आॅस्ट्रिया सरकार ने दिया 60 इमामों को देश से निकलने का आदेश विदेशी फंड लेने का आरोप

2018-06-08T17:30:49Z

ऑस्ट्रिया सरकार विदेश से फंड लेने वाले 60 इमामों को निकालने की तैयारी में है। सरकार का कहना है कि मुस्लिम विचारधारा के खिलाफ वहां कार्रवाई जारी रहेगी।

धार्मिक समूहों को विदेशी फंडिंग के खिलाफ कार्रवाई जारी रहेगी
वियना (रॉयटर्स)।
ऑस्ट्रिया की दक्षिणपंथी सरकार ने 'राजनीतिक इस्लाम' के खिलाफ मुहिम तेज करते हुए सात मस्जिदों को बंद करने का फैसला लिया है। इसके अलावा विदेश से फंड लेने वाले लगभग 60 इमामों को भी देश से बाहर निकालने का निर्णय कर लिया है। सरकार का इस मामले में कहना है कि यह महज एक शुरुआत है। मुस्लिम विचारधारा और धार्मिक समूहों को विदेशी फंडिंग के खिलाफ उसकी कार्रवाई जारी रहेगी।
फंड लेने पर रोक का प्रावधान
बता दें कि ऑस्ट्रिया की कुल 88 लाख आबादी में मुस्लिमों की संख्या छह लाख है। ऑस्ट्रिया के चांसलर सेबस्टियन कर्ज ने कहा। 'समानांतर समाज, राजनीतिक इस्लाम और कट्टरपंथी विचारधारा के लिए हमारे देश में कोई जगह नहीं है।' 2015 में एकीकरण मंत्री का प्रभारी रहते हुए उनकी निगरानी में ही ऑस्टि्रया ने 'इस्लाम पर कानून' बनाया था। सरकार ने यह फैसला उसी कानून के तहत लिया है। उस कानून में सांप्रदायिक संगठनों को विदेश से फंड लेने पर रोक का प्रावधान है।

'ग्रे वॉल्व्स' सोसायटी को भी बंद किया जाएगा

कर्ज पिछले साल दिसंबर में आव्रजन विरोधी 'फ्रीडम पार्टी' के साथ गठबंधन कर ऑस्ट्रिया के चांसलर बने थे। पिछले साल चुनाव के दौरान दोनों पार्टियों ने कहा था कि उनकी सरकार बनने पर कठोर कानून लागू किया जाएगा। इसके अलावा जिन विदेशी नागरिकों की शरण की मांग खारिज हो चुकी है, उन्हें जल्द-से-जल्द वापस भेज दिया जाएगा। सरकार ने एक बयान में कहा है कि वियना में एक मस्जिद का संचालन करने वाली 'ग्रे वॉल्व्स' सोसायटी को भी अवैध गतिविधियों में शामिल रहने के आरोप में बंद किया जाएगा।
40 इमामों को दी गई सूचना
धुर दक्षिणपंथी वाइस चांसलर हेंज क्रिश्चियन स्टै्रच ने कहा कि सरकार एटीआइबी से संबंधित 60 इमामों को भी देश से निकालने या उनका वीजा रद करने पर विचार कर रही है। 40 इमामों को इस सिलसिले में सूचना दी जा चुकी है और 11 की समीक्षा की जा रही है। एटीआइबी को तुर्की का करीबी मुस्लिम संगठन माना जाता है।

दुनिया के ये 9 देश जो सुपर पावर अमेरिका को घास भी नहीं डालते!

एंटी टैंक रॉकेट लेकर पुलिस के पास पहुंचा किशोर


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.