Asian Archery Championships: फाइनल में भिड़े इंडियन प्लेयर, दोनों ने जीता मेडल, कटाया ओलंपिक का टिकट

बैंकाॅक में खेले जा रहे एशियन आर्चरी चैंपियनशिप फाइनल में दो भारतीय खिलाड़ियों का आमना-सामना हुआ। इसमें एक ने गोल्ड मेडल जीता तो दूसरे को सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा। हालांकि ये दोनो प्लेयर को ओलंपिक कोटा मिल गया है।

Updated Date: Fri, 29 Nov 2019 10:24 AM (IST)

बैंकॉक (पीटीआई)। गुरुवार को 21वीं एशियाई चैंपियनशिप के अवसर पर आयोजित कॉन्टिनेंटल क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट में भारत को ओलंपिक कोटा मिल गया है। इस चैंपियनशिप में भारत की दो खिलाड़ी दीपिका कुमारी और अंकिता भगत ने हिस्सा लिया और फाइनल में दोनों का आमना-सामना हुआ। खिताबी मुकाबले में दीपिका ने हमवतन अंकिता को हराकर गोल्ड मेडल पर कब्जा किया वहीं अंकिता को रजत पदक से संतोष करना पड़ा। हालांकि इन दोनों खिलाड़ियों को ओलंपिक का टिकट मिल गया है।
राष्ट्रीय ध्वज के बिना लिया हिस्सा
दीपिका और अंकिता ने राष्ट्रीय महासंघ के निलंबन के कारण राष्ट्रीय ध्वज के बिना इस कंप्टीशन में हिस्सा लिया और शानदार प्रदर्शन कर मेडल पर कब्जा किया। दीपिका ने नंबर एक रैंक वाली महिला के रूप में प्रवेश करते हुए, मलेशिया की नूर अफिसा अब्दुल हालिल को 7-2 से, जाहरा नेमाती (ईरान) को 6-4 और स्थानीय लड़की नरिसरा खुन्निरचाई को 6-2 से हराकर अंतिम चार में जगह बनाई थी। जिससे एक ओलंपिक कोटा हासिल किया जा सके। दीपिका ने कहा, "हम पहले दिन में थोड़े नर्वस थे ... बहुत हवा भी चल रही थी। मैंने बस अपनी सांस लेने पर ध्यान केंद्रित किया और खुद से कहा 'अभी कर रही हूं।" मुझे अभी अच्छा लग रहा है।'

Deepika Kumari has qualified a&@Tokyo2020 @Olympics women&यs #archery place for India 🇮🇳 by winning the Asian quota tournament in Bangkok. 🌏🏹
(She competed as a neutral athlete due to the suspension of the Archery Association of India.) pic.twitter.com/nSmP9te8JW

— World Archery (@worldarchery) 28 November 2019


ऐसा रहा फाइनल तक का सफर
दीपिका ने अपने मंगेतर और टीम के साथी अतनु को 28 शूट करने का वादा किया था, लेकिन दीपिका ने दो परफेक्ट 10 और एक नौ को हिट करके एक बेहतर प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा, "हम अपना सर्वश्रेष्ठ देना चाहते थे। मैंने यह भी वादा किया (मिश्रित टीम पार्टनर और मंगेतर) वह मेरे मन को भी समझते हैं और यह अच्छी तरह से समझ में आया।" उन्होंने कहा, "अब हम अगले साल विश्व कप के बर्लिन चरण से टीम बर्थ क्वालिफाई करने की उम्मीद करते हैं।" बाद में दिन में, दीपिका ने गुयाना पर एकतरफा 6-2 की जीत के साथ फाइनल में प्रवेश किया।दूसरी ओर, अंकिता ने हांगकांग की लाम शुक चिंग आद्या को 7-1 को हराकर फाइनल में जगह बनाई थी।
भारतीय तीरंदाजों ने किया कमाल
दीपिका, अंकिता और लाईशराम बोम्बायला देवी की भारतीय तिकड़ी ने भारतीय तीरंदाजी संघ (एएआई) के वर्तमान निलंबन के कारण एक तटस्थ ध्वज के तहत प्रतिस्पर्धा की, जो अभी प्रशासनिक उथल-पुथल में है। भारत के पास अब 2020 टोक्यो ओलंपिक की महिला स्पर्धा में पुरुष वर्ग में टीम की योग्यता और व्यक्तिगत कोटा है। पुरुषों की रिकर्व टीम के बाद तीरंदाजी में यह भारत का दूसरा ओलंपिक कोटा स्थान है। तरुणदीप राय, अतनु दास और प्रवीण जाधव ने इस साल की शुरुआत में विश्व चैंपियनशिप में पहला स्थान हासिल किया था। बता दें 2020 विश्व कप का बर्लिन चरण तीरंदाजी में अंतिम क्वालीफाइंग इवेंट है।

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.