देवभूमि में देवालय का विमोचन

2013-11-29T11:51:12Z

जागरण प्रकाशन लिमिटेड के मोस्ट वेटेड कॅाफी टेबल बुक जर्नी टू द लैड ऑफ गॉड्स 'देवालय' का विमोचन थर्सडे को गवर्नर डा. अजीज कुरैशी ने किया. राजभवन में आयोजित कार्यक्रम में जागरण ग्रुप के एक्जीक्यूटिव प्रेसिडेंट देवेश गुप्ता व डायरेक्टर शैलेंद्र मोहन गुप्ता आईनेक्स्ट के सीओओ एंड एडिटर आलोक सांवल एसोसिएट एडिटर व देवालय की राइटर शर्मिष्ठा शर्मा के साथ अन्य अतिथिगण भी मौजूद रहे.

गवर्नर ने किया विमोचन
कार्यक्रम के आरंभ में जागरण ग्रुप के एक्जीक्यूटिव प्रेसिडेंट देवेश गुप्ता ने गवर्नर डा। अजीज कुरैशी को बुके देकर उनका वेलकम किया। गवर्नर के साथ जेपीएल के डायरेक्टर शैलेंद्र मोहन गुप्ता, एक्स सीएम डा। रमेश पोखरियाल निशंक, परमार्थ निकेतन प्रमुख चिदानंद सरस्वती मुनि महाराज, महामंडलेश्वर कैलाशानंद ब्रह्मïचारी, गायत्री तीर्थ शांतिकुंज प्रमुख एवं देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डा। प्रणव पाण्डया, कैबिनेट मिनिस्टर अमृता रावत, दिनेश अग्रवाल, यूनिवर्सिटी ऑफ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज के कुलाधिपति डा। एसजे चोपड़ा ने दीप प्रज्जवलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

माइल स्टोन सिद्ध होगा देवालय
इस अवसर पर गवर्नर डा। अजीज कुरैशी ने कहा कि जागरण समूह हमेशा से अंधेरे में प्रकाश फैलाने का कार्य करता आ रहा है। देवालय भी इसी कड़ी में एक बड़ा प्रयास माना जा सकता है। यह पुस्तक उत्तराखंड के तीर्थ स्थलों के साथ ही यहां के टूरिस्ट प्लेसेज को नई पहचान दिलाने में सफल होगी। देवालय के माध्यम से अगर रिलेजीयश टूरिज्म को बढ़ावा मिलता है तो पहाड़ में रोजगार की संभावना भी बढ़ेगी।

टफ बट डिलाइटफुल एक्सिपिरियंस
लंबे समय से कॉफी टेबल बुक देवालय को पूर्ण रूप देने में लगी आई-नेक्स्ट की एसोसिएट एडिटर शर्मिष्ठा शर्मा के लिए ये दिन खास था। देवालय का विमोचन उनके प्रयास का रिवार्ड माना जा रहा है। अपने संबोधन में शर्मिष्ठा शर्मा ने कहा कि इस बुक को फाइनल टच देने के लिए किए गए प्रयास काफी कठिन थे। बावजूद इसके पिक्स और स्टेट के हर मंदिर के संदर्भ में जानकारी इकट्ठा कर पाना डिलाइटफुल एक्सपिरियंस रहा। उत्तराखंड में आपदा के ठीक पहले केदारनाथ मंदिर के रेयर पिक्चर के बारे में जिक्र करते हुए राइटर ने कहा कि संभवत: बाबा केदार की ये तस्वीरें पहले कभी सामने न आई हो।

श्रद्धेय नरेंद्र मोहन जी को किया याद
विमोचन कार्यक्रम में खास तौर पर पहुंचे परमार्थ निकेतन के संस्थापक चिदानंद मुनि स्वामी ने देवालय को आध्यात्मिक तरीके से प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा देहालय से देवालय की ओर चलना ही जीवन यात्रा है। युनाइटेड किंगडम में जागरण समूह के प्रधान संपादक श्रद्धेय नरेंद्र मोहन जी के साथ हुई मुलाकात का जिक्र करते हुए स्वामी जी ने बताया देवालय की परिकल्पना उसी समय हो गई थी। आज इसे वास्तविक रूप में देखना सुखद अनुभव है। नरेंद्र मोहन जी का वह सपना भी पूरा हो गया। महामंडलेश्वर कैलाशानंद ब्रह्मïचारी ने भी इस काफी टेबल बुक की सराहना करते हुए जागरण समूह के देवालय को बेहतर प्रयास बताया। देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डा। प्रणव पाण्डया ने कहा प्रकृति के आक्रोश के चलते उत्तराखंड ने बड़ी तबाही देखी है। देवालय सार्थक प्रयास है। जिसके जरिए स्टेट को एक बार फिर से अपने पैरों पर खड़ा होने में मदद मिलेगी। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री डा। रमेश पोखरियाल निशंक ने देवालय को आध्यात्म के उच्चतम शिखर की ओर ले जाने वाला प्रयास बताया।
हिंदी में भी लांच होगी देवालय
कार्यक्रम के आखिर में आईनेक्स्ट के सीओओ एंड एडिटर आलोक सांवल ने गवर्नर डा.अजीज कुरैशी के साथ ही बुक की लांचिंग पर मौजूद रहने वाले सभी गेस्ट को थैंक्स बोला। उन्होंने कहा समूह का उद्देश्य है कि, वह समाज के सजग प्रहरी के रूप में सामने आए। जेपीएल का कॉफी टेबल बुक देवालय भी इसी कड़ी में एक प्रयास है। देवालय को अंग्रेजी में लांच करने के बाबात सीओओ एंड एडिटर ने कहा इसका उद्देश्य यह है कि देश -विदेश से आने वाले पयर्टक उत्तराखंड के रिलेजीयश प्लेस को अच्छी तरह समझ सकें। देवालय का हिन्दी वर्जन भी लोगों के लिए जल्द उपलब्ध होगा। उत्तराखंड देवालय जागरण कॉफी टेबल बुक सीरिज की चौथी बुक है। इससे पहले बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश के मंदिरों के ऊपर तीन बुक प्रकाशित हो चुकी है।

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.