शोध उपाधि दिए जाने का निर्णय

2019-03-08T06:00:07Z

कार्य परिषद की बैठक में लिए गए कई निर्णय

Meerut । सीसीएसयू में गुरुवार को कार्य परिषद की बैठक आयोजित हुई। इसमें शोध अनुभाग से प्रस्तुत शोध सूची के अनुसार 14 शोध छात्रों की शोध उपाधि दिए जाने का निर्णय लिया गया, वहीं नवीन कोर्स एवं कॉलेजों व नियुक्तियों को लेकर विचार विमर्श किया गया।

नवीन कोर्स पर होगी प्रक्रिया

बैठक में 22 कॉलेजों को नवीन पाठ्यक्रमों के लिए संबद्धता की प्रक्रिया में सम्मलित करने का फैसला लिया गया है, जिसकी प्रक्रिया शुरु की जाएगी। इसके साथ ही लगभग 15 ऐसे कॉलेजों को जोकि पूर्व में किन्ही कारणों से बंद हो चुके थे, दोबारा शुरु करने के प्रार्थना पत्र प्राप्त हुए हैं। जिस पर कार्य परिषद ने निर्णय लिया है कि ऐसे संस्थानों को दुबारा संबद्धता न दी जाए।

कॉलेज बंद करने का फैसला

बैठक में लॉर्ड बुद्धा एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन रेसना, मेरठ एवं श्री सेंटगिरी इंस्टीट्यूट राली चौहान मेरठ, मेरठ के प्रकरण में गठित जांच समिति की आख्या के आधार पर दोनों कॉलेजों की मान्यता समाप्त करने का फैसला लिया गया है।

इन बिंदुओं पर भी चर्चा

- सीसीएसयू में विभिन्न पदों पर टिचिंग, नॉन टिचिंग स्टाफ के लिए हुए दो दिवसीय हुए साक्षात्कार में चयन समिति द्वारा नियुक्त किए गए अभ्यर्थियों के लिफाफे खोले गए, जिसमें कार्य परिषद समिति ने स्वीकृति प्रदान की।

- मनोविज्ञान विभाग में कार्यरत डॉ। अल्पना अग्रवाल सहायक आचार्य एवं डॉ। संजय कुमार को सहायक आचार्य को चयन समिति के आधार पर सहयुक्त आचार्य बनाने का निर्णय लिया गया है।

- तीन संस्थानों को बीकॉम, एलएलबी, एक संस्थान को एलएलबी की संबद्धता प्रदान किए जाने का निर्णय लिया गया है।

ये रहे मौजूद

बैठक की अध्यक्षता वीसी प्रो। एनके तनेजा ने की। बैठक में प्रति कुलपति प्रो। वाई विमला, डॉ। दर्शनलाल अरोड़ा, प्रो। योगेंद्र सिंह, प्रो। जितेंद्र ढाका, डॉ। राजीव गुप्ता, प्रो। प्रतिभा त्यागी, प्रो। असलम जमशेदपुरी, डॉ। एसएस गौरव, प्रो। भूपेंद्र राणा, वित्ता अधिकारी सुनील कुमार गुप्ता एवं कुलसचिव वीपी कौशल आदि मौजूद रहे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.