राजधानी में अरबों का टर्न ओवर फिर भी सुरक्षा शून्य

Updated Date: Sat, 05 Dec 2015 07:41 AM (IST)

- बैंक की शाखाओं पर सुरक्षा का नहीं है इंतजाम

- सुरक्षा के दावों में नहीं दिख रहा दम

- कागजों तक सिमटा बैंक सुरक्षा अभियान

- खाताधारकों को हमेशा रहती है खतरे की आशंका

- प्रदेश में बैंक लूट की बढ़ती घटनाओं के बाद भी राजधानी में हो रही बड़ी लापरवाही

PATNA : प्रदेश के बैंक और एटीएम बदमाशों के निशाने पर हैं। यहां बड़ा ट्रांजेक्शन करने वाले खाताधारक और उनकी मनी अनसेफ है। प्रदेश में ताबड़तोड़ बैंक लूट की कई बड़ी घटनाओं के बाद भी राजधानी में सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम नहीं है। बैंक और कंज्यूमर दोनों की सुरक्षा को लेकर आई नेक्स्ट की ओर से की गई पड़ताल में इसकी पोल खुली है। पुलिस के दावों में भी दम नहीं दिख रहा है। एसएसपी का अभियान तो कागजों तक ही सिमट कर रह गया है।

केनरा बैंक - शाखा रामनगरी

रामनगरी में केनरा बैंक की शाखा है। लेकिन यहां सुरक्षा का कोई इंतजाम नहीं। यहां बैंक और खाता धारक दोनों की सुरक्षा भगवान भरोसे है। एक साल से शाखा प्रबंधक गार्ड के लिए एसएसपी से पत्र व्यवहार कर रहे हैं, लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। ऐसे में कब वारदात हो जाए कुछ कहा नहीं जा सकता। नालंदा में भी केनरा बैंक की शाखा से ही लूट की बड़ी घटना हुई थी। इससे जिम्मेदार हमेशा डरे रहते हैं।

फेडरल बैंक - शाखा राजा बाजार

राजा बाजार में फेडरल बैंक की शाखा है। यहां एक प्राइवेट गार्ड पर बैंक और खाता धारकों की सुरक्षा का जिम्मा है। गार्ड राम प्रसाद भी परेशान रहता है। वह बैंक की सुरक्षा देखे या बाहर एटीएम की निगरानी करे। बैंक में लेने देन करने वाले भी सुरक्षा को लेकर हमेशा चिंतित रहते हैं।

पीएनबी - शाखा राजा बाजार

राजा बाजार में पीएनबी की शाखा है। यहां तीन माह से गार्ड नहीं है। अधिकारियों की मनमानी का आलम यह है कि उन्होंने अभी तक पुलिस विभाग से गार्ड की मांग ही नहीं की है। यहां सुरक्षा को लेकर सवाल करने वाले भी साहबों के निशाने पर होते हैं। खाता धारक सुरक्षा पर सवाल करते हैं तो साहब अकड़ जाते हैं।

सिंडीकेट बैंक - शाखा फ्रेजर रोड

फ्रेजर रोड पर सिंडीकेट बैंक की शाखा है। यहां भी सुरक्षा को लेकर जिम्मेदार गंभीर नहीं हैं। एक प्राइवेट गार्ड है, जो बैंक के अंदर की सुरक्षा देखता है। बाहर कैश लाने और ले जाने वालों की सुरक्षा का कोई इंतजाम नहीं है।

सेंट्रल बैंक - शाखा फ्रेजर रोड

फ्रेजर रोड पर सेंट्रल बैंक की शाखा है। यहां भी एक गार्ड है जिस पर बहुत जिम्मेदारियां हैं। वह बाहर की सुरक्षा देखे या बैंक के कैश पर नजर रखे। सुरक्षा को लेकर यहां पुलिस का कोई भी इंतजाम नहीं है।

बैंक में घटनाएं बढ़ रही हैं और सुरक्षा कम हो रही है। अब तो सुरक्षा में लापरवाही आम बात हो गई है। एटीएम और बैंक पर सुरक्षाकर्मी कभी नहीं दिखते हैं।

रचना, आकाशवाणी रोड

बैंक में सुरक्षा का विशेष इंतजाम होना चाहिए। क्योंकि हर तरफ घटनाएं हो रही हैं। सुरक्षा पर ध्यान नहीं दिया जाना गंभीर विषय है। इसमें लापरवाही के कारण बैंक आने में किसी को साथ लाना पड़ता है।

रेणु, राजा बाजार

- बैंक की सुरक्षा को लेकर हम गंभीर हैं लेकिन पुलिस से मदद नहीं मिल रही है। शाखा के शुभारंभ से ही गार्ड के लिए एसएसपी को पत्र लिखा जा रहा है लेकिन एक साल से गार्ड की तैनाती नहीं की गई है। प्रदेश के गई बैंकों में हुई घटनाओं से हमेशा डर बना रहता है।

अजीत कुमार चौबे, डिप्टी मैनेजर

केनरा बैंक, रामनगरी

- एक गार्ड तैनात है, जो सुरक्षा में लगा रहता है। एटीएम की निगरानी सीसी कैमरे से होती है। रात में भी प्राइवेट गार्ड को लगाया जाता है। जो व्यवस्था है उसमें बेहतर कार्य किया जा रहा है।

जितेंद्र जैन, शाखा प्रबंधक, फेडरल बैंक, राजा बाजार

- तीन माह से गार्ड नहीं है। बैंक के अधिकारियों से डिमांड की गई है लेकिन पुलिस से गार्ड की मांग नहीं की गई। सुरक्षा को लेकर सीसीटीवी कैमरा लगाया गया है। बैंक के जिम्मेदार सुरक्षा को लेकर गंभीर रहते हैं।

अबरार अहमद, चीफ मैनेजर, पीएनबी, राजा बाजार

- एक ही गार्ड से बैंक की शाखा और एटीएम की सुरक्षा कराई जा रही है। रात में सुरक्षा गार्ड की व्यवस्था नहीं है। एक गार्ड है वह एटीएम की सुरक्षा करे या फिर बैंक की। जो व्यवस्था है उसी में काम चल रहा है।

अरुण अखौरी, पूर्व सीनियर मैनेजर, सेंट्रल बैंक, फ्रेजर रोड

- एसएसपी के आदेश भी बेअसर

प्रदेश में बैंक और एटीएम से हुई लूट की कई बड़ी घटनाओं के बाद एसएसपी ने सुरक्षा को लेकर क ड़ा फरमान जारी किया था। एसएसपी ने थानेदारों को बैंक के शाखा प्रबंधकों के साथ बैठक कर सुरक्षा का प्लान तैयार करने को कहा था। इसी क्रम में उन्होंने हर शाखा पर सुरक्षा कर्मी लगाए जाने के साथ मोबाइल टीम से निगरानी करने का भी निर्देश दिया था। लेकिन इस आदेश का कोई असर नहीं दिख रहा है। न तो बैंक की शाखाओं पर पुलिस के जवान दिख रहे हैं और न ही मोबाइल टीम ही निगरानी कर रही है।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.