चीन के राष्ट्रपति चिनफिंग पहुंचे उत्तर कोरिया किम जोंग से कई अहम मुद्दों पर होगी बात

2019-06-20T15:20:49Z

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग गुरुवार को उत्तर कोरिया पहुंच गए हैं। माना जा रहा है कि चीन अपने पड़ोशी को हर तरह से बचाने की कोशिश कर रहा है। अगले हफ्ते शी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप एक दूसरे मिलने वाले हैं।

बीजिंग (रॉयटर्स)। चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग गुरुवार को उत्तर कोरिया पहुंच गए हैं। वह उत्तर कोरिया में दो दिनों तक रहेंगे। इसी तरह शी पिछले 14 सालों में उत्तर कोरिया का दौरा करने वाले पहले चीनी नेता बन गए हैं। बताया जा रहा है कि वह उत्तर कोरिया की अर्थव्यवस्था को बढ़ाने के लिए कई उपाय बता सकते हैं। उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन और उनकी पत्नी री सोल जू ने शी का एयरपोर्ट पर भव्य स्वागत किया। किम की बहन, किम यो जोंग और अमेरिका के साथ हाल ही में हुई परमाणु वार्ता में प्रमुख भूमिका निभाने वाले अधिकारी भी शी से मिले। शी को प्योंगयांग के रास्ते एक कन्वर्टिबल कार में कुमसुसन पैलेस ऑफ द सन ले जाया गया, बीच रास्ते में भी लोगों ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया। मीडिया रिपोर्ट में बताया गया कि सड़कों के दोनों किनारों पर लोगों की भारी भीड़ थी।

पहले दिन किम के साथ करेंगे बैठक
बता दें कि चीन उत्तर कोरिया का केवल एक प्रमुख सहयोगी है और राष्ट्रपति शी की यह यात्रा कोरियाई प्रायद्वीप पर बढ़े तनाव के बीच हुई है क्योंकि अमेरिका प्योंगयांग को अपने परमाणु हथियार छोड़ने के लिए राजी करना चाहता है। चिनफिंग अपनी यात्रा के पहले दिन किम जॉन के साथ बैठक करेंगे और उनके साथ सामूहिक व्यायाम प्रदर्शन भी देखेंगे। वह फ्रेंडशिप टॉवर में उन चीनी सैनिकों को श्रद्धांजलि भी दे सकते हैं, जो 1950-53 के कोरियाई युद्ध के दौरान उत्तर कोरिया के साथ मिलकर लड़े थे। उत्तर कोरिया में किम और चिनफिंग की मुलाकात ओसाका में अगले हफ्ते आयोजित होने वाले G20 समिट से पहले हुई है, जहां चिनफिंग और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप व्यापार से जुड़े सभी विवाद को खत्म करने के लिए बातचीत कर सकते हैं।

चीन ने की उत्तर कोरिया की प्रशंसा

बता दें कि किम पिछले साल से अब तक चार बार चीन का दौरा कर चुके हैं और चीन ने अमेरिका के सदर्भ में उत्तर कोरिया द्वारा उठाये गए कदमों की प्रशंसा की है। चीन का कहना है कि उत्तर कोरिया ने अमेरिका के साथ अपने विवादों को सुलझाने के लिए धमकी की बजाय बातचीत रास्ता अपनाया है, जो सराहनीय कदम है। चिनफिंग अपनी इस यात्रा के दौरान किम जोंग के साथ कई अहम मुद्दों पर चर्चा कर सकते हैं।



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.