लातेहर में दो बच्चों की मिली सिरकटी लाश नरबलि की आशंका

2019-07-12T11:04:24Z

स्थानीय लोगों की सूचना पर पुलिस टीम मौके पर पहुंची तो सुनील उरांव नामक व्यक्ति के घर रखे बालू के ढेर से दो बच्चों की सिरकटी लाश बरामद हुईं

ranchi@inext.co.in
RANCHI : लातेहार जिले में मनिका थाना क्षेत्र के सेमरहत में गुरुवार को दो मासूमों की सिरकटी लाश बरामद होने के बाद इलाके में सनसनी फैल गई है. स्थानीय लोगों की सूचना पर पुलिस टीम मौके पर पहुंची तो सुनील उरांव नामक व्यक्ति के घर रखे बालू के ढेर से दो बच्चों की सिरकटी लाश बरामद हुईं. समाचार लिखे जाने तक दोनों शवों के कटे सिर बरामद नहीं किए जा सके थे. घटनास्थल पर बड़ी संख्या में आसपास के लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग कर रहे हैं.

क्या है मामला

मृतक के परिजनों के अनुसार, सेमरहत निवासी सुनील उरांव खुद को ओझा बताता था. बुधवार को उसने पड़ोसी वीरेंद्र ग्राम के बेटे निर्मल उरांव (08 वर्ष) एवं बिहारी उरांव की बेटी शीला कुमारी (06 वर्ष) की बलि दे दी और शव को अपने घर के पीछे रखे बालू के ढेर में गाड़ दिया. स्थानीय लोगों के अनुसार, बीती शाम से ही सुनील के घर में बाहर से ताला बंद है. अनुमान लगाया जा रहा है कि घटना को अंजाम देने के बाद से ही सुनील फरार हो गया है.

क्या कहते हैं मृतकों के पिता

मृत बच्चे के पिता वीरेंद्र उरांव ने बताया कि सुनील ने ही उसके बेटे की हत्या की है. उन्होंने बताया कि मंगलवार को उसके मोबाइल पर सुनील से बात कराने के लिए फोन आया. सुनील ने मोबाइल रख लिया और कहा कि बाद में वह मोबाइल दे देगा. इसके बाद वीरेंद्र ने बुधवार की सुबह अपने बेटे निर्मल को फोन लाने के लिए भेजा मगर निर्मल मोबाइल लेकर नहीं लौटा तो वह काफी देर बाद बाइक लेकर खुद सुनील के घर पहुंचा तो उसने बताया कि निर्मल मोबाइल लेकर चला गया है. इसके बाद सुनील ने थोड़ी देर में आने की बात कहकर वीरेंद्र की बाइक मांगी और कहीं चला गया. कुछ घंटे बाद जब वीरेंद्र दोबारा सुनील के घर पहुंचा तो देखा कि वह अंदर से घर बंद कर पानी से धो रहा है. आवाज लगाने पर कहा कि वह नहा रहा है. इसके थोड़ी देर बाद ही वह ताला बंद कर लापता हो गया. अचानक बालू के ढेर में लाश होने की सूचना के बाद जब पुलिस ने शव बरामद किया तो निर्मल और शीला की सिर कटी लाशा देखकर सभी स्तब्ध रह गए.

क्या कहते हैं मुखिया

पंचायत के मुखिया राजेन्द्र उरांव ने कहा कि सुनील उरांव में जागरुकता की घोर कमी थी, उसने अंधविश्वास के फेर में भूत पिशाच के चक्कर में दो बच्चों की बलि दी है. यह अक्षम्य अपराध है, दोषी को हर हाल में कड़ी सजा मिलनी चाहिए.

पुलिस ने घटनास्थल को किया सील

घटना की सूचना के बाद पुलिस घटनास्थल पर पहुंच गई है. पूरे इलाके को सील कर दिया गया है. मृत बच्चे के शव को निकालने और आरोपी सुनील उरांव के बंद घर में ताले को तोड़ने के लिए मजिस्ट्रेट नियुक्त किए गए हैं. विशेषज्ञों की टीम आने के बाद सुनील के घर का ताला तोड़ा गया तो घर में कई स्थानों पर खून के छींटे और रक्त से सने कपड़े बरामद किए गए.

पहुंची सीनियर अफसरों की टीम

मामले की जानकारी मिलने पर जिला मुख्यालय से लातेहार एसडीएम जेपी झा, एसडीपीओ वीरेंद्र राम, थाना प्रभारी बालूमाथ सुभाष पासवान, हेरहंज थाना प्रभारी नित्यानन्द कुमार समेत कई पदाधिकारियों की टीम घटनास्थल पर पहुंची और मामले के बारे में विस्तृत जानकारी ली. साथ ही अधिकारियों की टीम ने स्थानीय कर्मियों को निर्देश भी जारी किया.

फिंगरप्रिंट एक्सप‌र्ट्स की तहकीकात

घटनास्थल पर ¨फगर¨प्रट विशेषज्ञों की टीम पहुंची और और एक-एक ¨बदु पर तहकीकात शुरू कर दी है. आरोपी के घर का दरवाजा खोले जाने के बाद कई स्थानों के ¨फगर¨प्रट लिए गए हैं. साथ ही विशेषज्ञों ने कुछ सैंपल भी एकत्र किए हैं.

वर्जन

पूरा इलाका पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है. शवों की बरामदगी के बाद पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है. जांच पूरी होने के बाद ही स्पष्ट तौर पर कुछ बताया जा सकेगा.

- प्रभाकर मुंडा, थाना प्रभारी, मनिका.


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.