अपना टाइम आएगा

2019-07-16T06:00:07Z

सीसीएसयू में मार्कशीट या किसी डॉक्यूमेंट से रिलेटेड काम को समय पर करना होगा पूरा

कार्य में हीलाहवाली करने वाले कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई

यूनिवर्सिटी में कर्मचारियों के लिए बनाया गया है नया नियम

अब समय पर काम न करने पर कर्मचारियों पर होगा जुर्माना

लापरवाह कर्मचारियों की शिकायत कर सकेंगे स्टूडेंट्स

केस-1

एक महीने से भटकाव

बुलंदशहर निवासी अनुराधा पंवार ने एक महीने पहले डुप्लीकेट मार्कशीट निकालने के लिए फार्म भरा था, उनको दो सप्ताह का समय दिया गया था, लेकिन महीना हो गया है। अभी तक मार्कशीट नहीं मिली है। अब एक सप्ताह की और डेट दे दी गई है, ऐसे में वो रजिस्ट्रार के पास शिकायत लेकर पहुंची थी।

केस-2

दो सप्ताह से परेशान

गाजियाबाद के अरुण शर्मा को सर्टिफिकेट में कुछ सुधार कराना था। लेकिन पिछले दो सप्ताह से लगातार चक्कर काट रहे हैं, पर उनका काम अभी तक नही हुआ कर्मचारी रोजाना टाल देते हैं।

Meerut। अब सीसीएसयू में कर्मचारियों को काम न करना भारी पडे़गा। अब अगर निर्धारित समय के बाद तक काम न हुआ और स्टूडेंट्स को बेफिजूल में भटकाया गया तो कर्मचारियों को हर्जाना भरना होगा, यूनिवर्सिटी रजिस्ट्रार ने अब कर्मचारियों की मनमानी पर लगाम कसने के लिए नया नियम बनाया है, जो अगले सप्ताह से लागू होगा। इसके तहत कर्मचारियों को समय पर काम करना होगा, ताकि स्टूडेंट्स की समस्याएं कम हो सकें।

अक्सर भटकते हैं स्टूडेंटस

अक्सर यूनिवर्सिटी में स्टूडेंट्स को मार्कशीट निकालने या फिर उनके किसी डॉक्यूमेंट के लिए कर्मचारियों द्वारा लिखित रुप से डेट व समय तो दे दिया जाता है, लेकिन बाद में उनको आगे की डेट देकर टरका दिया जाता है। जिससे स्टूडेंट्स को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में अब रजिस्ट्रार ने ये नियम बनाया है कि अगर कोई कर्मचारी काम में लापरवाही बरतता है, तो संबंधित कर्मचारी सख्त कार्रवाई होगी, साथ ही जुर्माना भी लगाया जाएगा।

ऐसे करें शिकायत

स्टूडेंट्स को अपना प्रार्थना पत्र, भरे गए फार्म की स्लिप व जिस एप्लीकेशन पर उस कर्मचारी ने डेट दी है.उसका फोटोकॉपी प्रूफ के तौर पर देनी होगी। अगर कर्मचारी की लापरवाही वाकई ही पाई जाती है तो कार्रवाई होगी, इसके साथ ही स्टूडेंट्स को काम में मदद भी मिलेगी। इसके साथ ही अगर किसी स्टूडेंट को कोई समस्या हो तो वो सीधे यूनिवर्सिटी में संपर्क करें।

मेरे पास कई शिकायतें आई हैं, अब अगर कोई कर्मचारी किसी काम के लिए समय दे रहा है और वो स्टूडेंट्स को उसके बाद भी चक्कर कटवाता है तो संबंधित कर्मचारी पर कार्रवाई होगी, जुर्माना तक लगाया जाएगा।

धीरेंद्र कुमार वर्मा, रजिस्ट्रार सीसीएसयू

ये है नियम

आरटीआई - एक महीने में देना होता है जवाब

मार्कशीट या सर्टिफिकेट - कम से कम एक सप्ताह अधिक से अधिक दो सप्ताह

मेरी मार्कशीट का काम काफी दिनों से अटका हुआ है। कर्मचारी हर बार आगे की डेट देकर भेज देते हैं।

स्वीटी

मैनें दो महीने पहले कॉपी देखने की आरटीआई डाली पर अभी तक जवाब नहीं मिला है, समझ नहीं आता क्या करें।

ज्योति


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.