Bihar Assembly Elections: सोनिया गांधी ने बिहार सरकार को बताया बंदी सरकार, वोटरों से की ये खास अपील

Updated Date: Tue, 27 Oct 2020 12:59 PM (IST)

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक वीडियो के जरिए बिहार और केंद्र की सरकारों को बंदी सरकार करार दिया है। उन्होंने कहा कि बंदी सरकार के खिलाफ एक नए बिहार के निर्माण के लिए बिहार की जनता तैयार है। बिहार की जनता बदलाव चाहती है।

नई दिल्ली (एएनआई)। बिहार सरकार पर निशान साधते हुए कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मंगलवार को कहा राज्य सरकार हाई पाॅवर और अपने इगो के आगे अपने रास्ते से भटक गई है। ऐसे में न तो उसका कहना और न ही करना अच्छा है। मजदूर असहाय हैं, किसान चिंतित हैं और युवा निराश हैं। उन्होंने कहा कि जनता कांग्रेस महागठबंधन (महागठबंधन) के साथ है। यह बिहार का आह्वान है। मिट्टी के बेटे यानी कि किसान आज गंभीर संकट में हैं। दलितों और महादलितों को बुरी हालत में छोड़ दिया गया है। समाज का पिछड़ा वर्ग भी इस दुर्दशा का शिकार है।

बिहार की पवित्र और ऐतिहासिक धरती को मैं नमन करती हूं। आज बिहार में सत्ता और अंहकार में डूबी सरकार अपने रास्ते से अलग हट गई है।
कांग्रेस अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी जी का बिहार की जनता के नाम संदेश।#SpeakUpBihar pic.twitter.com/J3dTstuK4L

— Congress (@INCIndia) October 27, 2020


बिहार भारत का आईना है, एक उम्मीद है
कांग्रेस प्रमुख ने कहा कि दिल्ली और बिहार की सरकारें बंदी सरकारें हैं। विमुद्रीकरण, तालाबंदी, व्यापार बंद, आर्थिक दस्यु, खेत-खलिहान बंदी, रोटी-रोजगार बंदी जैसे कई कदम इनके साथ जुड़े हैं। इसलिए इस बंदी सरकार के खिलाफ बिहार के लोग एक नए बिहार के निर्माण के लिए तैयार हैं। अब परिवर्तन हवा में है क्योंकि परिवर्तन जुनून, ऊर्जा, नई सोच और शक्ति है। अब कुछ नया लिखने का समय आ गया है। बिहार भारत का आईना है, एक उम्मीद है। बिहार भारत का गौरव है।
बिहार नए बदलावों के लिए तैयार है
बिहार के हाथ में गुण, कौशल, ताकत, निर्माण की शक्ति है, लेकिन बेरोजगारी, पलायन, मुद्रास्फीति, भुखमरी ने उनकी आंखों में आंसू और पैरों में फफोले दिए हैं। नीति और सरकारें भय और अपराध के आधार पर नहीं बनाई जा सकतीं। कांग्रेस प्रमुख ने कहा कि बिहार के किसान, युवा, मजदूर, भाई और बहन सिर्फ बिहार में ही नहीं बल्कि पूरे भारत और दुनिया भर में हैं। आज वही बिहार अपने गौरव और भविष्य के लिए अपने गांवों, कस्बों, शहरों, खेतों और खलिहानों में नए बदलाव के लिए तैयार है।

Posted By: Shweta Mishra
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.