चिलचिलाती धूप के सितम से शहर में क‌र्फ्यू जैसा माहौल

2019-06-17T09:34:02Z

धूप की शिद्दत से परेशान गोरखपुराइट्स का इन दिनों घर से बाहर निकलना दूभर हो गया है। कुदरत के कहर से सभी की मुश्किलें बढ़ गई हैं।

gorakhpur@inext.co.in

GORAKHPUR: मौसम की सख्ती का असर लगातार जारी है. मैक्सिमम टेंप्रेचर लगातार नए रिकॉर्ड बना रहा है, तो वहीं अब मिनिमम भी परेशान करने लगा है. हालत यह हो गई है कि चिलचिलाती धूप के सितम से शहर में कफ्र्यू सा माहौल है. लोग घरों में कैद रहे और वहीं बहुत जरूरी होने के बाद ही घरों से बाहर निकल रहे हैं. मौसम विभाग के जिम्मेदारों की मानें तो आने वाले दिनों में मौसम का सितम कुछ कम होगा. 17 से 21 जून के बीच लोगों को राहत मिलेगी. इस दौरान गोरखपुर और आसपास के क्षेत्रों में बदली के साथ बारिश हो सकती है.

44 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचा मैक्सिमम

मौसम की उठापटक के बीच टेंप्रेचर में भी लगातार इजाफा होता जा रहा है. पिछले तीन-चार दिनों से टेंप्रेचर 40 डिग्री के ऊपर बना हुआ है. शनिवार को मौसम पिछले सात साल के सारे रिकॉर्ड तोड़े हुए 44 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया. तेज कड़ी धूप खिली, जिसकी वजह से दिनभर लोग परेशान रहे. दोपहर बाद मौसम की सख्ती और ज्यादा बढ़ गई. इसकी वजह से लोग मुश्किल में रहे. देर शाम तक इसका असर भी देखने को मिला. इस दौरान टेंप्रेचर डिफरेंस भी करीब 15 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया. मैक्सिमम टेंप्रेचर 42.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया, जबकि मिनिमम टेंप्रेचर 27.3 डिग्री सेल्सियस रहा.

 

हीट स्ट्रोक से यह होती है प्रॉब्लम

- सिरदर्द

- सिर चकराना

- जी मिचलाना

- बेहोशी

- अधिक प्यास

- शरीर मे भारीपन

- तेज बुखार

- पसीना आना बंद

- स्किन ड्राई

- गले में खराश

- रैशेज

- पेट में जलन और अपच

- उल्टी और दस्त

- शरीर में खुजली

- खांसी सर्दी और जुकाम बढ़ जाना

 

हीट स्ट्रोक पर फौरन करें -

- फौरन छायादार और ठंडी जगह ले जाए

- कपड़े को ढीला कर देना चाहिए

- लू लगने पर स्किन गीले कपड़े से स्पंज करना चाहिए

- होश में हो तो उसे लगातार ठंडा पानी और जूस देना चाहिए

- फ‌र्स्ट एड के बाद अस्पताल ले जाने में देर न करें, क्योंकि इससे मौत भी हो सकती है

 

क्या करें

- ठंडे पानी से नहाए

- नहाने के फौरन बाद कपड़े पहने

- एसी या कूलर के सामने आने से बचें

- बासी खाने न खाएं, वहीं देर समय से कटे फलों का इस्तेमाल न करें.

- लिक्विड डाइट लें.

- तब तक खाना न खाएं जब तक भूख न लगे

- पूरी आस्तीन वाले कपड़े पहने और हेलमेट का इस्तेमाल करें

 

मौसम में इस वक्त जो टेंप्रेचर है, वह काफी खतरनाक है. सावधानी बरतें. बासी खाने से बचें. बाहर का खाने से बचें और जहां तक पॉसिबल हो लिक्विड डाइट का इस्तेमाल करें.

- डॉ. संदीप श्रीवास्तव, फिजिशियन


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.