लव मैरिज में बुराई नहीं परसाक्षी मिश्रा केस में पढ़ें बाॅलीवुड से लेकर आम पब्लिक के रिएक्शन

2019-07-14T12:50:42Z

बिथरी चैनपुर से भाजपा विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल की बेटी साक्षी मिश्रा के प्रेम विवाह का प्रकरण सोशल मीडिया पर भी छाया हुआ है। आम लोगों के साथ अब सेलिब्रिटीज भी इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। यहां जानें लोगों की राय

bareilly@inext.co.in
BAREILLY : फेसबुक पर हैशटैग एमएलए राजेश और साक्षी-अजितेश ट्रेंड कर रहा है। ट्विटर पर भी जमकर ट्वीट किए जा रहे हैं। बॉलीवुड से लकर सोशलसेलिब्रिटीज और आम लोग भी मामले में अपने रिएक्शन दे रहे हैं। ज्यादातर लोगों का यही कहना है कि लव मैरिज करने में कोई बुराई नहीं है, लेकिन अपने फैसले में पेरेंट्स को शामिल करें। वो न माने तो उनको मनाएं। उनसे बात करें। लेकिन उन्हे सार्वजनिक रूप से बदनाम बिल्कुल न करें

तुमने तो गुरूर तोड़ दिया
डॉक्टर राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के कुलपति मनोज दीक्षित ने फेसबुक पर लिखा कि 'एक बेटी ने प्रेम विवाह कर सोशल मीडिया पर इसकी वैश्विक घोषणा कर दी। पिता का पॉलिटिकल करियर भी दांव पर लगा दिया। गर्व है तुम पर। कहावत है कि बेटी पिता का गुरूर होती है, तुमने तो वह भी तोड़ दिया।

कोई ले सुरक्षा की जिम्मेदारी

फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप ने ट्वीट कर कहा, 'परिवार की इच्छा के विरुद्ध शादी करने के कारण बरेली के विधायक की बेट साक्षी को जान का खतरा है। किसी को उसकी और उसके पति की सुरक्षा करने की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।
जनक का न करें अपमान
मामले पर लोक गायिका मालिनी अवस्थी ने ट्वीट करते हुए कहा, 'कोई किसी से भी प्रेम करे, विवाह करे, उसका स्वतंत्र निर्णय है। उसे आजादी है। किंतु, इसे अर्जित करने के लिए अपने जनक को लोक के सामने अपमानित करने की कवायद गलत है। जीवन साथी चुनिए किन्तु पिता को इस तरह सरे आम

मत फेरो उम्मीदों पर पानी  

स्टूडेंट लक्षिका का कहना था कि बच्चे जब मां-बाप की उम्मीदों पर पानी फेरते हैं तो वे ऐसा करके माता पिता की परवरिश को भी भुला देते हैं। वे बहुत मेहनत से बच्चों की परिवरिश करते हैं, उनका सम्मान होना चाहिए।
साक्षी के विधायक पिता ने दी सफाई, अजितेश की हो चुकी है सगाई, लड़की वालों से ले चुका 7 लाख रुपये

ऐसे शुरू हुई थी साक्षी की अजितेश संग लवस्टोरी, फिल्मी स्टाइल में भाई के दोस्त को बनाया हमसफर
पेरेंट्स की भावनाओं का करें सम्मान
एक उम्मीद संस्था की प्रमुख अमिता अग्रवाल का कहना है कि बच्चों को चाहिए कि वह अपने मां-बाप की भावनाओं का भी सम्मान करें। क्योंकि मां-बाप को बच्चों से बहुत सारी उम्मीदें होती हैं। परिजनों को बताए बगैर कोई काम नहीं करना चाहिए।



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.