2550 लाख के लुटेरे हैं अंशुल के हत्यारे

2016-01-16T02:10:09Z

- गुरुवार को निवाड़ी में हुए एनकाउंटर में घायल बदमाश ने हत्याकांड कबूला

-गाजियाबाद पहुंची किठौर पुलिस, मास्टरमाइंड की डॉक्टर की तलाश में दबिश

Meerut: मेरठ में लॉ एंड ऑर्डर का दावा कर रहे अफसरों के लिए आइना है गाजियाबाद पुलिस का खुलासा। बीते रविवार परीक्षितगढ़ के कारोबारी अंशुल के हत्यारों को तलाशने में नाकाम पुलिस खुलासे के बाद मुंह छिपाती घूम रही है। असल में खरखौदा के लूटकांड और अंशुल के हत्यारे एक ही हैं। गुरुवार को एनकाउंटर के बाद पकड़ में आए बदमाश विकास उर्फ विक्की ने न सिर्फ घटना को कबूला बल्कि मास्टरमाइंड का नाम भी बताया। चारों बदमाश अंशुल हत्याकांड में शामिल थे।

विक्की ने किया वारदात का खुलासा

रविवार शाम करीब साढे़ चार बजे परीक्षितगढ़ के तेल कारोबारी की किठौर के समीप गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्या को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं थी तो मेरठ समेत कारोबारियों और जनप्रतिनिधियों के दबाव के बाद पुलिस खुलासे को आज-कल पर टाल रही थी। शुक्रवार इस हत्याकांड का भी खुलासा हो गया। मृतक के परिजनों समेत दबाव दे रहे लोगों को पुलिस गुमराह कर रही थी। हत्यारे तो पुलिस मुख्यालय से महज तीन किमी की दूरी पर एक मैरिज होम के पीछे टिके थे। विक्की ने स्वीकारा कि अंशुल को पहली गोली कंधे में मारकर रुपयों से भरा बैग देने के लिए कहा, उसने मना किया तो सिर में गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। मास्टर माइंड पुलकित उर्फ डॉक्टर का नाम सामने आया है। पुलकित ही बदमाशों को केस देता था।

20 लाख लूटने को घेरा अंशुल

गुरुवार को खरखौदा थानाक्षेत्र स्थित बिजली बंबा बाईपास पर स्विफ्ट सवार चार बदमाशों ने मीट कारोबारी से 25.50 लाख रुपये लूट लिए। वारदात को अंजाम देकर बदमाश मोदीनगर की ओर भागे निवाड़ी थाने के समीप एनकाउंटर में गाजियाबाद पुलिस ने तीन को धर दबोचा, जबकि एक फरार हो गया। बदमाश विक्की ने खुलासा किया कि मेरठ का पुलकित जो कोतवाली क्षेत्र के बुढ़ाना गेट का निवासी है लिसाड़ी गेट क्षेत्र के मैरिज होम में मीटिंग करता था। शातिर बदमाशों में विक्की एक्सपर्ट कार ड्राइवर है, जबकि अंशुल को गोली मारने वाला अक्षय त्यागी शार्प शूटर है। इस गैंग का लीडर प्रदीप है, विक्की उर्फ गंजा भी शार्प शूटर है।

20 लाख की मिली रेकी

विक्की ने बताया कि गप्पी ने बीते शनिवार हमें (चारों बदमाशों को) फोन कर मेरठ बुलाया। लिसाड़ी गेट के मैरिज होम में मीटिंग हुई और बताया कि लाला (अंशुल) हर शनिवार किठौर और शाहजहांपुर की मार्केट से 20 लाख कैश लेकर शाम को वापस परीक्षितगढ़ जाता है। अंशुल की गाड़ी का नंबर भी गप्पी ने ही बताया। बताया कि हम ऐची पुलिया पर खड़े हो गए और इंतजार करने लगे। करीब साढ़े चार बजे अंशुल वहां से गुजरा। बदमाशों की मंशा भांपकर अंशुल ने गाड़ी वापस किठौर की और दौड़ा दी। विक्की ने बताया कि हमने उसका पीछा किया और थोड़ी दूर आगे जाकर गाड़ी को ओवरटेक कर अंशुल की कार को रोक लिया।

कनपटी पर मारी गोली

विक्की ने बताया कि प्रदीप, विक्की उर्फ गंजा और अक्षय त्यागी ने अंशुल की कार को घेर लिया। एक फायर अक्षय ने पिस्टल से अंशुल की झोंका, गोली उसके हाथ में लगी, इस बीच बदमाशों ने गाड़ी को खंगाल लिया। कैश नहीं मिला तो अंशुल पर कनपटी पर पिस्टल रखकर अक्षय ने पूछा कि थैला कहां हैं। कारोबारी ने कहा कि कैश नहीं है, यह सुनते ही अक्षय ने ट्रिगर दबा दिया और गोली ने अंशुल की कनपटी को उड़ा दिया।

हत्याकर पहुंचे मेरठ

विक्की ने बताया कि गोली की आवाज से आसपास लोग इकट्ठे होने लगे। तत्काल परीक्षितगढ़ की ओर गाड़ी मोड़ दी और मवाना होते हुए मेरठ और फिर दिल्ली पहुंच गए। ऑपरेशन फेल होने पर गप्पी ने 13 जनवरी को दोबारा मेरठ बुलाया। जिस पर हम लोग रात में ही मेरठ आ गए। मैरिज होम के पीछे रात में रुके और मीट कारोबारी को लूटने की योजना बना ली। गप्पी की रेकी पर आस मोहम्मद से 25.50 लाख रुपये लूट लिए। विक्की ने बताया कि आस मोहम्मद से एक करोड़ रुपये मिलने की बात गप्पी ने कही थी।

गाजियाबाद पुलिस ने अंशुल हत्याकांड के संबंध में खुलासे की जानकारी दी। थाना पुलिस ने वहां जाकर जानकारी हासिल की। पुलकित उर्फ डॉक्टर की तलाश में दबिश दी जा रही है।

सुमेर सिंह यादव, एसओ, थाना किठौर


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.