सीएम ने कुंआवाला में रखी कोस्टगार्ड भर्ती सेंटर की नींव

2019-06-29T06:00:46Z

- सीएम ने कोस्टगार्ड भर्ती सेंटर का किया शिलान्यास

- 42 करोड़ रुपए की लागत से दून के कुआंवाला-हर्रावाला में बनेगा कोस्टगार्ड भर्ती सेंटर

- स्टेट के युवाओं को तटरक्षक बल में जाने का मिलेगा मौका, डेढ़ वर्ष में बनकर तैयार हो जायेगा सेंटर

>DEHRADUN: सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने फ्राइडे को कुंआवाला-हर्रावाला में कोस्टगार्ड भर्ती सेंटर का शिलान्यास व भूमि पूजन किया। भर्ती सेंटर के लिए केंद्र से 17 करोड़ रुपए भूमि व 25 करोड़ रुपए भवन निर्माण के लिए स्वीकृति मिल चुकी है। सेंटर का पूरा खर्चा केंद्र सरकार वहन करेगी। सेंटर डेढ़ वर्ष में बनकर तैयार हो जायेगा।

तीन राज्यों को मिलेगा फायदा

सेंटर से उत्तराखंड के अलावा यूपी, हिमाचल व हरियाणा के युवाओं को इसका लाभ मिल पाएगा। इस मौके पर सीएम ने कहा कि उत्तराखंड में कोस्टगार्ड भर्ती सेंटर खुलने से प्रदेश के युवाओं को कोस्टगार्ड में रोजगार के अच्छे अवसर मिलेंगे। थलसेना, वायुसेना व नौसेना के भर्ती सेंटर उत्तराखंड में पहले से ही हैं। कोस्टगार्ड भर्ती सेंटर खुलने से स्टेट के युवाओं को तटरक्षक बल में करियर बनाने की गोल्डन ऑपरच्युनिटी मिलेगी। कहा, यह रैबार कार्यक्रम का ही प्रतिफल है कि उत्तराखंड में कोस्टगार्ड का भर्ती सेंटर खुलने जा रहा है। जबकि दून में देश का पहला ड्रोन एप्लीकेशन रिसर्च सेंटर खुल चुका है। उत्तराखंड में पांचवें धाम के रूप में सैन्यधाम को विकसित करने के पीएम के संकल्प की दिशा में यह एक बड़ी पहल है।

सैन्यधाम के लिए जमीन का चयन

सीएम ने कहा कि दून में जल्द ही भव्य शौर्य स्थल (सैन्यधाम) बनकर तैयार हो जाएगा। इसके लिए दून में 70 बीघा जमीन का चयन कर लिया गया है। शौर्य स्थल सबके लिए इंस्पायरेबल सेंटर होगा। सीएम ने कहा कि रानीपोखरी में नेशनल लॉ युनिवर्सिटी बन रही है। इससे प्रदेश के युवाओं को लॉ की पढ़ाई के साथ-साथ कानून के क्षेत्र में कार्य करने का सुनहरा अवसर मिलेगा। स्टेट में ज्यादा टूरिस्ट आएं, इसके लिए हवाई सेवाओं को विस्तार दिया जा रहा है। जॉलीग्रांट एयरपोर्ट का विस्तार किया जा रहा है। डोईवाला में देश का 23वां सीपैट संस्थान खुल चुका है। सीपैट एक ऐसा संस्थान हैं, जिसमें कोर्स करने से रोजगार की बहुत प्रबल संभावनाएं हैं। इसमें जल्द ही डिप्लोमा व डिग्री कोर्स भी शुरू किये जायेंगे।

राज्य के लिए कुछ करने की तमन्ना थी

डीजी कोस्टगार्ड राजेन्द्र सिंह ने कहा कि गत वर्ष सीएम आवास पर रैबार कार्यक्रम में प्रदेश की बड़ी हस्तियों का जो मंथन हुआ। उसके रिजल्ट सबके सामने हैं। कहा, देवभूमि उत्तराखंड का वासी होने के नाते मेरे मन में उत्तराखंड के युवाओं के लिए कुछ करने की तमन्ना थी। यह भर्ती सेंटर लगभग डेढ़ साल में बनकर तैयार हो जाएगा। कोस्टगार्ड के जरिए एसडीआरएफ को आपदा से बचाव राहत कायरें की ट्रेनिंग दी जाएगी। भारत की कोस्टगार्ड विश्व की चौथी सबसे बड़ी कोस्टगार्ड है। इस दौरान मेयर सुनील उनियाल गामा, अनीता मंमगाई, सचिव कौशल विकास एवं सेवायोजन रणजीत सिन्हा, अपर सचिव डॉ। अहमद इकबाल आदि मौजूद रहे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.