'साहब' बनकर न करें काम

2014-02-16T07:00:01Z

-डीबीएस में ह्यूमन राइट्स पर सेमिनार का समापन

-अधिकारियों को बदलना चाहिए काम का तरीका

DEHRADUN@inext.co.in

DEHRADUN : डीबीएस पीजी कॉलेज में चल रही नेशनल सेमिनार का सैटरडे को समापन हो गया। यह सेमिनार करंट इश्यूज इन ह्यूमन राइट्स एजुकेशन पर आयोजित किया गया। सेमीनार में लास्ट डे मानवाधिकार के बुनियादी सवालों के साथ-साथ भूमिका और इसके उल्लंघन पर पर चर्चा की गई। दिनभर में ह्यूमन राइट्स एजुकेशन डिजाइन और करिकुलम पर स्पीकर्स ने अपने विचार व्यक्त किए। सेमिनार में म्0 से ज्यादा रिसर्च पेपर प्रेजेंट किए गए।

दो पैनल के बीच डिस्कशन

कॉलेज के ऑडिटोरियम में ऑर्गनाइज समापन अवसर पर सरगुजा युनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रो। बीएल शर्मा बतौर चीफ गेस्ट मौजूद रहे। उन्होंने ह्यूमन राइट्स से जुड़े विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला। दिनभर में दो पैनल के बीच डिस्कशन हुआ। फ‌र्स्ट सेशन में ह्यूमन राइट्स एजुकेशन डिजाइन एंड करीकुलम थीम पर डिस्कशन हुआ। पैनल में एक्स्प‌र्ट्स के रूप में प्रो। बीके जोशी, राधा रतूड़ी, बीएल शर्मा और प्रो। मुनमुन झा ने अपने विचार व्यक्त किए। आईआईटी कानपुर के मानविकी व समाज शास्त्र डिपार्टमेंट के हेड प्रो। मुनमुन झा ने मानवाधिकार आंदोलन से जुड़े चरणों पर विस्तृत चर्चा की।

पुलिस को कई बार समझते हैं गलत

प्लीनरी सेशन में आईजी बीएसएफ अशोक कुमार नें बतौर एक्स्प‌र्ट्स ह्यूमन राइट्स पर अपने विचार रखे। उन्होंने पुलिस और जन अधिकारों पर जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कई मामलों में पुलिस को गलत समझा जाता है, लेकिन असल तस्वीर कुछ और होती है। सभी पुलिस कर्मी एक जैसे नहीं होते। अक्सर कुछ लोगों के गलत व्यवहार के कारण अच्छे पुलिस कर्मी को भी गलत समझ लिया जाता है। इसके अलावा अधिकारियों को साहब सुनने की आदत छोड़नी होगी।

खास तथ्यों पर काम करना जरूरी

अधिकारियों को साहब की सोच की जगह सेवा की सोच को रखकर काम करने की जरूरत है, जिस दिन इस सोच के साथ काम होने लगेगा मानवाधिकार सुरक्षित होने लगेंगे। सेकेंड सेशन के पैनल डिस्कशन में प्रमुख सचिव राधा रतूड़ी बतौर अध्यक्ष शामिल रही। उन्होंने एजुकेशनल, प्रोफेशनल एंड एथिकल डवलपमेंट पर जोर दिया। एक्स्प‌र्ट्स के तौर पर एडिशनल डीजीपी आरएस मीणा, हेमलता ढोंडियाल और ब्रिगेडियर एसके आहुजा ने विचार व्यक्त किए। इस मौके पर डा। प्रत्यूष वत्सला, डा। अराधना सहित डिफरेंट स्टेट्स के कॉलेजेज के स्टूडेंट्स मौजूद रहे। कॉलेज के प्रिंसिपल ओपी कुलश्रेष्ठ ने वोट ऑफ थैंक्स दिया।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.