शीला दीक्षित की इच्छा का सम्मान 230 बजे सीएनजी विधि से होगा अंतिम संस्कार

2019-07-21T11:44:06Z

कांग्रेस की कद्दावर नेता शीला दीक्षित का शनिवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। ऐसे में आज रविवार को उनका अंतिम संस्कार उनकी इच्छानुसार सीएनजी विधि से किया जाएगा।

नई दिल्ली (एएनआई)।  कांग्रेस की नेता शीला दीक्षित की इच्छा का सम्मान करते हुए उनका अंतिम संस्कार रविवार को दोपहर 2.30 बजे शहर के सबसे पुराने श्मशान घाट निगमबोध घाट पर सीएनजी विधि से किया जाएगा। शीला दीक्षित के बेटे और कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित ने कहा कि शीला दीक्षित का अंतिम संस्कार रविवार दोपहर 2.30 बजे निगम बोध घाट पर स्थापित कम्प्रेस्ड नेचुरल गैस (CNG) मशीन का उपयोग करके किया जाएगा।
शीला दीक्षित ने दिल्ली को प्रदूषण मुक्त बनाने का प्रयास किया

दिल्ली को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए शीला दीक्षित ने ही मुख्यमंत्री रहते हुए सीएनजी की शुरुआत की थी। वहीं 2012 में घाट पर स्थापित की गई सीएनजी मशीन पर्यावरण के अनुकूल है। हालांकि अभी भी बहुत से लोग इसे हिंदू रीति-रिवाजों के खिलाफ होने का हवाला देते हुए दाह संस्कार की पारंपरिक पद्धति अपनाते हैं।यह मशीन लकड़ी के बजाय प्राकृतिक गैस का उपयोग करती है, जिससे अंतिम संस्कार की चिता की तुलना में कम प्रदूषण होता है।
शीला दीक्षित के निधन पर दिल्ली में दो दिनों का राजकीय शोक, रविवार को होगी अंतिम विदाई
पार्थिव शरीर को रविवार को एआईसीसी मुख्यालय में रखा जाएगा
शीला दीक्षित के पार्थिव शरीर को आज एआईसीसी मुख्यालय में रखा जाएगा। शीला दीक्षित ने शनिवार को शाम 3.55 पर  दुनिया को अलविदा कह दिया था। शीला 1998 से 2013 तक लगातार तीन बार दिल्ली की सीएम रहीं। उन्होंने दिल्ली को आगे बढ़ाने में कोई कोर कसर नहीं छोडी। राजधानी के बढ़ते बुनियादी ढांचे सड़क, फ्लाईओवर और बेहतर सार्वजनिक परिवहन प्रणाली शामिल जैसे चीजों को मजबूत करने का श्रेय इन्हें ही दिया जाता है।



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.