आईपीएल के सामने कहीं नहीं ठहरता है पाक का पीएसएल जयदेव उनादकट की कीमत में खरीदी जा सकती है पूरी टीम

2019-01-10T14:06:28Z

आईपीएल और पीएसएल के बजट में है जमीन आसमान का अंतर। 2019 के लिए पीएसएल की हर टीम के पास था महज 8 64 करोड़ रुपए का बजट तो आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स ने उनादकट को 8 4 करोड़ में खरीदा।

newsroom@inext.co.in
KANPUR : भारत का पड़ोसी देश पाकिस्तान हर मामले में भारत को टक्कर देने की कोशिशों में लगा रहता है। भारत ने जब आईपीएल में पाकिस्तानी खिलाडिय़ों को खिलाना बंद किया तो पाकिस्तान ने इसी की तर्ज पर पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) की शुरुआत कर दी। अब पाक पीएसएल को आईपीएल के सामने खड़ा करने की पुरजोर कोशिश कर रहा है। हालांकि सच्चाई ये है कि ये इवेंट आईपीएल की तुलना में कहीं नहीं ठहरता। इसका पता इसी बात से लगाया जा सकता है कि आईपीएल 2019 के लिए दिसंबर में लगी बोली के दौरान जयदेव उनादकट को जिस कीमत पर खरीदा गया उतने में पीएसएल की एक पूरी टीम खरीदी जा सकती है।
10 गुना ज्यादा है आईपीएल का बजट
आईपीएल 2019 के लिए दिसंबर में खिलाडिय़ों की नीलामी की गई थी। नीलामी में कुल 106.80 करोड़ की कीमत में 60 खिलाडिय़ों को खरीदा गया। इन 60 खिलाडिय़ों में सबसे महंगी बोली तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट के लिए लगी। राजस्थान रॉयल्स ने 8.40 करोड़ में उनादकट को खरीदा है। अब यहीं रकम पीएसएल में लगाई जाती तो इससे एक पूरी टीम खरीदी जा सकती थी। दरअसल, आईपीएल और पीएसएल के बजट में जमीन आसमान का फर्क है। 2019 के लिए पीएसएल की हर टीम के पास 1.2 मिलियन डॉलर (करीब 8.64 करोड़ रुपए) का बजट था, जबकि आईपीएल में हर टीम के पास 80 करोड़ का बजट है। जो पीएसएल से करीब 10 गुना ज्यादा है।
कमाई में भी पीछे
सिर्फ इतना ही नहीं, अगर दोनों लीग्स की कमाई की तुलना की जाए तो इसमें भी जमीन आसमान का अंतर है। जहां आईपीएल की टाइटल स्पांसरशिप को चाइनीज मोबाइल कंपनी वीवो ने 5 साल के लिए 2199 करोड़ रुपए में खरीदा है तो वहीं, पीएसएल की टाइटल स्पांसरशिप के लिए हबीब बैैंक लि. ने तीन साल के लिए 323.5 करोड़ रुपए खर्च किए हैैं। मीडिया राइट्स की बात करें तो आईपीएल के लिए स्टार इंडिया ने 5 साल के लिए जहां 16,347 करोड़ रुपए खर्च किए हैैं तो वहीं, पीएसएल ने महज 7.5 करोड़ में यह अधिकार बेचे हैैं।
प्रॉफिट में भी पीछे
आईपीएल के 11वें सीजन में सारे खर्च हटाने के बाद बीसीसीआई को जहां 2017 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ है। वहीं पीएसएल ने दूसरे सीजन में महज 6 करोड़ रुपए का मुनाफा दर्ज किया है।
सबसे महंगा खिलाड़ी
आईपीएल: आरसीबी ने कप्तान विराट कोहली को 17 करोड़ रुपए खर्च करके रिटेन किया है, जो सबसे ऊंची कीमत है। वहीं राजस्थान रॉयल्स ने 12.5 करोड़ रुपए में इंग्लैैंड के आलराउंडर बेन स्टोक्स को खरीदा था।
-पीएसएल के सीजन-3 में न्यूजीलैैंड के फॉर्मर कैप्टन ब्रेंडन मैकुलम को लाहौर कलंदर्स ने 2.79 करोड़ रुपए में खरीदा है, जो लीग के सबसे महंगे खिलाड़ी हैैं।
प्राइज मनी
-2018 आईपीएल में आईपीएल ने 8 टीमों के बीच 9 मिलियन डॉलर (करीब 54 करोड़ रुपए) बांटे थे, जबकि चैैंपियन टीम को अकेले 4 मिलियन डॉलर (करीब 24 करोड़ रुपए) मिले थे।
-दूसरी तरफ, पीएसएल के सीजन-3 में चैैंपियन टीम को महज एक मिलियन डॉलर (60 लाख रुपए) मिले थे तो ओवरआल प्राइजमनी 3.5 मिलियन डॉलर (करीब 2.1 करोड़ रुपए) रही थी।
फ्रेंचाइजी कॉस्ट
आईपीएल की 8 टीमों ने 2008 में सिटी बेस्ड फ्रेंचाइजी के लिए बीसीसीआई को कुल मिलाकर 723.5 मिलियन डॉलर दिए थे। दो साल पहले जब चेन्नई और राजस्थान को बैन किया गया तो नई टीम पुणे ने दो साल के लिए 16 करोड़, जबकि गुजरात ने 10 करोड़ रुपए चुकाए थे।
-दूसरी तरफ, पीएसएल ने 2015 में अपनी 5 टीमों को महज 90.45 मिलियन डॉलर में बेचा था, जबकि 2018 में उन्होंने मुल्तान सुल्तान फ्रेंचाइजी को 8 साल के लिए 41.6 मिलियन डॉलर में बेचा।

IPL-2019 शुरु होगा 23 मार्च से, चुनाव की सरगर्मी के बीच भारत में गूंजेगा क्रिकेट का रोमांच

पाकिस्तान के 'IPL' ने बेचे 250 करोड़ के प्रसारण अधिकार, कभी गरीबी का उड़ता था मजाक


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.