Cyclone Amphan प्रभावित बंगाल में मिशन पर सेना व NDRF की टीमें

पश्चिम बंगाल में अम्फान प्रभावित कुछ जगहों पर भारतीय सेना व एनडीआरएफ की टीम ने रीस्टोरेशन का काम शुरु कर दिया है।

Updated Date: Sun, 24 May 2020 06:52 PM (IST)

कोलकाता (पीटीआई)। सेना और एनडीआरएफ की टीमों ने रविवार को वन विभाग और नागरिक एजेंसियों को पश्चिम बंगाल में फिर से अपने पैरों पर खड़ा होने में मदद की। एनडीआरएफ की टीम ने सॉल्ट लेक, बेहला और गोलपार्क जैसे इलाकों में काम कर रही है। टीम ने चक्रवार की वजह से सड़कों पर उखड़े पड़े पेड़ों को हटाया ताकि यातायात में कोई कठिनाई न हो। एक रक्षा अधिकारी ने कहा कि एनडीआरएफ की टीम सड़क और पेड़ की निकासी के उपकरणों से लैस है। जवानों ने राय बहादुर रोड और बेहाला के पर्णश्री, दक्षिण कोलकाता के बल्लीगंज और साल्ट लेक इलाके में काम करना शुरू कर दिया।

पश्चिम बंगाल की ये तीन जगह ज्यादा प्रभावित रही

पश्चिम बंगाल सरकार ने द्वारा चक्रवात अम्फान द्वारा तबाह राज्य में आवश्यक बुनियादी ढांचे और सेवाओं की तत्काल बहाली के लिए मदद और अन्य सहायता मांगी थी। इसके घंटों बाद शनिवार को कोलकाता और पड़ोसी जिलों में सेना को तैनात किया गया था। एक रक्षा अधिकारी ने कहा कि सेना के पांच स्तंभ शहर व उत्तर और दक्षिण के 24 परगना जिलों के विभिन्न हिस्सों में तैनात किए गए थे। राज्य के इन तीन हिस्सों ने चक्रवात के कारण अधिकतम नुकसान की सूचना दी थी। बता दें कि वन विभाग और कोलकाता नगर निगम ने भी अपने कर्मचारियों को सड़क निकासी के काम में लगा दिया है।

शहर के कई हिस्सों में बिजली व पानी की परेशानी

शहर के कई हिस्सों में बिजली और पानी की आपूर्ति प्रभावित रही। उत्तेजित निवासियों ने शनिवार को दोपहर के बाद से बिजली और पानी की आपूर्ति की बहाली की मांग करते हुए दक्षिण कोलकाता के कई क्षेत्रों में सड़कों के यातायात को रोक दिया। दक्षिण कोलकाता में मुदियाली जैसी जगहों पर स्थानीय लोगों ने आरी से काट कर उखड़े हुए पेड़ों को हटाने का प्रयास किया। दक्षिण 24 परगना, उत्तर 24 परगना और पूर्वी मिदनापुर के कई स्थानों पर भी शहर के कुछ इलाकों में मोबाइल और इंटरनेट सेवाएं बहाल कर दी गईं।

पीएम मोदी ने हवाई यात्रा कर जाना प्रभावित जगहों का हाल

शुक्रवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस स्थिति को राष्ट्रीय आपदा से ज्यादा ही कुछ बताया और अनुमानित नुकसान को 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक बताया। उन्होंने कहा था कि चक्रवात से छह करोड़ से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। बनर्जी के साथ प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को दक्षिण और उत्तर 24 परगना जिलों में प्रभावित क्षेत्रों का हवाई यात्रा कर वहां का हाल लिया था।

Posted By: Vandana Sharma
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.