Coronavirus के डर से इंडियन पिचकारी की मांग बढ़ी, चीनी खिलौनों से बढ़ी दूरी

2020-02-28T13:10:00Z

चीन में फैले कोरोना वायरस का असर सेहत पर ही नहीं पड़ रहा है बल्कि बाजार भी इससे पूरी तरह प्रभावित है।

मेरठ (ब्यूरो)होली के बाजार से इस बार चीनी उत्पाद लगभग गायब हैं। पहले आया स्टॉक भी मनमाने रेट पर जा रहा हैं। हालांकि, इसके चलते इंडियन मार्केट में बूम आ गया है। इंडियन, हर्बल और सात्विक रंगों की बाजार में पैठ बन गई हैं। पिछले साल की तुलना में चाइनीज कलर गुब्बारे, फॉग, स्प्रे, पिचकारी के दाम आसमान छू रहे हैं।

35 प्रतिशत बढ़ा इंडियन बाजार

कोरोना वायरस की वजह से चीन से आने वाले सभी तरह के सामानों पर रोक लग गई हैं। जिसके बाद सबसे ज्यादा असर कच्चे माल पर पड़ रहा है। कच्चा माल न होने की वजह से चीन का माल तैयार नहीं हो रहा है। व्यापारियों के मुताबिक इसका फायदा इंडियन बाजार को हुआ है। मेक इन इंडिया प्रॉडक्ट्स की सेल में करीब 40 प्रतिशत तक इजाफा हुआ है। रंग-गुलाल की बात करें तो इंडियन कलर्स के बाजार में भी 30 से 35 प्रतिशत का बूम आया है।

दोगुने हुए दाम

इस बार चाइना से माल न आने की वजह से पुराने माल का ही नए पैकेजिंग और डबल रेट में बेचा जा रहा है। चीन के गुब्बारों की बात करें तो पिछले साल तक 40 से 50 रूपये में बिकने वाले गुब्बारे का पैकेट 80 से 100 रूपये में बिक रहा है। चाइनीज पिचकारी के रेट में जबरदस्त इजाफा हुआ है। 50 रूपये में बिकने वाली पिचकारी 200 से 250 रूपये में बिक रही है। 60 से 70 रूपये में मिलने वाला कलर फॉग 200 रुपये तक में बिक रहा है। रंग बम, कलर बंदूक, कलर जेल, फॉग कलर, रंगों वाली फुलझड़ी जैसे चाइनीज आइटम्स के दाम भी डबल रेट में हैं।

इनका है कहना

'चीन से कुछ माल सितंबर-अक्टूबर में आ गया था। सेकेंड लॉट फंस गया हैं। हालांकि बाजार पर काफी असर पड़ा है। इंडियन प्रॉडक्टस में करीब 35 प्रतिशत क उछाल है।'

- अजय सहगल, व्यापारी

बाजार में इंडियन आइटम की डिमांड में तेजी आई है। चीन के आइटम्स बाजार में नहीं हैं। जो हैं वह काफी महंगे हैं।

- नरेश गोयल, व्यापारी

meerut@inext.co.in

Posted By: Meerut Desk

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.