नहीं रहे शकरपुरा के पहले युवराज कामेश्वर सिंह

Updated Date: Sun, 17 Jan 2021 12:40 PM (IST)

-83 वर्ष की उम्र में दिल्ली के राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल में हार्ट अटैक के कारण अंतिम सांस ली

BEGUSARAI: फ्राइडे की रात बखरी के शकरपुरा स्टेट के पहले युवराज व खगडि़या के एक्स एमपी कामेश्वर सिंह उर्फ शंभू बाबू का निधन हो गया। उन्होंने 83 वर्ष की उम्र में दिल्ली के राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल में हार्ट अटैक के कारण अंतिम सांस ली। उनके निधन से क्षेत्र के लोगों में शोक की लहर व्याप्त है। वे अपने पीछे एक पुत्र और दो पुत्रियों का भरापूरा परिवार छोड़ गए हैं। ज्ञात हो कि शंभू बाबू शकरपुरा स्टेट के राजा ललितेश्वर प्रसाद सिंह की पहली औलाद थे। उनकी शिक्षा ¨सधिया स्कूल ऑफ ग्वालियर और बनारस ¨हदू विश्वविद्यालय से हुई थी। उन्होंने अपनी पारिवारिक विरासत से अलग राजनीति में जाने का फैसला लिया। जिसमें उन्हें हद तक सफलता भी मिली। वे 1967 से 1972 तक संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी से खगडि़या के एमपी रहे। उस समय बखरी का बड़ा हिस्सा खगडि़या संसदीय क्षेत्र का अंग था और शकरपुरा स्टेट खगडि़या जिला के बड़े भाग में फैला हुआ था। बाद में वे कांग्रेस में शामिल हुए और 1974 से 80 तक राज्यसभा सांसद रहे।

लोकप्रिय रहा सामाजिक जीवन

इनका राजनीतिक एवं सामाजिक जीवन काफी लोकप्रिय रहा। इनके निधन से सामाजिक और राजनीतिक जीवन से जुड़े लोगों को गहरा सदमा लगा है। निधन पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह, विष्णु पाठक, जयंत सिंह, रघुराज प्रताप सिंह आदि ने दिल्ली पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित की है। वहीं बखरी के सोशल वर्कर विकास वर्मा, राजेश अग्रवाल, जयलख अभिमान पंचायत के मुखिया घासीराम पोद्दार, पूर्व मुखिया मधुसूदन महतो, पूर्व जिला पार्षद कृष्णवीर सिंह, रजनीकांत पाठक, अमरेंद्र सिंह, विनोद राम और सत्यजीत सिंह, आनंद सिंह आदि ने शोक संवेदना व्यक्त की है।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.