विवादित ढांचा विध्वंस की 26वीं बरसी अयोध्या में चप्पेचप्पे पर पुलिस तैनात विहिप मनाएगी आज शाैर्य दिवस

2018-12-06T09:50:10Z

अयोध्या में विवादित ढांचा विध्वंस की आज 26वीं बरसी है। एेसे में आज किसी भी आशंका को देखते हुए अयोध्या प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं। यहां चप्पेचप्पे पर पुलिस तैनात है। वहीं आज विहिप शाैर्य दिवस मनाएगी।

कानपुर। आज 6 दिसंबर को अयोध्या में बाबरी मस्जिद विध्वंस की 26वीं बरसी है। हिंसा की कोई घटना इस दिन न हो इसके लिए हर साल की तरह इस साल भी अयोध्या में विशेष सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। कड़ी सुरक्षा के इंतजाम सुरक्षा व्यवस्था को यहां सख्त कर दिया गया है। रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन धर्मशाला के साथ आने जाने वालों पर पुलिस कड़ी निगाह रख रही है। जांच एजेंसिया भी सतर्क हैं और अपनी निगरानी को सख्त कर दी हैं। सरकार ने भी सुरक्षा व्यवस्था को लेकर निर्देश दिए हैं।

विहिप आज शौर्य दिवस मनाएगी

वहीं, दूसरी ओर राम मंदिर निर्माण को लेकर हिंदू संगठनों ने मुहीम तेज कर दी है। हर बार की तरह इस बार भी विहिप छह दिसंबर को शौर्य दिवस मनाएगी। कहीं पर सभाएं होंगी तो कहीं पर हवन करके मंदिर निर्माण की मांग की जाएगी।  आजादी से पहले इस क्षेत्र राम मंदिर-बाबरी मस्जिद के विवाद को नहीं सुलझाया जा सका है। लंबे अर्से से इस स्थल पर संग्राम छिड़ा हुआ है।
कोशिशें कामयाब नहीं हो पार्इ
1853 में इस मामले को लेकर पहली बार धार्मिक हिंसा हुर्इ थी। यह संग्राम इतना विकराल हो गया था कि लोगों ने बाबरी मस्जिद ही तोड़ दी थी। धार्मिक नगरी अयोध्या में गोलियां चलीं। हजारों की संख्या में कारसेवकों ने गिरफ्तारियां दीं। हालांकि इस विवाद को सुलझाने की अब तक तमाम कोशिशें नाकाम रहीं। 1987 में राममंदिर का ताला खुला और उसके बाद आम सहमति से समझौते की कोशिशें भी हुईं, लेकिन ये कोशिशें कामयाब नहीं हो पाईं।
एजेंसी इनपुट सहित

अयाेध्या में ये है आखिरी प्रयास, 'धर्मसभा' के बाद अब सीधे होगा मंदिर निर्माण : विहिप

धर्मसभा : बाबरी मस्जिद के पक्षकार बोले, 'मंदिर-मस्जिद मसले को लेकर लखनऊ-दिल्ली जाएं' हमें सुकून से रहने दें

Posted By: Shweta Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.