गंदगी का कार्यालय बना गगहा ब्लॉक का ऑफिस

2016-08-13T07:40:20Z

कन्या प्राथमिक विद्यालय के भवन को बनाया गया था विकास खंड का ऑफिस

gagha

ग्रामीण स्वच्छता अभियान के तहत गांवों में खुले में शौच को रोकने के साथ-साथ, सार्वजनिक स्थलों, गलियों, घरों आदि को साफ रखने के लिए विशेष अभियान चलाए जा रहे हैं। जिला ग्राम पंचायत विभाग के साथ तहसील और ब्लॉक स्तर के अधिकारी इस कार्य में लगे हुए हैं। वहीं अधिकारियों और कर्मचारियों की लापरवाही के कारण गगहा विकास खण्ड का करवरल मझगांवा गांव में स्थित कार्यालय गंदगी के कार्यालय में तब्दील हो गया है। इसी कार्यालय से जुड़े कर्मचारी गांवों में जाकर लोगों को सफाई के लिए प्रेरित कर रहे हैं, लेकिन जब गांवों के लोग इनके कार्यालय में आते हैं तो गलत संदेश लेकर जाते हैं।

घासों से पटा ऑफिस

कार्यालय परिसर में गंदगी और घास-फूस फैली हुई है। कार्यालय परिसर में फैली घासों को देखकर ये लगता ही नहीं है कि ये विकास खंड का मुख्य कार्यालय है, जहां गांवों विकास की रूपरेखा तय की जाती है। यहां की गंदगी को देखकर ग्रामीण भी इस कार्यालय में नहीं जाना चाहते हैं।

स्कूल को बंदकर बना था कार्यालय

इन दिनों जिस भवन गगहा विकास खंड का कार्यालय चलता है 80 के दशक में वहां कन्या प्राथमिक विद्यालय चलता था। 1992 में अचानक भवन को तोड़कर विकास खंड का कार्यालय बनाया गया था।

गायब हो गया हैंडपंप

ब्लाक परिसर में लगा हैंडपंप भी पिछले करीब एक साल से गायब है। यहां विभिन्न कार्यो से आने वाले लोगों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के लिए ग्राम पंचायत की ओर से हैंडपंप लगाया गया था। हैंडपंप का ऊपरी हिस्सा चोर उठा ले गए। जिससे विकास खंड कार्यालय में आने वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इस संबंध में प्रधान प्रतिनिधि विनोद सिंह ने बताया कि हैं कुछ दिन पहले हैंडपंप गायब हो गया। उसको ठीक कराया जा रहा है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.