इविवि में ठेके और कमीशन के खिलाफ होगी पीआईएल

Updated Date: Fri, 19 Apr 2019 06:00 AM (IST)

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: इलाहाबाद यूनिवर्सिटी छात्रसंघ की पूर्व अध्यक्ष ऋचा सिंह का कहना है कि जिला और विवि प्रशासन कैंपस में बढ़ती अराजकता तथा अपराध पर लगाम लगाने में नाकाम है. अपराधियों को हाथ लगाने की न जिला प्रशासन की हिम्मत है और न ही विवि प्रशासन में. अपने निजी स्वाथरें के लिए छात्रों के सामने अपराधियों को खड़ा करने के लिए विवि प्रशासन ऐसे अपराधियों को पोषित करता है औऱ उनके ठेके-पट्टे की व्यवस्था करता है. ऋचा का कहना है कि जल्द ही हाईकोर्ट में विवि में होने वाले ठेके और कितना कमीशन तय किया गया है इसको लेकर समस्त साक्ष्यों के साथ पीआईएल की जाएगी.

हास्टल में छात्रों का सामान तहस-नहस

विवि में लगातार चल रही छापेमारी छात्रों की वार्षिक परीक्षा में काफी व्यवधान डाल रही है. कार्रवाई के दौरान जो हत्यारोपी हैं वह पहले से भागे हैं और इसका शिकार वार्षिक परीक्षा की तैयारी कर रहे आम छात्रों को होना पड़ रहा है. पुलिस के रेड में छात्रों के कूलर, लैपटॉप, वाहन आदि को बर्बरता पूर्वक तोड़ा जा रहा है. इसके खिलाफ छात्रसंघ उपाध्यक्ष अखिलेश यादव के नेतृत्व में छात्रों ने प्रदेश सरकार, पुलिस प्रशासन व विवि प्रशासन का पुतला फूंका. छात्र नेता सौरभ सिंह का कहना है कि यदि विवि चेता नहीं तो छात्र सड़क पर उतरेंगे. प्रदर्शन में दुर्गेश सिंह, संदीप प्रॉक्टर, आनंद सेंगर, अंकित यादव, सौरभ शर्मा, श्याम यादव, एनएसयूआई जिलाध्यक्ष पृथ्वी प्रकाश तिवारी मौजूद रहे.

निर्दोष छात्रों को तत्काल छोड़ें

इविवि के छात्रनेता और समाजवादी युवजन सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष राघवेन्द्र यादव ने कहा कि सरकार का छात्रों के ऊपर पुलिसिया दमन हम नहीं सहेंगे. राघवेन्द्र ने कहा पुलिस और विवि प्रशासन जब कोई घटना हो जाती है तो ये फर्जी कारवाई के नाम पर और माहौल बनाने के लिए निर्दोष छात्रों को मारते पीटते है. हमारी मांग है जितने भी निर्दोष छात्रों को पुलिस ने पकड़ा है. उनको तत्काल छोड़े. छात्रनेता नेहा यादव ने राष्ट्रपति, मानव संसाधन विकास मंत्रालय को कुलपति पर कार्यवाही के लिए तथा पुलिस प्रशासन से प्रताडि़त हो रहे छात्रों के समर्थन में पत्र फैक्स किया है. उन्होंने कहा है कि कुलपति के कार्यकाल में लगातार आपराधिक घटनाएं बढ़ी हैं. विवि के संरक्षण में छात्रों की जगह गुंडे पल रहे हैं.

Posted By: Vijay Pandey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.