इन देशों में भी धूमधाम से मनाई जाती है दिवाली

2016-10-27T14:40:10Z

दिवाली का त्‍यौहार काफी नजदीक है। चारों और रौशनी ही रौशनी नजर आती है। बाजारों में रौनक देखते ही बनती है। मिठाईयों की दुकानों से निकलती वो भीनीभीनी खुशबू आप को ये एहसास दिलाती है कि दिवाली आ गई है। कहीं लोगों ने अपने घरों को सजाना शुरु कर दिया है तो कहीं जोरोशोरो से शॉपिंग चल रही है। आतिशबाजी और मिठाईयों के इस त्‍यौहार का देशभर को इंतजार रहता है।


ये है पौराणिक कथा
इस त्यौहार को इतनी धूमधाम से मनाने के पीछे भी एक पौराणिक कथा है। भगवान श्रीराम लंकापती रावण का वध कर 14 वर्षो के वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे। इस दिन अयोध्यावासियों ने घी के दीप जला कर पूरे नगर को रौशनी से नहला दिया था। उस दिन से दियों के त्यौहार को दिवाली नाम से जाना जाता है। दिवाली सिर्फ भारत ही नहीं कई अन्य देशों में भी बहुत धमाकेदार तरीके से मनाई जाती है।
लेस्टर
ब्रिटेन में जंगलों से घिरे खूबसूरत शहर लेस्टर में दिवाली धूमधाम से मनाई जाती है। वहां रहने वाला हिंदू , जैन और सिख समुदाय एवं दूसरे धर्म के लोग भी इसे अपने त्योहार के रूप में मनाते हैं। लोग दिवाली पर दीये जलाने और आतिशबाजी का आनंद लेते हैं। दिवाली के दिन लोग पार्कों में और स्ट्रीट पर ग्रुप में इकट्ठा होकर पटाखे छोड़ते हैं। इसके अलावा वहां लोग इस दौरान मिठाई भी अपने रिश्तेदारों में बांटते हैं।
थाइलैंड
थाइलैंड में दिवाली को लाम क्रियोंघ के नाम से मनाया जाता है। केले की पत्तियों से बने दीपक और धूप को रात में जलाया जाता है। उसके साथ पैसा भी रखा जाता है। जलते हुए इस दीप को नदी के पानी में बहा देते हैं। यहां दिवाली पर आसमान में जलते हुए गुब्बारे छोड़े जाते हैं।
स्कॉटलैंड
हर साल जनवरी के आखिरी मंगलवार को लेर्विक में एक प्रकाशोत्सव आयोजित किया जाता है जिसे वे अप हेली आ कहते हैं। यह वास्तव में दिवाली का ही रूप है। इस त्योहार में लोग प्राचीन समुद्री योद्धाओं जैसी ड्रेस पहने हाथ में मशाल लिए जुलूस निकालते हैं। पूरा शहर रोशनी से घिरा रहता है।
इंग्लैंड
यह पर्व 1605 से मनाया जा रहा है जो कि ब्रिटेन में अलग ही मायना रखता है। आधी रात आते ही ऑटरी सेंट मैरी शहर रोशनी से प्रज्जवलित हो उठता है। इस फायर फेस्टिवल को हर साल 5 नवंबर को मनाया जाता है। डेवन के दौरान लोग सत्तरह फ्लैमिंग बैरल लेकर रोड पर मार्च करते हैं। झर्राटेदार बैरल और पटाखे हर उम्र के लोगों के हाथ में देखे जाते हैं, जो अंत में शहर के बीचों-बीच एकत्रित होकर बोनफायर भी जलाते हैं। यह भी पढ़े-दिवाली के दिन करें ये काम, इससे आपके घर में कभी नही होगी धन की कमी
कनाडा
कनाडा के न्यूफाउंड लैंड में 5 नवंबर को दिवाली की तरह एक रात आती है। यहां आतिशबाजी की खुशी के पीछे बताया जाता है कि अंग्रेज एवं आयरिश लोग अच्छी जिंदगी की तलाश में इधर आए थे और वही आज कनाडा कहलाता है। बोनफायर में मस्ती का आलम यह होता है कि लोग मकान और खिड़कियां भी रंग देते हैं।
फ्लोरिडा
फ्लोरिडा के अल्टूना शहर में हर साल 31 अक्टूबर से 1 नवंबर मनने वाला सैमहेन फेस्टिवल बहुत शानदार होता है। भूतों के सम्मान में आयोजित इस त्योहार के दौरान बोन फायर जलाई जाती है। मनोरंजन और अलग-अलग थीम्स पर आयोजित होने के कारण बाहरी लोग भी यहां पहुंचकर हैरतअंगेज कारनामों का जमकर लुत्फ उठाते हैं।
जापान
हर साल जनवरी माह में शुरू होने वाला ओनियो फेयर फेस्टिवल यहां का सबसे प्राचीन त्यौहार है। यहां फुकुओका में दिवाली जैसा प्रकाशमयी त्योहार धूमधाम से मनता है। इस दौरान छह मशाल जलाई जाती हैं जो कि आपदा को खत्म करने के प्रतीक के रूप में होती है। इसमें आग की बत्ती को मंदिर से निकाल कर दूसरे जगह तक ले जाया जाता है। जापानी खास तरह के सफेद कपड़े पहनकर टॉर्च को घुमाते हैं। आग से हैरतअंगेज करतब दिखाना इस फेस्टिवल को शुभ बनाता है।

Spiritual News inextlive from Spirituality Desk

 

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.