बीएड कॉलेजों में एडमिशन पर रोक

2019-07-10T06:01:00Z

रांची: स्टेट के सातों यूनिवर्सिटीज के अंतर्गत 126 बीएड कॉलेजों में एडमिशन पर रोक लगा दी गई है। इसके साथ ही 24 घंटे पहले जारी की गई मेरिट लिस्ट कैंसिल कर दी गई है। सेशन 2019-21 के लिए पहली बार काउंसलिंग की गई थी। इसके बाद मेरिट लिस्ट जारी कर दी गई। लिस्ट जारी होने के कुछ ही घंटों के बाद अभ्यर्थियों ने एडमिशन लिस्ट में मेरिट की अनदेखी का आरोप लगा कर हंगामा शुरू कर दिया था। सेामवार को सुबह 10.30 बजे से ही अभ्यर्थी विवि मुख्यालय व मोरहाबादी कैंपस में एकत्रित होने लगे थे। इनका कहना था कि मेरिट रैंक ऊपर रहने के बाद भी च्वाइस वाले कॉलेज में एडमिशन के लिए चयन नहीं हुआ, जबकि कम अंक वाले अभ्यर्थियों का चयन हो गया। इसके बाद से ही रांची यूनिवर्सिटी पर एडमिशन पर रोक लगाने का दबाव बढ़ गया था।

सेकेंड च्वॉइस पर नहीं दिया ध्यान

काउंसिलिंग के बाद 12500 सीटों के विरुद्ध 12104 अभ्यर्थियों के एडमिशन के लिए सीटें आवंटित की गई थीं। झारखंड संयुक्त प्रवेश परीक्षा पर्षद (जेसीईसीईबी) द्वारा एंट्रेंस एग्जाम के बाद सफल 18633 अभ्यर्थियों की लिस्ट रांची यूनिवर्सिटी प्रशासन (आरयू) को काउंसिलिंग के लिए सौंपी गई थी। आरयू ने अभ्यर्थियों से एडमिशन के लिए तीन बीएड कॉलेज का ऑप्शन मांगा गया था। आरयू ने अभ्यर्थियों द्वारा दिए गए फ‌र्स्ट च्वाइस ऑप्शन के आधार पर मेरिट लिस्ट बनाकर बीएड कॉलेजों को एडमिशन के लिए सीटें आवंटित की थी। मेरिट लिस्ट तैयार करने में सेकेंड च्वाइस आप्शन पर ध्यान नहीं दिया गया। इसलिए मेरिट लिस्ट तैयार करने में चूक हो गई।

दोबारा तैयार होगी मेरिट लिस्ट

इस पूरे प्रकरण के बाद अब बीएड कॉलेजों में एडमिशन के लिए नए सिरे से लिस्ट तैयार की जाएगी। मेरिट क्रम के अनुसार अभ्यर्थियों के फ‌र्स्ट ऑप्शन के आधार पर पहले एडमिशन के लिए सीटें आवंटित की जाएंगी। मेरिट वाले अभ्यर्थी को फ‌र्स्ट च्वाइस वाला कॉलेज नहीं मिलने पर सेकेंड च्वाइस के आधार पर लिस्ट तैयार की जाएगी। सेकेंड ऑप्शन वाला कॉलेज नहीं मिलने पर थर्ड आप्शन के आधार पर संबंधित कॉलेज में सीटों का आवंटन किया जाएगा।

कई जगह एडमिशन हो गया था शुरू

बीएड कॉलेजों में आवंटित सीटों के आधार पर मंगलवार से 11 जुलाई तक एडमिशन लिया जाना था। कुछ बीएड कॉलेज में एडमिशन प्रोसेस भी शुरू हो चुका था। इस बीच आरयू प्रशासन द्वारा एडमिशन पर रोक लगा दी गई। लेकिन एडमिशन से संबंधित शुल्क जमा नहीं होने के कारण रोक लगने के बाद कॉलेज प्रबंधन को अधिक परेशानी नहीं हुई।

वर्जन

बीएड के एडमिशन पर रोक लगा दी गई है। वेबसाइट से बीएड कॉलेजों को आवंटित लिस्ट को हटा लिया जाएगा। मेरिट और च्वाइस आप्शन के आधार पर नए सिरे से मेधा सूची तैयार करने कार्रवाई शुरू कर दी गई है। जल्द ही मेरिट लिस्ट जारी करेंगे।

डॉ संजय मिश्र, एक्वेक डायरेक्टर सह काउंसेलिंग इंचार्ज


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.