यूपी में बुक्कल नवाब का विवादित बयान हनुमान जी थे मुसलमान

2018-12-21T11:48:28Z

बीजेपी एमएलसी के बयान से हड़कंप। विहिप ने की निंदा हद में रहने की दी सलाह।

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा बीते दिनों हनुमान जी को कथित रूप से दलित बताए जाने से खड़ा हुआ तूफान अभी थमा भी नहीं था कि बीजेपी के एमएलसी बुक्कल नवाब के बयान ने हड़कंप मचा दिया है। अपने विवादित बयानों के लिये चर्चा में रहने वाले बुक्कल ने अब कहा है कि हनुमान जी मुसलमान थे। यही वजह है कि उनके मिलते जुलते नाम सिर्फ मुसलमानों में ही मिलते हैं। वहीं, बीजेपी एमएलसी के इस बयान पर विश्व हिंदू परिषद भड़क उठी है। परिषद के प्रदेश संगठन मंत्री ने इसे हिंदू देवताओं का अपमान बताया है। उन्होंने ऐसे बेलगाम नेता को हद में रहने की हिदायत दी है।
अजीबो गरीब लॉजिक
बीजेपी एमएलसी बुक्कल नवाब ने गुरुवार को कहा कि 'हनुमान जी को जब जाति-धर्म में बांटने की बात होती है तो बता दें कि हनुमान जी पूरे विश्व के थे, सभी धर्मों के प्यारे थे। लेकिन, जहां तक हमारा मानना है कि हनुमान जी मुसलमान थे।' अपने इस विवादित बयान के समर्थन में बुक्कल नवाब ने लॉजिक भी दिया। उन्होंने कहा कि 'मुसलमानों में नाम देख लीजिए-फुरकान, जीशान, रहमान, सुलतान, रमजान इस जैसे 100 नाम बता सकता हूं जो हनुमान जी के नाम से मेल खाते हैं। वहीं, हिंदुओं में एक भी ऐसा नाम नहीं जो हनुमान जी के नाम से मेल खाता हो। ऐसे नाम सिर्फ इस्लाम के मानने वाले ही रखते हैं।'

अपनी हद में रहें बुक्कल

बुक्कल नवाब के इस बयान पर विश्व हिंदू परिषद ने सख्त नाराजगी जताई है। परिषद के प्रदेश संगठन मंत्री अंबरीश ने कहा कि जब हनुमान जी थे तब इस्लाम का नामोनिशान नहीं था। इसलिए, बुक्कल का यह बयान ही हास्यास्पद है। उन्होंने कहा कि विश्व हिंदू परिषद तो हमेशा से यह मानती है कि देश के मुसलमान भी श्रीराम और हनुमान के वंशज हैं। उन्होंने चेतावनी दी कि बुक्कल नवाब राजनीतिज्ञ हैं और सिर्फ राजनीति करें। वे अपनी हद में रहें और हिंदू देवी-देवताओं को लेकर ज्ञान न बघारें, जिससे हमारी आस्था आहत न हो। अगर फिर भी बुक्कल नहीं मानें तो उन्हें उन्हीं की भाषा में समझा दिया जाएगा।

नौकरियां : यूपीबीर्इबी में 69 हजार असिस्टेंट टीचर के लिए निकली भर्ती, 40 साल तक वाले करें आवेदन

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.