लॉ फैकेल्टी में नए शैक्षिक सत्र से मिलेगी कैंटीन

2019-03-04T06:00:48Z

सीएमपी कॉलेज के स्टूडेंट्स को खाने पीने के लिए भटकना नहीं पड़ेगा

एक महिला छात्रावास के निर्माण को भी जल्द ही मिलेगी मंजूरी

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के सीएमपी पीजी कॉलेज में पढ़ाई करने वाले छात्र-छात्राओं के लिए अच्छी खबर है। सीएमपी के लॉ फैकेल्टी कैम्पस में नई कैंटीन का निर्माण कार्य शुरु किया जा चुका है। इसके बाद नए शैक्षिक सत्र से कैम्पस में पढ़ाई करने आने वाले स्टूडेंट्स को अब खाने पीने की सुविधाओं के लिए भटकना नहीं होगा। इसके अलावा सीएमपी ने एक नए महिला छात्रावास के निर्माण की प्लानिंग भी शुरु कर दी गई है।

जनवरी में चलाया था मूवमेंट

सीएमपी लॉ कॉलेज में खाने पीने की सुविधा के लिए एक कैंटीन की मांग लम्बे समय से की जा रही है। जनवरी माह में छात्रों से जुड़ी विभिन्न मांगों को लेकर छात्रसंघ के वाइस प्रेसिडेंट मो। राशिद की अगुवाई में कई दिनों तक अनशन चला था। इसमें यह मांग भी शामिल थी। उसी समय कॉलेज ने छात्रों को भरोसा दिलाया था कि उनकी मांगों पर जल्द ही काम शुरु कर दिया जाएगा। इस बावत सीएमपी के प्रिंसिपल डॉ। बृजेश से बात की गई तो उन्होंने बताया कि लॉ फैकेल्टी में एक खूबसूरत कैंटीन बनाई जा रही है।

हेल्दी फूड की मिलेगी च्वाईस

प्रिंसिपल डॉ। बृजेश ने बताया कि यह कैंटीन एक माह के भीतर बनकर तैयार हो जाएगी। इसका सबसे ज्यादा फायदा नए शैक्षिक सत्र से कैम्पस में आने वाले छात्रों को मिलेगी। यहां बैठने की सुविधा भी होगी और वे सभी चीजें अवेलेबल होंगी, जिसकी मांग लंच टाईम में छात्र करते हैं। उन्होंने बताया कि कैंटीन में हेल्दी फूड को ही च्वाईस के तौर पर रखा जाएगा। इसमें फास्ट फूड नहीं बेचा जा सकेगा। उन्होंने यह भी जानकारी दी कि कॉलेज की ग‌र्ल्स विंग की जमीन पर नए महिला छात्रावास के निर्माण के लिए विवि प्रशासन से अनुमति ली जाएगी।

यूजीसी देगा बजट को मंजूरी

कॉलेज प्रशासन की प्लानिंग है कि हास्टल के कमरे, उनमें रहने वाली छात्राओं की संख्या, संसाधन, बजट आदि का एक प्रपोजल जल्द ही विवि को भेजा जाएगा। वहां से एप्रुवल मिलने के बाद यूजीसी से भी बजट की मंजूरी ली जाएगी। इसके बाद टेंडर निकालकर छात्रावास के निर्माण का काम सीपीडब्ल्यूडी को सौंपा जाएगा। मालूम हो कि सीएमपी मेन कैम्पस में अभी सम्पूर्णानंद छात्रावास स्थापित है, जिसमें ब्वायज के ही रहने की सुविधा है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.