आर्ट गैलरी अब हुई पेड

2019-07-14T06:00:44Z

एक्जीबिशन लगाने के लिए अब देना होगा किराया, संस्कृति विभाग ने किया रेट निर्धारण

देहरादून।

घंटाघर के समीप स्थित हेमवंती नंदन बहुगुणा कॉम्पलेक्स में आर्टिस्ट के लिए फ्री रही आर्ट गैलरी अब पेड हो गई है। आर्टिस्ट को यहां एक्जीबिशन लगाने के लिए किराया देना होगा। इसके लिए संस्कृति विभाग ने अलग-अलग पैकेज तैयार किये हैं। जिसकी सूचना भी आर्टिस्ट को दी गई है। हालांकि हाल ही में हुए इस बदलाव के बाद कोई नई बुकिंग यहां के लिए नहीं हुई है।

--

पहले फ्री थी गैलरी

करीब डेढ़ साल पहले हेमवंती नंदन बहुगुणा कॉम्पलेक्स में उत्तरा म्यूजियम ऑफ कंटेपरेरी आर्ट गैलरी तैयार हुई। जो बनाए जाने के कुछ समय बाद तक एमडीडीए के पास ही रही। हालांकि बाद में संस्कृति विभाग ने इसका हैंडओवर ले लिया। एक साल में यहां आर्टिस्ट की ओर से पांच एक्जीबिशन लगाई गई। जो कि बिल्कुल निशुल्क थी। अब गैलरी से इनकम के लिए विभाग की ओर से किराए की व्यवस्था की गई। हाल ही में की गई व्यवस्था के तहत यदि कोई भी आर्ट गैलरी में अपनी पेंटिंग की एक्जीबिशन लगाना चाहता है तो उनसे निर्धारित शुल्क लिया जाएगा।

विजिटर्स के लिए फ्री एंट्री

विजिटर्स के लिए पहले की तरह ही फ्री एंट्री हैं। कोई भी विजिटर यहां पेंटिंग सहित सेफ्टी पिनों से बने हेलीकॉप्टर, ढोल-दमाऊं, गांव के स्वरूप के मकान आदि देख सकते हैं। विजिटर्स के लिए यहां न पहले एंट्री शुल्क रखा गया था और न ही अब रखा गया है। हालांकि विजिटर्स को एक बात जरूर खलती है कि जब वे यहां आते हैं तो उन्हें आर्ट गैलरी में फोटो नहीं खींचने दी जाती है। जबकि वे कहते भी हैं कि इससे इस जगह का प्रचार-प्रसार होगा। बावजूद इसके वहां फोटो लेने से मना करते हैं। यही नहीं कोई विजिटर फोटो न ले, इसके लिए वहां सीसीटीवी कैमरों से भी नजर रखी जाती है।

--

अलग-अलग समूहों के लिए रेट तय

इसके लिए श्रेणी, ग्रुप, एकल कलाकार किराया, समयावधि, कुल निर्धारित शुल्क रखा गया है। साथ ही प्रथम, द्वितीय और तृतीय श्रेणी तय की गई है। इसके अनुसार किराया लिया जाएगा। वहीं शुरुआत में तीन हजार रुपये सिक्योरिटी के रूप में भी जमा करने होते हैं जो कि बाद में वापस कर दिए जाते हैं।

श्रेणी एक- सिंगल आर्टिस्ट -एक सप्ताह-7 हजार रुपये

-

श्रेणी दो - ग्रुप आर्टिस्ट -एक सप्ताह- दस हजार

-

श्रेणी तीन - कला संगठन, धर्मार्थ संस्था, वेब पोर्टल, पंजीकृत कला एवं सांस्कृतिक समितियां, सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम- एक सप्ताह- 20 हजार रुपये

-

आर्ट गैलरी में एक्जीबिशन लगाने के लिए शुल्क देना होगा। तय कर दिया गया है और आर्टिस्ट को इसकी जानकारी दे दी गई है।

बीना भट्ट, डायरेक्टर, संस्कृति विभाग


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.