प्रधानों को मिलेगी विधायकों से ज्यादा निधि

2018-06-11T06:00:15Z

- ट्रेड फैसिलिटेशन सेंटर में 760 ग्राम प्रधानों और पंचायत सदस्यों से मिले मुख्यमंत्री योगी

- 20 हजार से ज्यादा आबादी वाले गांवों के विकास को सरकार देगी दो-दो करोड़ रुपये

- 5000 लोगों का इलाज करा सकेंगे ग्राम प्रधान, सरकार उठाएगी खर्च

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को बड़ालालपुर स्थित पं। दीनदयाल उपाध्याय हस्तकला संकुल में जिले के 760 ग्राम प्रधानों और पंचायत सदस्यों से मुलाकात की। ग्राम स्वराज अभियान एवं स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) योजना के तहत ग्राम प्रधान संवाद कार्यक्रम में उन्होंने लगभग 45 मिनट का संबोधन दिया। इस दौरान उन्होंने बताया कि ग्राम प्रधानों को अब विधायकों से ज्यादा सालाना निधि मिलेगी। इसके लिए 20 हजार से ज्यादा आबादी वाले 13 हजार 500 गांवों को चिह्नित किया गया है।

गांव की सरकार बदलेगी तकदीर

सीएम ने अपने संबोधन में जनप्रतिनिधियों को विकासपरक सोच रखने को चेताया। उन्होंने कहा कि योजनाओं का लाभ सभी के लिए है, इसके लिए वोट देने-न देने वालों को अलग करने की जरूरत नहीं है। विधवा, दिव्यांग, किसान पेंशन के अलावा राशन कार्ड और अन्य योजनाओं का लाभ हर ग्रामीण तक पहुंचाया जाए। उन्होंने कहा कि 1970 में गरीबी हटाओ का नारा दिया गया था मगर सरकारों की यह विफलता है कि गरीबों का भला नहीं हो सका। 2014 में प्रधानमंत्री मोदी ने सत्ता संभालने के बाद गरीबों के लिए तमाम योजनाएं शुरू कीं। 60 वर्षो में जितनी योजनाएं चलीं, उनसे ज्यादा मोदी सरकार के चार साल में लागू हुई हैं। योगी ने कहा कि इन योजनाओं को गांव-गांव तक पहुंचाना है। गांव की सरकार ही देश की तकदीर बदलेगी।

बढ़ायें स्वच्छता अभियान

मुख्यमंत्री ने बताया कि 20 हजार की आबादी वाली ग्राम पंचायतों को हर साल दो करोड़ रुपये की धनराशि मिलेगी। जबकि विधायक निधि में 1.40 करोड़ सालाना ही मिलता है। योगी ने स्वच्छ भारत अभियान की चर्चा करते हुए कहा कि इसमें ग्राम प्रधानों की भूमिका अहम हो सकती है। उन्होंने बताया कि ग्राम स्वराज योजना के पहले चरण में देश के 21 हजार 500 गांवों का चयन किया गया है, इनमें यूपी के 3387 गांव हैं। दूसरे चरण में यूपी में 13 हजार 500 गांवों का चयन किया गया है।

खुले में शौचमुक्त गांवों को दी प्रोत्साहन राशि

मुख्यमंत्री ने इससे पहले ओडीएफ घोषित हुए गांवों में पिंडरा ग्राम प्रधान विनय कुमार सिंह, बड़ागांव के दीपक सिंह, हरहुआ के संजय कुमार, चोलापुर की शीला देवी, सेवापुरी के रामप्रसाद, आराजीलाइन की मीना कुमारी, काशी विद्यापीठ की मुनक्का देवी और चिरईगांव के अनमोल को चार हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि दी। इसके साथ काशी विद्यापीठ के प्रधान रामदुलार यादव और सेवापुरी के अनिल पटेल को पं। दीनदयाल उपाध्याय योजना के तहत प्रमाण पत्र भी दिए। इस दौरान राज्यमंत्री डॉ। नीलकंठ तिवारी, एमएलसी लक्ष्मण आचार्य, डॉ। चेतनारायण सिंह, विधायक सौरभ श्रीवास्तव, रविंद्र जायसवाल, सुरेंद्र नारायण सिंह, डॉ। अवधेश सिंह, कमिश्नर दीपक अग्रवाल, डीएम योगेश्वर राम मिश्र आदि मौजूद रहे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.