जंगल राज के युवराज नहीं कर सकते विकास

Updated Date: Thu, 29 Oct 2020 05:08 PM (IST)

PATNA: बुधवार को पटना में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर से आरजेडी पर निशाना साधते हुए लोगों से बिहार की आकांक्षाओं को पूरा करने की अपील की। उन्होंने विकास के तमाम पहलुओं की चर्चा करते हुए आरजेडी के शासनकाल में जंगलराज की याद दिलाते हुए पूछा कि क्या यह विकास कर सकते हैं, जिन्होंने 15 साल तक बिहार को विकास से दूर रखा क्या। आज वह बिहार के आकांक्षाओं को पूरा कर सकते हैं? उन्होंने कहा कि सीएम नीतीश कुमार के शासनकाल में बीते डेढ़ दशक में कुशासन से सुशासन की ओर मजबूत कदम बढ़े हैं। असुविधा से सुविधा, अंधकार से उजियारे, अविश्वास से विश्वास और अपहरण उद्योग से अवसरों तक का लंबा रास्ता तय किया है। उन्होंने कहा कि अब बिहार के लिए आकांक्षाएं बढ़ी है और यह बिहार की बहुत बड़ी कामयाबी है।

हक हड़पने वाले को नकारें

वेटरनरी कॉलेज ग्राउंड से पीएम नरेंद्र मोदी ने लोगों से बिहार की आकांक्षा पर बात की। उन्होंने कहा कि एक दौर था जब लोग चाहते थे कि उनके घर के सामने खरंजा बिछ जाए तो बेहतर होगा लेकिन अब तो चौड़ी और बेहतर सड़कों की आकांक्षा भी पूरी हो रही है।

टेक्नोलॉजी से मिली राहत

पीएम नरेंद्र मोदी ने आगे अपने संबोधन में कहां की एनडीए सरकार की सोच है कि विकास से कोई छूट न जाए। उन्होंने बताया कि कोरोना का हाल में लोगों के जनधन खाते में लाखों रुपए भेज कर मदद की गई। यदि जरूरतमंद लोगों के मोबाइल आधार से नहीं जुड़े रहते तो उनके खाते में पैसे कैसे पहुंच पाते। उन्होंने बताया कि किसान,श्रमिकों, पेंशन धारियों, महिलाओं आदि सभी को डिजिटल कनेक्टिविटी का लाभ मिला है। यदि यह सुविधा नहीं होती तो उनका हक हड़प लिया जाता.उन्होंने कहा कि एनडीए सरकार लोगों को न्याय, विकास के लिए सदैव तत्पर है।

दो बड़े खतरे से किया आगाह

पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण के दौरान अंत में दो बड़े खतरों से सचेत रहने की अपील की। उन्होंने कहा कि पहला बड़ा खतरा कोरोना का है और इसके लिए 2 गज की दूरी जरूरी है। वही, दूसरा खतरा बिहार को बीमार करने वाले ताकतों से है इसलिए ऐसे नेतृत्व को चुनने की जरूरत है जो बिहार को सशक्त और मजबूत बनाएं इसके लिए वह एनडीए गठबंधन के पक्ष में वोट करें उन्होंने कहा कि आपका एक-एक बोट बिहार को बीमार बनने से बचा सकता है।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.