जमीन पर दावेदारी में बह रहा खून

2014-06-22T07:01:21Z

-रांची में जमे हैं बाढ़ और मोकामा के शूटर्स

- जमीन विवाद में आए दिन हो रहे हैं मर्डर

RANCHI : दो दिनों के अंदर क्रिमिनल्स ने ताबड़तोड़ हत्याकांड को अंजाम देकर रांची पुलिस की नींद उड़ा दी है। रांची पुलिस इन दोनों हत्याकांडों की तफ्तीश में जुटी है। पुलिस को आशंका है कि दोनों की हत्या जमीन की खरीद-फरोख्त में की गई है। पर, पुलिस यह तलाशने में जुटी है कि उसके सूत्रधार कौन हैं और हत्याकांड को अंजाम देनेवाले शूटर कहां से आए हैं। पुलिस दोनों मामलों में पड़ताल कर रही है।

बिहार से आई शूटर्स की फौज

सूत्रों की मानें तो बिहार के बाढ़ और मोकामा से एक दर्जन से अधिक शूटर्स को रांची बुलाया गया है। रांची आने के बाद इन शूटर्स को किसे टपकाना है और कब टपकाना है, इस बाबत जानकारी दी जा रही है। फिर, हत्याकांड को अंजाम दिया जा रहा है। ये शूटर्स महज पांच से क्0 हजार रुपए लेकर हत्याकांड को अंजाम दे रहे हैं।

जमीन विवाद है कारण

पुलिस की पड़ताल के मुताबिक लाल अशोक नाथ शाहदेव को इसलिए मौत का घाट उतार दिया गया, क्योंकि वे पिता और भाई की हत्या होने के बाद जमीन का कारोबार कर अपने परिवार की आजीविका चला रहे थे। वे कुछ दिनों से जमीन कारोबार में इंटरफेयर भी कर रहे थे। यह बात उस एरिया के दबंग लोगों को रास नहीं आई। मौका देखकर उन्हें मौत की नींद सुला दिया गया।

क्रिमिनल्स की बनी लिस्ट

दोनों मर्डर से परेशान पुलिस अब वैसे गैंग्स की लिस्ट तैयार कर रही है, जो सुपारी देकर हत्या करवाते हैं। कई हत्याएं जेल से सुपारी देकर भी कराई गई है। रांची पुलिस के रिकॉर्ड में लखन सिंह, उसका छोटा भाई गेंदा सिंह, अनूप सिंह, नरेश उर्फ बुतरू, सुभान खां जैसे तमाम शूटर्स जेल से छूटकर बाहर घूम रहे हैं। इस मामले की मॉनिटरिंग खुद सिटी एसपी अनूप बिरथरे कर रहे हैं।

कुंदन हटिया में करता था जमीन का कारोबार

फ्राइडे को लालपुर एरिया के मुक्तिशरण लेन में मारा गया कुंदन शर्मा आपराधिक प्रवृति का आदमी था। वह रेलवे ठेकेदार अरविंद सिंह हत्याकांड में जेल जा चुका था। कुंदन शर्मा के बारे में कहा गया है कि वह सूद पर भी पैसा लगाता था। हटिया में वह एक बड़ी जमीन की खरीद-फरोख्त में शामिल था। उस जमीन पर लखन सिंह की भी नजर थी। छानबीन के क्रम में पुलिस को यह भी पता चला है कि कुंदन शर्मा की पहली वाइफ से तलाक हो चुका है। वह एक महिला के साथ नामकुम स्थित गुलमोहर अपार्टमेंट में रहता था। उसकी पत्नी ने पुलिस को पूछताछ में बताया है कि कुंदन शर्मा को पूर्व में भी धमकी दी गई थी। इस बात की जानकारी पुलिस को भी दी गई थी, सीनियर अधिकारियों को आवेदन दिया गया था, फिर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई थी।

शिबू के हत्यारों तक नहीं पहुंच सकी पुलिस

एक महीना पहले जमीन विवाद में टाटीसिल्वे में शिबू नायक की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में शिबू नायक के परिजनों ने सुपारी किलर्स सुभान खान और एके महतो के नाम पुलिस को बताए थे। शिबू की हत्या क्यों हुई, किसने की। इसका भी खुलासा अबतक नहीं हो पाया है। शूटर्स ने उसे उस समय गोली मारी, जब वे अपने पोते को आंगन में बिठाकर खेला रहे थे। सुभान खान और शिबू नायक का नाम कांटाटोली नामकुम पथ में हुए देयतू नायक हत्याकांड में भी जुड़ा था।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.