डीएम ने लगाई नगर निगम को फटकार

2014-11-09T07:01:34Z

- सिटी में सीवरेज लाइन डालने के लिए कड़े निर्देश

- निगम को जारी हो चुका है जेएनएनयूआरएम का बजट

सिटी में सीवरेज लाइन डालने के लिए कड़े निर्देश

- निगम को जारी हो चुका है जेएनएनयूआरएम का बजट

Meerut

Meerut : सात साल के जॉनी की नाले में गिरने से मौत के बाद हुई किरकिरी को देखते हुए डिस्ट्रिक्ट एडमिनिस्ट्रेशन के ऑफिशियल्स अब एक्टिव हो गए। ऑफिशियल्स ने नगर निगम के अधिकारियों को तेजी से सिटी में सीवरेज लाइन बिछाने को कहा है। साथ ही नालों की स्थिति को ठीक कर उनके सौंदर्यकरण की बात भी कही है।

तेजी से हो सीवरेज का काम

जेएनएनयूआरएम की योजना के तहत सिटी में सीवरेज लाइन बिछाने का काम होना है। जो काफी धीमी गति से चल रहा है। डीएम पंकज यादव ने नगर निगम के अधिकारियों के साथ बैठक तेजी से काम करने के आदेश जारी किए है। डीएम ने कहा कि जहां भी संभव हो और बजट के हिसाब से खुले नालों को सीवरेज लाइन में परिवर्तित कर दिया जाए। ताकि दोबारा से ऐसी परिस्थितियां पैदा न हो।

सौंदर्यकरण का रखा जाए ध्यान

डीएम की ओर से नगर निगम के अधिकारियों से साफ कहा है कि नालों को जिन नालों पर अभी सीवरेज लाइन नहीं बिछाई जा रही है कि उन वैकल्पिक व्यवस्था की जाए। खुले नाले घातक हैं। उन पर फेंसिंग की जा सकती है। या कोई दूसरी वैकल्पिक व्यवस्था की जा सकती है। इसे तेजी से करने के निर्देश दे दिए गए हैं।

क्यों खर्च नहीं हो रहा रुपया?

डीएम ने इस बात पर भी फटकार लगाई कि नगर निगम जेएनएनयूआरएम का रुपया क्यों समय पर खर्च नहीं कर पा रहे हैं? डीएम की ओर से मिली जानकारी के अनुसार जेएनएनयूआरएम का बजट आ गया है। लेकिन निगम पिछला बजट ही नहीं खर्च पाया है तो आगे का बजट कैसे मिलेगा? इसके लिए वे ही लोग जिम्मेदार हैं।

ये है सीवरेज लाइन की स्थिति

- दो तिहाई शहर में सीवर लाइन नहीं है।

- नगर निगम के पास कोई सीवर ट्रीटमेंट प्लांट नहीं है।

- ख्फ्क् करोड़ की लागत से जेएनएनयूआरएम अन्तर्गत सीवरेज निस्तारण के लिए पाइप लाइन बिछाने का कार्य शुरू हुआ, पर अभी तक यह कार्य म्0 फीसदी ही हुआ है।

ये है नालों की तस्वीर

नाले व नालियां -क्ख्क्भ्

प्रमुख नाले - आबू नाला 7क्, आबूनाला-7ख्, ओडियन दक्षिणी, मकाचीन, मोहनपुरी एनएएस, हाशिमपुरा, पांडव नगर,सुभाष नगर, मकबरा अब्बू

सीवर लाइन-ब्ख्भ् किमी

उत्पादित कचरा- 9ख्0 मीट्रिक टन

नाले-नालिया में डलता है - ब्ख्फ् मीट्रिक टन

वर्जन

सीवरेज के काम को जल्द से जल्द पूरा करने को कह दिया है। जो नाले खुले हुए उन्हें उनमें वैकल्पिक व्यवस्था करने को कहा गया है।

- पंकज यादव, डीएम

गिरा था बच्चा, हुई थी मौत

गुरुवार सुबह होटल मुकुट महल के पीछे स्थित मंगतपुरा निवासी छह वर्षीय बालक जॉनी कूड़े बीनने के मकसद से घर से निकला था। नाले से एक बोतल निकालने के प्रयास में वह पुलिया से झुका और पैर फिसलने से वह नाले में गिरकर डूब गया। गुरुवार सुबह शुरू हुआ पुलिस-प्रशासन का तलाशी अभियान रात दस बजे तक चला, लेकिन बच्चे का पता नहीं चला था। प्रशासन ने रात में कर्मियों की कमी व अंधेरे की बात कहते हुए अभियान बंद कर दिया था। शुक्रवार को करीब ख्:फ्0 बजे बच्चे की लाश संजय वन के सामने होटल के आगे नाले में लाश बहती हुई मिली थी।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.