हमसे मजबूत हो, लेकिन हम बेइज्जती बर्दाश्त नहीं कर सकते. एयू की स्टूडेंटस पूजा कहती हैं कि समझ में नहीं आता है कि मामला चाहे जितना भी सीरियस हो, हम हर बात से ही समस्या का हल निकालने की इच्छा क्यों जाहिर करते रहते हैं. यकीन मानिए, मुझे तो लगने लगा है कि हम कमजोर हैं. सरदार अजीत सिंह कहते हैं कि यह सरासर अन्याय है. अगर पाकिस्तान की जेल तक सुरक्षित नहीं है तो उसको किसी को कैदी बनाने का भी कोई अधिकार नहीं है. सरबजीत की मौत के प्रति उसको जवाबदेह होना ही पड़ेगा.  

अमेरिका तक से आ रहे हैं फोन

सरबजीत की मौत से सिर्फ इंडिया में ही लोग गुस्से में नहीं है, बल्कि इंडियन ओरिजीन के एनआरआई भी बेहद नाराज हैं. सरदार जोगिंदर सिंह बताते हैं कि मेरे पास अमेरिका से कई रिलेटिव्स के फोन आए हैं. सब कहते हैं कि कैसा सरदार क्र(प्राइम मिनिस्टरक्र) बैठा रखा है, जो पड़ोसी देशों के इतने दुस्साहस के बाद भी शांत बैठा हुआ है. आक्रोशित लोगों ने सिविल लाइंस में पाकिस्तानी गवर्नमेंट का पुतला दहन किया, वहीं इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में भी इस इश्यू पर नाराज स्टूडेंटस ने पाकिस्तान गवर्नमेंट की शवयात्रा निकालकर इस घटना का जबरदस्त विरोध किया. हर कोई इस दुस्साहस का पाक को जवाब दिए जाने की डिमांड कर रहा है. 

घटना नहीं साजिश है

23 साल में सरबजीत एक ऐसा नाम था जो हर किसी की जुबान तक पहुंच चुका था. ऐसे में उसकी मौत ने सभी को झकझोर कर रख दिया है. लॉ के स्टूडेंट्स सुनील निगम शक जाहिर करते हैं कि यह घटना नहीं बल्कि साजिशन हत्या है. वह बताते हैं कि छह कैदियों के सरबजीत पर जानलेवा हमला करने की बात सामने आई है. लेकिन यह हमला क्यों किया गया? सरबजीत 23 साल से जेल में बंद था? जिन लोगों ने हमला किया वह अब जेल में आए थे? अगर वह भी पुराने कैदी थे तो फिर हमला क्यों किया? अगर नए थे तो क्या प्लांड वे में उनको लाया गया था? बहुत से सवाल हैं जिनके जवाब हिंदुस्तानियों को चाहिए. वह कहते हैं कि इंडियन गवर्नमेंट को डिप्लोमेटिक अंदाज में इसका पता जरूर लगाना चाहिए. 

 

हम कब तक बात करते रहेंगे? 

भले ही चाइना हमसे मजबूत हो, लेकिन हम बेइज्जती बर्दाश्त नहीं कर सकते. एयू की स्टूडेंटस पूजा कहती हैं कि समझ में नहीं आता है कि मामला चाहे जितना भी सीरियस हो, हम हर बात से ही समस्या का हल निकालने की इच्छा क्यों जाहिर करते रहते हैं. यकीन मानिए, मुझे तो लगने लगा है कि हम कमजोर हैं. सरदार अजीत सिंह कहते हैं कि यह सरासर अन्याय है. अगर पाकिस्तान की जेल तक सुरक्षित नहीं है तो उसको किसी को कैदी बनाने का भी कोई अधिकार नहीं है. सरबजीत की मौत के प्रति उसको जवाबदेह होना ही पड़ेगा.  


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.