सीएम योगी ने हवाई सर्वे में देखी बाढ़ से बर्बादी मोटर बोट में सवार हो पहुंचे बाढ़ पीड़ितों तक

2019-09-21T12:00:12Z

बाढ़ की विभीषिका झेल रहे बनारस की हालत देखने शुक्रवार को प्रदेश के मुखिया सीएम योगी आदित्यनाथ पहुंचे।

वाराणसी (ब्यूरो)। सीएम ने हवाई सर्वे कर बाढ़ की विभीषिका देखी और मोटरबोट से बाढ़ क्षेत्रों का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने पीडि़तों का हाल जाना और राहत सामग्री भी पहुंचाई। सीएम ने कहा कि सरकार हर समय बाढ़ पीडि़तों के साथ खड़ी है। भरोसा दिलाया कि 12 घंटे के अंदर पीडि़तों को राहत सामग्री पहुंचाई जाएगी और जन हानि होने पर 24 घंटे में आर्थिक मदद की जाएगी। सीएम ने आकाशीय बिजली से तीन लोगों की मौत होने पर आश्रितों को चार-चार लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी।

मोटरबोट में हुए सवार
दोपहर में बनारस पहुंचने पर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने हेलीकाप्टर और मोटर बोट से बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लिया। एनडीआरएफ के मोटर बोट से उन्होंने अस्सी से दशाश्वमेध घाट तक निरीक्षण किया। बोट पर मौजूद कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर से बाढ़ प्रभावित इलाकों की जानकारी ली। सीएम ने बाढ़ पीडि़तों को तत्काल राहत सामग्री पहुंचाने का निर्देश दिया। इसके पहले सीएम योगी ने हेलीकॉप्टर से हवाई सर्वे कर बाढ़ की विभीषिका दिखी।
बांटी राहत सामग्री
अस्सी से दशाश्वमेध घाट तक बाढ़ का जायजा लेने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ अस्सी स्थित गोयका संस्कृत महाविद्यालय पहुंचे। यहां बाढ़ पीडि़तों के लिए बनाए गए राहत शिविर का निरीक्षण किया। इस दौरान सीएम ने 33 बाढ़ पीडि़तों को राहत सामग्री उपलब्ध कराई। कहा कि राहत शिविरों में रहने वाले लोगों को समयानुसार शुद्ध खाना की व्यवस्था के साथ पेयजल एवं उनके चिकित्सा सुविधा की भी व्यवस्था सुनिश्चित कराया गया है।
पीएम का निर्देश
सीएम ने कहा कि बेतवा और चंबल नदी से पानी छोड़े जाने के कारण गंगा, यमुना एवं गोमती में पानी का जलस्तर बेतहाशा बढ़ा है। अभी गत दिनों उन्होंने बाढ़ क्षेत्रों का निरीक्षण किया था। पुन: प्रधानमंत्री के निर्देश पर बाढ़ राहत कार्यों का निरीक्षण एवं पीडि़त परिवारों को राहत मुहैया कराए जाने के लिए दौरा कर रहे हैं। सीएम ने वाराणसी में बाढ़ से पीडि़त परिवारों के प्रति पीएम नरेंद्र मोदी एवं स्वयं की तरफ से संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि आपदा की इस घड़ी में शासन एवं प्रशासन बाढ़ पीडि़तों के साथ हैं। उन्होंने कहा कि आपदा की इस घड़ी में प्रधानमंत्री, केंद्र एवं प्रदेश सरकार की पूरी संवेदनशील है। बाढ़ पीडि़तों को तत्काल राहत पहुंचाने के लिए जिलों को पर्याप्त धनराशि की उपलब्धता सुनिश्चित करा दी गई है।
तत्काल पहुंचेगी राहत सामग्री
सीएम ने कहा कि जिला प्रशासन के अधिकारी और जनप्रतिनिधि बराबर बाढ़ पीडि़तों का हाल-चाल जानने के साथ-साथ आवश्यक राहत सामग्री उन्हें उपलब्ध करा रहे। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन को यह निर्देश दिया गया है कि बाढ़ से पीडि़त परिवारों को प्रत्येक दशा में 12 घंटे के अंदर राहत सामग्री तथा जन हानि एवं पशु हानि होने की स्थिति में दिए जाने मुआवजा धनराशि प्रत्येक दशा में 24 घंटे में पीडि़तजनों को उपलब्ध करा दिया जाए। इसमें किसी भी स्तर पर कतई लापरवाही और विलम्ब नहीं होनी चाहिए।

दिया मुआवजा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 17 सिंतबर को आकाशीय बिजली गिरने के कारण जंसा के सत्तनपुर की मृत सुनीता देवी, संजू गुप्ता और सीमा देवी के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की आर्थिक सहायता राशि उपलब्ध कराया।
varanasi@inext.co.in



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.