आयुष्मान योजना का पोर्टल बीमार

2018-12-29T06:00:41Z

- अटल आयुष्मान योजना का पोर्टल हैवी होने से कॉमन सर्विस सेंटर में कार्ड बनाने के लिए करना पड़ रहा लंबा इंतजार

- लाखों लोगों के डाटा अपलोड होने और यूजर बढ़ने से हैवी हुआ पोर्टल

DEHRADUN: अटल आयुष्मान योजना का पोर्टल हैवी हो जाने से कॉमन सर्विस सेंटर में कार्ड बनाने के लिए लोगों को लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। योजना को लागू करने के शुरुआती चरण में हो रही परेशानियों को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने इसकी कंप्लेन उच्च अधिकारियों से की है। इधर, विभाग का दावा है कि एक साथ लाखों लोगों के डाटा अपलोड होने और यूजर बढ़ जाने से अटल आयुष्मान योजना का पोर्टल सही से काम नहीं कर पा रहा है।

पोर्टल सही तो 5 मिनट, नहीं तो घंटों इंतजार

प्रदेश के 23 लाख परिवारों को प्रति वर्ष प्रति परिवार 5 लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज देने के उद्देश्य से बीते मंगलवार को सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना का शुभारम्भ किया गया। योजना से 99 सरकारी व 66 प्राइवेट अस्पतालों में 1350 गंभीर बीमारियों का इलाज मुफ्त में करने का दावा किया जा रहा है। इसके लिए प्रत्येक उत्तराखंड निवासी का गोल्डन कार्ड बनाया जा रहा हैं। शुक्रवार को दून अस्पताल में कॉमन सर्विस सेंटर में कार्ड बनाने के लिए लोगों को लंबा इंतजार करना पड़ा। योजना के अंर्तगत कार्ड बनाने के लिए जिस पोर्टल का इस्तेमाल हो रहा है। उसकी प्रोसेसिंग काफी स्लो हो गई है। साथ ही डाटा हैवी हो जाने की वजह से पोर्टल खुलने में लम्बा समय लग रहा है। ऐसे में 1 कार्ड बनाने के लिए कई घंटों तक इंतजार करना पड़ रहा है। दून अस्पताल में बने कॉमन सर्विस सेंटर संचालक दिनेश सिंह रावत ने बताया कि पोर्टल किसी समय बहुत स्लो चल रहा है। जब पोर्टल सही तरह से काम कर रहा है तो 5 मिनट में कार्ड बनने की प्रक्रिया पूरी हो जा रही है लेकिन किसी समय घंटों का समय भी लग रहा है।

पोर्टल में होगा तकनीकी सुधार

सीएमओ एसके गुप्ता ने बताया कि योजना का पोर्टल स्लो होने की कंप्लेन विभाग को मिली है। जिसकी सूचना उच्चाधिकारियों को दी गई है। सीएमओ ने बताया कि शुक्रवार को विभाग की वीडियो कान्फ्रेंसिग में भी इस बात को रखा गया है। जिससे टेक्निकल कमी को दूर किया जा सके। उन्होंने बताया कि डाटा एंट्री और एक साथ कई यूजर्स के पोर्टल खोलने की वजह से स्पीड स्लो चल रही है। जिसे सुधारने के लिए कहा गया है।

न्यू बोर्न बेबी को भी मिलेगा योजना का लाभ

अटल आयुष्मान योजना में न्यू बोर्न बेबी के लिए अलग से ऑप्शन दिया गया है। जिससे कोई भी व्यक्ति आसानी से न्यू बोर्न बेबी का इलाज करा सके। इसके लिए अटल आयुष्मान योजना के कार्ड को लेकर संबधित अस्पताल के सेंटर में ले जाकर बच्चे की मां के कार्ड के माध्यम से न्यू बोर्न बेबी का इलाज करवाया जा सकता है। इसके लिए 1 साल का समय भी मिलेगा। जब तक बच्चे का आधार कार्ड नहीं बन जाता। बच्चे का आधार कार्ड बनते ही अटल आयुष्मान योजना का कार्ड बनवाया जा सकता है। साथ ही अगर किसी परिवार के सदस्य का नाम राशन कार्ड में नहीं है तो वेबसाइट पर जाकर एड ऑप्शन्स में नए सदस्य का नाम भी जुड़वा सकते हैं। सदस्य का आधार कार्ड नम्बर स्केन करते ही उसकी आईडी कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर में जुड़ते ही सदस्य का नाम परिवार के साथ एड हो जाएगा। जिसके बाद केवाईसी करते ही वो सदस्य इस योजना का लाभ ले सकता है।

पोर्टल के स्लो चलने और हैवी होने की कंप्लेन आई है। उच्चाधिकारियों के सामने इस बात को रखा गया है। पोर्टल को तकनीकी रूप से मजबूत करने की बात भी की गई है।

डॉ। एसके गुप्ता, सीएमओ


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.