डिप्टी सीएम केशव मौर्य बोले 50 वर्ष तक सपाबसपा व कांग्रेस साफ ओबीसी सांसदों का किया सम्मान

2019-06-24T09:17:48Z

लोकसभा चुनाव जीतकर आने वाले सात ओबीसी सांसदों को डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने रविवार को सम्मानित किया।

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : राजधानी स्थित विश्वसरैया सभागार में पार्टी के पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित सांसद सम्मान समारोह में डिप्टी सीएम ने कहा कि अगले 50 वर्ष तक सूबे में सपा, बसपा और कांग्रेस के लिए कोई भी उम्मीद नजर नहीं आती है। पिछड़ा वर्ग को हर सरकार से ज्यादा सम्मान भाजपा ने दिया है। पिछड़े वर्ग के लोगों ने भी हमें प्रदेश में 64 सीटें नहीं, मेरे हिसाब से 80 सीटें जिताई हैं। इस दौरान उन्होंने बसपा सुप्रीमो मायावती पर तंज किया कि उनको केवल अपने परिवार की ही चिंता है इसलिए अपने भतीजे को ही कोऑर्डिनेटर बना दिया। अखिलेश को बुआ ने धोखा दे दिया जिससे सपा के लोगों पर बेहोशी छाने लगी है।


सैफई वंश को नहीं दिया मौका

केशव ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि पीएम मोदी ने सबका साथ-सबका विकास का नारा दिया है इसलिए जिन लोगों ने भाजपा को वोट नहीं दिया है, हम उनके लिए भी काम करेंगे। जितनी जिम्मेदारी आपकी बीते चुनावों में थी, वहीं आगामी उपचुनाव में भी रहेगी। कहा कि आपने कन्नौज, फिरोजाबाद, बदायूं में भी कमल खिलाकर सैफई वंश के अंतिम शासक को कोई मौका नहीं दिया। सपा-बसपा गठबंधन से सबको लग रहा था कि मोदी दोबारा पीएम नहीं बनेंगे। विरोधियों ने भी हमें बांटने में कोई कसर बाकी नहीं रखी, लेकिन अब सपा-बसपा में झगड़ा हो चुका है। कोई बुआ से नाराज है तो कोई भतीजे से।
डिप्टी सीएम केशव मौर्या का मुकदमा वापसी का आदेश
बीजेपी को 51 फीसदी मिले वोट

भाजपा को लोकसभा चुनाव में 51 फीसद वोट मिले हैं, हमारा लक्ष्य अब 60 फीसद वोट हासिल करना है। इस अवसर पर महाराजगंज से सांसद पंकज चौधरी, बांदा से सांसद आरके सिंह पटेल, संतकबीरनगर से सांसद प्रवीन कुमार निषाद, बदायूं से सांसद संघमित्रा मौर्या, फर्रुखाबाद से सांसद मुकेश राजपूत, सीतापुर से सांसद राजेश वर्मा और आंवला के सांसद धर्मेंद्र कश्यप को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर पिछड़ा वर्ग मोर्चा के प्रभारी और भाजपा महामंत्री विजय बहादुर पाठक, सह प्रभारी ब्रज बहादुर, पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र चौधरी, बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल, आयुष मंत्री धर्म सिंह सैनी, राज्यमंत्री बलदेव औलख, जयप्रकाश निषाद मौजूद थे।



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.