फेस्टिव सीजन में ऑनलाइन खरीदारी फ्रॉड के चक्‍कर में कहीं पड़ न जाए भारी!

2018-10-21T08:46:10Z

फेस्टिव सीजन के दौरान ऑनलाइन शॉपिंग का क्रेज काफी बढ़ जाता है क्योंकि इस दौरान ईकॉमर्स कंपनियां बंपर ऑफर्स पेश करती हैं। पर इसके साथ साइबर फ्रॉड का खतरा भी बढ़ जाता है। इस दौरान साइबर अपराधी आपकी डिजिटल मनी में सेंध भी लगा सकते हैं।

थोड़ी-सी सूझ-बूझ और बच सकते हैं ऑनलाइन फ्रॉड से
कानपुर। फेस्टिव सीजन शुरू हो चुका है। इस दौरान ई-कॉमर्स कंपनियों के लुभावने ऑफर्स के कारण लोग ऑनलाइन शॉपिंग करना ज्यादा पसंद करते हैं। घर बैठे हो जाने के कारण ऑनलाइन शॉपिंग सुविधाजनक तो होता है, लेकिन इसके साथ ऑनलाइन ठगी के मामले भी बढ़ जाते हैं। टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के एक ताजा सर्वे में यह बात सामने आई है कि ऑनलाइन फ्रॉड के कारण भारत के 68 फीसदी लोगों ने किसी न किसी तरीके से अपनी मेहनत की कमाई ठगों के हाथों गंवा दी है। माइक्रोसॉफ्ट के टेक सपोर्ट स्कैम सर्वे 2018 के मुताबिक, हैकर या ठग गैंग फोन कॉल के जरिए लोगों से जुड़ते हैं और टेक्निकल सपोर्ट सर्विस का हवाला देकर उनसे बैंकिंग से जुड़ी तमाम जरूरी जानकारियां हासिल कर बैंक खातों से पैसा उड़ा लेते हैं। ऑनलाइन फ्रॉड करने वालों का शिकार सिर्फ वही लोग नहीं बनते हैं, जिन्हें ऑनलाइन बैंकिंग और मोबाइल एप्स की कम जानकारी है, बल्कि इंटरनेट सेवी और टेक फ्रेंडली लोग भी अनजाने में इन फ्रॉड के शिकार हो जाते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के करीब 40 फीसदी लोग इस ऑनलाइन स्कैम का शिकार लगभग बन ही गए थे, लेकिन उन्होंने कोई महत्वपूर्ण जानकारी ठगों को नहीं दी, जबकि 28 फीसदी लोगों ने अलर्ट होकर उस ऑनलाइन फ्रॉड से किनारा कर लिया।

ऐसे होती है ऑनलाइन ठगी
ऑनलाइन गतिविधियां बढ़ने से ठगी की घटनाएं भी तेजी से बढ़ रही हैं। अगर ऑनलाइन पेमेंट के दौरान सेफ वेबसाइट या पेमेंट चैनल नहीं चुनते हैं तो कार्ड से संबंधित जानकारी चुरा कर ठग आपको बड़ी चपत लगा सकते हैं। कई बार ठग लोकप्रिय वेबसाइट के नाम से मिलती-जुलती एक दूसरी साइट बना देते हैं। आप जब उसे ओपन करेंगे, तो शुरुआत में ओरिजनल साइट से अंतर करना मुश्किल हो जाता है। यहां प्रोडक्ट पर दिए गए आकर्षक ऑफर्स में फंसकर ग्राहक ऑनलाइन पेमेंट कर देते हैं या फिर ऑनलाइन शॉपिंग के लिए यूज किए गए आपके बैंक एकाउंट, क्रेडिट कार्ड नंबर, सीवीवी नंबर आदि को ठग धोखे से हासिल कर लेते हैं। इस तरह की ठगी से बचने के लिए यूआरएल ब्राउजर के एड्रेस बार में टाइप करके ही साइट पर जाएं और खरीदारी करें। सिर्फ सुरक्षित वेबसाइट्स पर ही अपने क्रेडिट या डेबिट कार्ड का ब्यौरा दें। सुरक्षित वेबसाइट्स के यूआरएल की शुरुआत https:// से होती है, न कि http:// से।

क्लोन एप से कैसे बचें
कई बार आपने भी गौर किया होगा कि प्ले स्टोर पर लोकप्रिय एप्स से मिलते-जुलते कई सारे दूसरे एप्स भी होते हैं। कई बार लोग क्लोन एप को ही असली एप समझ कर डाउनलोड कर लेते हैं और उन्हीं पर शॉपिंग करने लगते हैं। ठग इसी के जरिए लोगों का पैसा गायब कर देते हैं। अगर बहुत ज्यादा टेक फ्रेंडली नहीं हैं, तो फिर जिस ई-कॉमर्स साइट का एप डाउनलोड करना चाहते हैं, उसकी साइट पर जाकर वहां से डाउनलोड करें। सिम स्वाइप और ओटीपी से ठगीयह ऑनलाइन ठगी का नया ट्रेंड है। इसमें ठग आपका एक नकली आइडी प्रूफ लेकर मोबाइल ऑपरेटर के पास जाता है और आपके नाम का डुप्लिकेट सिम कार्ड हासिल कर लेता है। ऑपरेटर आपका ओरिजनल सिम डी-एक्टिवेट कर देता है। इसके बाद ठग आपके फोन के जरिए वन टाइम पासवर्ड बनाता है और ऑनलाइन ट्रांजैक्शन कर लेता है। इतना ही नहीं, आजकल ठग बैंक जाकर भी किसी और के खाते को अपना बताकर फोन नंबर चेंज करा लेता है, फिर ओटीपी हासिल पर एकाउंट खाली कर देता है। इस तरह की ठगी से बचने के लिए जरूरी है कि किसी भी अनजान व्यक्ति के कहने पर किसी भी नंबर पर मैसेज न करें। किसी के साथ अपने क्त्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड की डिटेल्स शेयर न करें और न ही किसी को ओटीपी बताएं। बिना वजह लंबे समय तक मोबाइल की घंटी न बजे तो सतर्क हो जाएं। इसके अलावा, आजकल फोन कॉल करके कस्टमर का सीवीवी नंबर या ओटीपी जुटाना और फिर पैसे निकाल लेना, इस तरह की घटनाएं पिछले कुछ वक्त में काफी बढ़ गई हैं।

और क्या करें आप
ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने से पहले यह ध्यान रखें कि आपका इंटरनेट कनेक्शन पासवर्ड से सुरक्षित हो। साइबर कैफे या फ्री वाई-फाई से इंटरनेट बैंकिंग या ऑनलाइन ट्रांजैक्शन कतई नहीं करना चाहिए। अधिकांश ऑनलाइन बैंकिंग वेबसाइट्स घर से या ऑफिस से एक्सेस की जाती हैं। इसे सुरक्षित बनाने के लिए कंप्यूटर से लॉग-ऑफ करना और कैशे मेमोरी को समय-समय पर क्लियर करना जरूरी होता है।

मत दें बैंकिंग से जुड़ी जानकारी
कई बार ठग खुद को बैंक का अधिकारी बताकर कार्ड से जुड़ी सूचनाएं मांगते हैं। जब भी इस तरह की फोन कॉल आएं तो सावधान रहें। ऐसी हर कॉल को संदेह की नजर से देखें और संबंधित व्यक्ति का ब्यौरा दर्ज करके रखें। कार्ड से जुड़ी जानकारी बिल्कुल भी शेयर न करें। शक होने पर टेलीफोन काट कर बैंक से बात करें। इसके साथ जब आप पेट्रोल पंप, रेस्टोरेंट वगैरह में क्रेडिट/डेबिट कार्ड के जरिए भुगतान करते हैं, तो उस समय खुद वहां मौजूद रहें। कई बार लोग कार्ड को भीतर ले जाते हैं। ऐसी स्थिति में कार्ड को क्लोन कर लिए जाने की आशंका रहती है।

4G से लेकर 7G तक, हर मुश्किल सवाल का जवाब मिलेगा यहां!
अपने इंस्टाग्राम अकाउंट को हैकर्स से कैसे बचाएं? जानिए सबसे लेटेस्ट तरीका

व्हाट्सएप से जुड़े इन 10 सवालों के जवाब क्या आपको मिले? यहां पढ़िए


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.