कहते थे लैपटॉप से क्या होगा अब डिजिटल इंडिया की बात करते हैं सीएम

2015-10-03T07:41:35Z

- एक सुर एक ताल कार्यक्रम में गूंजे नैतिक मूल्यों के तराने

- 11 हजार बच्चों ने बांधा समां, युवक बिरादरी और माध्यमिक शिक्षा विभाग के संयुक्त तत्वावधान में हुआ आयोजन

आगरा। जब हमने लैपटॉप बांटे तो कहते थे कि इससे क्या होगा? अब वे ही लोग डिजिटल इंडिया की बात कर रहे हैं। हमने युवाओं को जागरूक करने का काम किया है। महात्मा गांधी ने जो सत्य अहिंसा का संदेश दिया था। उनका बताया हुआ संदेश ही खुलहाली का रास्ता है। उसके लिए इस प्रकार के कार्यक्रमों की आवश्यकता है। ये उद्गार प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने व्यक्त किए। शुक्रवार को वे एकलव्य स्टेडियम में आयोजित एक सुर एक ताल कार्यक्रम में बोल रहे थे। उनका कहना था कि जिस प्रकार दुनिया में जीडीपी और सेंसेक्स की बहस होती है, उसी प्रकार से नैतिक मूल्यों व पर्यावरण की बहस भी होनी चाहिए। इस दौरान उन्होंने 17 युवा जिमनास्टिक खिलाडि़यों को 50 हजार से पुरस्कृत किया।

एक फूल है हर इंसान, हर मजहब डाली है

एकलव्य स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम एक सुर, एक ताल कार्यक्रम युवक बिरादरी ने माध्यमिक शिक्षा विभाग के सहयोग से नैतिक मूल्यों का संदेश दिया। इस दौरान संस्था के कलाकारों ने गीत-संगीत के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण, नैतिक मूल्यों सामाजिक समरसता का संदेश दिया। स्टेडियम के मैदान में मौजूद 11 हजार छात्र-छात्राओं अपनी भाव भंगिमा से सभी को मंत्र-मुग्ध कर दिया। इस दौरान इक बाग है यह दुनिया, वो ईश्वर माली है, तू हिन्दू बनेगा न मुसलमान बनेगा, इंसान की औलाद है इंसान बनेगा, तेरी खुशी मेरी बन्दगी, वैष्णव जन तो तेने कहिए, जो पीर पराई जाने रे के अलावा मराठी गीत गाकर समां बांध दिया।

इनको किया सम्मानित

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जिमनास्टिक के खिलाडि़यों को 50 हजार रुपये से पुरस्कृत किया। इनमें आयुषी शर्मा, मोहम्मद शमां, अविनाश पाण्डे, मोहम्मद आरिफ, गगन यादव, रामप्रवेश दुबे, कमल श्रीवास्तव, अरुण कुमार यादव, सुनील पटेल, अंकुश कुमार, रिषभ निषाद, गौरव कुमार, मोहम्मद, मोहम्मद जावेद, गुरुमीत को पुरस्कृत किया।

आगरा में हुआ ऐतिहासिक कार्यक्रम

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि आगरा में एक सुर एक ताल कार्यक्रम ऐतिहासिक कार्यक्रम है। इससे पहले युवक बिरादरी ने 26 जनवरी को लखनऊ में इसके बाद सैफई में कार्यक्रम किया था, लेकिन आगरा में 11 हजार छात्र-छात्राओं ने भाग लिया है। इसके लिए मैं छात्र-छात्राओं को बधाई देता हूं। उन शिक्षकों अधिकारियों को भी धन्यवाद देता हूं। सीएम ने कहा कि बच्चे दो बजे से ही बैठे हैं। ये बड़ी बात है। वहीं युवक बिरादरी संस्था की आयोजक स्वर क्रांति ने कहा कि आगरा ने गालिब, सूरदास, नजीर आदि को जन्म दिया है। संस्था प्रदेश को उत्तम प्रदेश में बनाने में सहयोग करती रहेगी। वहीं सीएम ने भी उन्हें सहयोग का भरोसा दिलाया। वहीं माध्यमिक शिक्षा मंत्री महबूब अली ने अपने संबोधन में कहा कि समाज में गुरु-शिष्य की परंपराएं खत्म होती जा रही है। नैतिक मूल्यों के प्रति जागरूक करना होगा। प्रदेश सरकार ने युवा प्रतिभाओं को निखारने का काम किया है। वहीं माध्यमिक शिक्षा सचिव जितेन्द्र कुमार ने कहा कि अब स्कूलों को ग्रीन स्कूल बनाने का काम शुरु किया जाएगा।

ये रहे मौजूद

कार्यक्रम में सपा के वरिष्ठ नेता राजेन्द्र चौधरी, रामसकल गुर्जर, रामजीलाल सुमन, रामसहाय यादव, कैबिनेट मंत्री अरिदमन सिंह के अलावा डीएम पंकज कुमार, एसएसपी डॉ। प्रीतिन्दर सिंह, माध्यमिक शिक्षा निदेशक आरपी शर्मा, डीआईओएस दिनेश यादव, बीएसए धर्मेन्द्र सक्सेना, एडीएम सिटी, एडीएम फाइनेंस, एसपी सिटी समेत कई प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.