एक कार को धोने में प्रतिदिन 200 लीटर पानी बहाते कार वाशिंग सेंटर्स

2019-06-20T06:00:08Z

- 170-180 कार वाशिंग सेंटर्स शहर में

- 90 फीसदी छोटे कार वाशिंग सेंटर शहर में

- 200 लीटर पानी खर्च होता एक कार को वॉश करने में छोटे वाशिंग सेंटर में

- 16-20 लीटर पानी खर्च होता एक कार को वॉश करने में बड़े वाशिंग सेंटर में

- 15 से 20 कारें प्रतिदिन वॉश होती छोटे वाशिंग सेंटर में

- 5 से 6 कारें प्रतिदिन वॉश होती बड़े वाशिंग सेंटर में

- प्रतिदिन एक छोटे कार वाशिंग सेंटर में 10 से 15 कारें होती वॉश

- बड़े सेंटर्स में यह संख्या 5 से 6, नियमों को ताक पर रख चल रहे अधिकांश सेंटर्स

LUCKNOW: एक तरफ जहां लगातार भूगर्भ जल का लेवल गिरता जा रहा है, वहीं दूसरी तरफ शहर की गली-गली में खुले कार वाशिंग सेंटर्स भूगर्भ जल के गिरते स्तर को और भी ज्यादा चिंताजनक स्थिति में ले जा रहे हैं। आलम यह है कि एक छोटे कार वाशिंग सेंटर में प्रतिदिन एक कार को वाश करने में 200 लीटर के करीब पानी बर्बाद कर दिया जाता है जबकि अगर यह पानी बचा लिया जाए तो कई लोगों की प्यास बुझ सकती है। गुजरते वक्त के साथ हालात और भी ज्यादा खराब होते जा रहे हैं।

170-180 कार वाशिंग सेंटर्स

वैसे तो शहर में संचालित कार वाशिंग सेंटर्स की एक्यूरेट संख्या का पता लगाना बेहद मुश्किल है। इसकी वजह यह है कि इस समय शहर की अधिकतर गलियों में धड़ल्ले से कार वाशिंग सेंटर्स संचालित हैं। फिलहाल जो जानकारी मिली है, उससे साफ है कि 170 से 180 के करीब कार वाशिंग सेंटर्स संचालित हैं, जहां प्रतिदिन दर्जनों कार की वाशिंग हो रही है और जमकर पानी की बर्बादी हो रही है।

छोटे वाशिंग सेंटर्स बने मुसीबत

शहर में ज्यादातर छोटे कार वाशिंग सेंटर्स संचालित हैं। इनकी संख्या कुल वाशिंग सेंटर्स की 80 फीसदी है। इनके यहां एक भी मानक पूरा नहीं होता है। यहां पर डेली दो दर्जन से अधिक कारों को वॉश किया जाता है, जिससे खुद अंदाजा लगाया जा सकता है कि पानी की बर्बादी का क्या लेवल होगा।

यहां लगता 16 से 20 लीटर

बड़े कार वाशिंग सेंटर्स की बात की जाए तो छोटे या मध्यम कार वाशिंग सेंटर्स में जहां 150 से 200 लीटर प्रति कार पानी की बर्बादी होती है, वहीं बड़े सेंटर्स में एक कार को धोने में 16 से 20 लीटर पानी यूज किया जाता है। बड़ी कंपनियों के वाशिंग सेंटर्स में री-साइकिल प्लांट भी लगा होता है, जिससे पानी वेस्ट नहीं होता है।

नहीं होती कभी चेकिंग

नगर निगम से लेकर जलकल या फिर जिला प्रशासन की ओर से वाशिंग सेंटर्स में हो रही पानी बर्बादी रोकने के लिए कभी कोई चेकिंग अभियान नहीं चलाया जाता है, जिसकी वजह से कार वाशिंग सेंटर्स का धड़ल्ले से संचालन होता रहता है।

अभियान से जुड़ना होगा

पानी बचाने के लिए सबसे अच्छा विकल्प दैनिक जागरण आईनेक्स्ट की ओर से चलाए जा रहे अभियान एक बाल्टी संडे हो सकता है। इस अभियान के दौरान यही संदेश दिया जा रहा है कि एक बाल्टी पानी से ही कार को वॉश किया जा सकता है, बस जरूरत है तो जागरूकता की। कई पाठकों ने महज एक बाल्टी पानी में कार वॉश करती हुई अपनी पिक्स शेयर कीं।

ये भी हो सकते विकल्प

1-रबड़ लगाकर कार न वॉश करें

2-हर महीने कार न वॉश करवाएं

3-गीले कपड़े से भी कार को किया जा सकता साफ

4-एक बाल्टी पानी का करें यूज

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.