घाटे में चल रहा था बैंक कर्मचारियों ने कर दी नकदी साफ

2019-06-28T10:53:35Z

बैंक में हुए घाटे की भरपाई के लिए कर्मचारियों ने साजिश रची थी शॉर्ट बैंकिंग को छिपाने के लिए कैशियर और सहयोगी ने चोरी की साजिश रची

- चौरीचौरा के फिनो पेमेंट बैंक में चोरी का पर्दाफाश

- तीन लाख 42 हजार रुपए नकदी भी हुई बरामद

gorakhpur@inect.co.in

GORAKHPUR : चौरीचौरा, भोपा बाजार कुंदन मार्केट में स्थित फिनो पेमेंट बैंक में नौ लाख 57 हजार रुपए की चोरी नहीं हुई थी. बल्कि बैंक में हुए घाटे की भरपाई के लिए कर्मचारियों ने साजिश रची थी. शॉर्ट बैंकिंग को छिपाने के लिए कैशियर और सहयोगी ने चोरी की साजिश रची. लेकिन पुलिस की जांच में उनकी असलियत सामने आ गई. तीनों के पास से चोरी का तीन लाख 42 हजार 590 रुपया बरामद हुआ. एसपी नॉर्थ अरविंद पांडेय ने बताया कि चोरी की सूचना देने से लेकर कर्मचारियों की हरकत से पुलिस को शक हो गया था. क्राइम ब्रांच और चौरीचौरा पुलिस की टीम ने तीन व्यक्तियों को अरेस्ट करके नकदी बरामद की. बैंक से तीन लाख 42 हजार रुपए की नकदी ही गायब हुई थी.

 

एक दिन बाद दी चोरी की सूचना, पुलिस को हुआ शक

फिनो पेमेंट बैंक के कर्मचारियों ने मंगलवार को पुलिस को सूचना दी. बताया कि रविवार की रात तिजोरी तोड़कर नौ लाख 57 हजार 269 रुपए चोर उठा ले गए. हरकत में आई पुलिस ने जब जांच पड़ताल की तो मामला समझ में आ गया. चोरी के तौर तरीके और बैंक का सायरन न बजने सहित कई ऐसे क्लू मिले जिससे पुलिस वारदात पर यकीन नहीं कर पा रही थी. कर्मचारियों से पूछताछ के दौरान भी सबके बयान अलग-अलग मिले. उनकी उलझाई बातों से पुलिस का शक यकीन में बदल गया. इस दौरान पता लगा कि कर्मचारियों ने फर्जीवाड़ा किया था. बैंक के ऑडिट में गड़बड़ी पकड़े जाने पर ग्राहक सेवा केंद्र संचालकों से रुपए लेकर भरपाई कर दी. उसी रुपए की भरपाई के लिए साढ़े नौ लाख रुपए की चोरी की कहानी गढ़ दी.


शॉर्ट बैंकिंग की प्रॉब्लम, कर्मचारी कर रहे थे गबन

जांच पड़ताल के लिए पुलिस ने बैंक के कैशियर प्रगट कुमार मिश्रा और कृष्णकांत राय को उनके घर ओम नगर कॉलोनी से उठा लिया. पूछताछ में कैशियर बार-बार अपना बयान बदलता रहा. सहायक कैशियर कृष्णकांत राय भी गोलमोल बात करने लगा. पुलिस की सख्ती पर दोनों टूट गए. बताया कि सही ढंग से भुगतान न कर पाने की दशा में शॉर्ट बैंकिंग की स्थिति आ गई. छह माह के भीतर हुए ट्रांजेक्शन की बैंकिंग में पैसों का शॉर्टेज लाखों रुपयों में चला गया. इसको लेकर कर्मचारी काफी परेशान रहते थे. उनको लगता था कि हिसाब-किताब होने पर रकम घर से चुकानी पड़ेगी. उधर जांच में यह भी पता लगा कि सीसीटीवी कैमरों और बैंक के सायरन को जानबूझकर खराब किया गया था.

 

परिचित के घर छिपाई रकम

पूछताछ में प्रगट ने बताया ने बताया कि सहायक कैशियर कृष्णकांत राय को गड़बड़ी की जानकारी थी. इसलिए उन लोगों ने वारदात को अंजाम दिया. बताया कि बैंक से चोरी नकदी चौरीचौरा, छबैला निवासी नौशाद के पास रख दिया था. वह फुलवरिया, कुर्मी टोला में ग्राहक सेवा केंद्र चलाता है. नौशाद को अरेस्ट करके पुलिस ने उसकी स्कूटी की डिक्की में रखी तीन लाख 42 हजार 590 रुपए नकदी बरामद कर ली. उनके पास से सब्बल भी बरामद हुआ. इसके पूर्व शहर के अग्रसेन तिराहा स्थित एक मोबाइल कंपनी में शॉर्ट बैंकिंग की प्रॉब्लम होने पर कर्मचारियों ने साढ़े सात लाख रुपए की हेराफेरी करके पुलिस को लूट की सूचना दी थी. उस घटना को ध्यान में रखकर चौरीचौरा के इंस्पेक्टर नीरज राय ने गुत्थी को सुलझाने का प्रयास किया.

 

पुलिस ने इनको किया अरेस्ट

कैशियर प्रगट कुमार मिश्रा, बेलवा मोड़, लौरिया, पश्चिमी चंपारण, बिहार

सहायक कैशियर कृष्णकांत राय, अमरहट, सरायलखनसी, मऊ

नौशाद अहमद, छबैला, चौरीचौरा, गोरखपुर

 

वर्जन

बैंक से गायब पूरी नकदी बरामद कर ली गई है. कर्मचारियों ने साढ़े नौ लाख रुपए गायब करने की बात की थी. जांच में असलियत सामने आने पर बैंक कर्मचारियों और उनके परिचित को अरेस्ट करके नकदी बरामद की गई है.

- अरविंद कुमार पांडेय, एसपी नॉर्थ

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.