सफाई कर्मियों की मौत में एससीएसटी एक्ट में दर्ज होगा केस

2019-06-28T06:00:08Z

- छिपाने से कुछ नहीं होगा, कार्रवाई के लिए रहिए तैयार

-बाबूपुरवा में हुई 2 सफाई कर्मियों की मौत के मामले में ठेकेदार के साथ ही जल निगम भी बराबर को दोषी

-राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की मेंबर मंजू दिलेर ने दिखाए सख्त तेवर, कहा किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा

KANPUR@inext.co.in

KANPUR : अजीतगंज कॉलोनी, बाबूपुरवा में नाला सफाई के दौरान हुई 2 सफाई कर्मियों की मौत पर एससीएसटी एक्ट में केस भी दर्ज किया जाएगा। राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की मेंबर मंजू दिलेर मामले में हादसे वाली जगह पर जांच करने के लिए कानपुर पहुंचीं। उन्होंने सीधे तौर पर जल निगम को मौत के लिए दोषी ठहराया। निरीक्षण के दौरान जल निगम ने मेनहोल का ढक्कन तक नहीं खुलवाने पर गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के प्रोजेक्ट मैनेजर घनश्याम द्विवेदी को जमकर फटकार लगाई और कहा कि छिपाने से कुछ नहीं होगा। कानूनी कार्रवाई के लिए तैयार रहिये। सिर्फ अभियंताओं के सस्पेंड होने से काम नहीं चलेगा।

परिजनों को मिलेगी नौकरी

मंजू दिलेर ने निरीक्षण से पहले सर्किट हाउस में डीएम, एसएसपी, नगर आयुक्त और जल निगम अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने मृतकों के परिजनों को नौकरी और 10-10 लाख रुपए की मदद के लिए शासन को लिखने के लिए कहा। बता दें कि नाला सफाई के दौरान जहरीली गैस से 19 जून को प्राइवेट सफाई कर्मी रॉबिन कुमार और कल्लू खान की मौत हो गई थी।

--------------

अधिकारी नहीं दे पाए जवाब

-रात में सफाई कराने का रूल ही नहीं है तो सफाई क्यों कराई गई?

-कर्मचारियों को सेफ्टी किट क्यों नहीं दी गई?

-मेनहोल की सफाई मैनुअल क्यों कराई गई?

-सफाई के दौरान कोई अन्य कर्मी मेनहोल के बाहर क्यों नहीं था?


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.