हैलो आप का बेटा फेल हो गया है पास करा लीजिए बोर्ड स्टूडेंट्स के घर आ रही हैं ऐसी काॅल

2019-04-14T09:15:12Z

यूपी बोर्ड की परीक्षाओं में छात्रों के फेल होने का भय दिखाकर उनको पास कराने के बदले जालसाज रुपए मांग रहे हैं

- जालसाजों की नई तरकीब, बोर्ड स्टूडेंट्स के पैरेंट्स को काल

- पास कराने के लिए एकाउंट नंबर में रुपए जमा कराने की धमकी

Gorakhpur@inext.co.in
GORAKHPUR: पब्लिक को विभिन्न तरीकों से ठगने वाले जालसाजों ने अब नया तरीका अपनाया है. यूपी बोर्ड की परीक्षाओं में छात्रों के फेल होने का भय दिखाकर उनको पास कराने के बदले जालसाज रुपए मांग रहे हैं. प्रयागराज में मामला सामने आने के बाद यूपी पुलिस ने अलर्ट जारी किया है. डीजीपी हेडक्वार्टर से एसटीएफ सहित अन्य पुलिस टीम को अलर्ट कर दिया है. पुलिस अधिकारियों का कहना है कि ऐसा कोई मामला सामने आने पर पुलिस को सूचना दें. जालसाजों के चक्कर में पड़कर रुपए गवां सकते हैं.

फेल कराने की धमकी, पास कराने का लालच
यूपी बोर्ड की परीक्षाओं के रिजल्ट जारी करने की तैयारी में बोर्ड के अधिकारी जुटे हैं. 2019 के एग्जाम में शामिल हुए कई छात्र-छात्राओं और उनके परिजनों को मोबाइल फोन पर काल कर फेल करने की धमकी दी गई. प्रयागराज और आसपास के जिलों में रहने वाले छात्रों के परिजनों से कहा गया कि उनको पास कराया जा सकता है. बशर्ते एक एकाउंट नंबर में नकदी जमा करानी पड़ेगी. दो हजार रुपए से लेकर पांच हजार तक जमा कराने की बात सुनकर गार्जियन भी हैरत में पड़ गए. कुछ लोगों ने इसकी शिकायत यूपी बोर्ड प्रयागराज के अधिकारियों से की. तब मामले की जांच शुरू होने पर पता लगा कि किसी जालसाज गैंग के पास छात्रों का पूरा ब्यौरा मिल गया है. जिसकी मदद से वह मोबाइल नंबर पर फोन करके धमकी दे रहे हैं. शिक्षा अधिकारियों ने इस मामले की जानकारी डीजीपी हेडक्वार्टर केा दी.

डीजीपी से हुई शिकायत, पुलिस कर रही पड़ताल
डीजीपी हेडक्वार्टर तक मामला पहुंचने पर पूरे यूपी में अलर्ट जारी कर दिया गया. संभावना है कि ऐसा कोई गैंग हो सकता है जो बोर्ड परीक्षार्थियों को फोन कर फेल करने की धमकी दे रहा है. फिर उनको पास कराने का लालच देकर धनउगाही करना चाहता है. ऐसा करने वाले जालसाज बकायदा अपने बैंक एकाउंट नंबर और आईएफएससी कोड भी व्हाट्सअप के जरिए बता रहे हैं. यदि उनकी बात न मानी तो रिजल्ट खराब करने की धमकी दी जा रही. यह मामला संज्ञान आने पर पुलिस टीम ने कई नंबरों को राडार पर लेकर जांच शुरू कर दी है. बोर्ड अधिकारियों का मानना है कि इस तरह की हरकत हर जिले में हो सकती है. ट्रू कालर एप से पता लगा कि सभी नंबर बिहार के हैं. लेकिन पुलिस इसकी तस्दीक करने में जुटी है. यह मामला सामने आने पर पूरे यूपी में अलर्ट जारी किया गया. एसटीएफ को भी जांच की जिम्मेदारी दे दी गई है.

हड़बड़ी में हो सकते हैं गड़बड़ी के शिकार
पुलिस अधिकारियों का कहना है कि गोरखपुर मंडल में ऐसी कोई शिकायत सामने नहीं आई है. लेकिन इस गैंग के सदस्य किसी स्कूल, कॉलेज के स्टूडेंट को फोन कर सकते हैं. ऐसे में उनकी बातों आकर रुपए जमा कराने पर नुकसान होगा. इसलिए हड़बड़ी में किसी तरह की गड़बड़ी का शिकार होने के बजाय कोई काल आने पर तत्काल पुलिस को सूचना दें. ताकि ऐसे रैकेट से जुड़े लोगों को पकड़ा जा सके. ठगी का नया मामला सामने आने पर एसटीएफ गोरखपुर यूनिट ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है.

ये बरतें सावधानी

-बोर्ड परीक्षा के नाम पर आने वाली काल से सावधान रहे.

-फोन करने वाले की बात सुनकर उसके झांसे में न आएं.

-फेल कराने की धमकी, पास कराने का प्रभोलन देने पर पुलिस को बताएं.

-कॉल करने वाले के दिए गए एकाउंट नंबर में कोई नकदी न जमा कराएं.

यदि कोई बार-बार फोन करे तो उसे ब्लैक लिस्ट में डाल दें. कोई जानकारी न दें.

ठगी के लिए जालसाज तरह-तरह के पैतरे अपनाते हैं. इस बार बोर्ड परीक्षा के रिजल्ट के नाम पर ठगी का शिकार बनाने में जुटे हैं. यहां पर कोई मामला सामने नहीं आया है. लेकिन फिर भी टीम एक्टिव है.

सत्य प्रकाश सिंह, इंस्पेक्टर, एसटीएफ गोरखपुर यूनिट


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.