साठ लाख रुपये की चरस और स्मैक के साथ एक गिरफ्तार

2014-09-21T07:00:42Z

- टीपी नगर पुलिस ने देर रात चरस और स्मैक के साथ एक आरोपी को किया गिरफ्तार

- नेपाल से स्मैक और चरस लाकर एनसीआर, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर में कर रहा था सप्लाई

- बरामद माल की कीमत 60 लाख रुपये, एसपी सिटी ने किया घटना का खुलासा

Meerut: नेपाल बार्डर से चरस और स्मैक लाकर सप्लाई करने वाले एक आरोपी को पुलिस ने बागपत रोड से मलियाना बंबा रोड पर गिरफ्तार किया। उसके पास चार किलो 900 ग्राम स्मैक बरामद की गई। पुलिस का दावा है कि बरामद माल की बाजार में कीमत म्0 लाख रुपए है। इस केस में एक अन्य आरोपी फरार बताया जा रहा है।

एक गिरफ्तार, एक फरार

एसपी सिटी ओमप्रकाश ने बताया कि चेकिंग के दौरान स्पलेंडर बाइक पर सवार होकर एक युवक जा रहा था। कांस्टेबल ने रोकने का इशारा किया लेकिन आरोपी नहीं रुका, तेज स्पीड से फरार होने की कोशिश की। कुछ कदम की दूरी पर एसआई विनय कुमार ने आरोपी को दबोच लिया। पुलिस ने तलाशी ली तो उसके पास से स्मैक और चरस बरामद की। आरोपी ने बताया कि उसका नाम मसूद अली पुत्र अब्दुल वहीद है। वह फ्7क्, लद्दवाला, मुजफ्फरनगर का रहने वाला है। वह अपने साथी प्रतोश त्यागी निवासी ग्राम मुबारिकपुर थाना मंसूरपुर मुजफ्फरनगर है, जो दिल्ली, देहरादून, मेरठ, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, शामली समेत कई जगह मादक पदार्थ बेच मन माफिक पैसे कमाते हैं। पुलिस प्रतोश त्यागी की गिरफ्तारी के लिए दबिशें दे रही हैं। पुलिस का कहना है कि प्रतोश को भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

चार साल से सप्लाई

मसूद अली और प्रतोश त्यागी इस धंधे के कोई नए खिलाड़ी नहीं है, बल्कि पुराने शातिर है। वह पिछले चार सालों से नेपाल के बार्डर से चरस और स्मैक लाकर बेचने का काम रहे है, लेकिन खास बात यह है कि नेपाल की सीमा से लेकर दिल्ली और यूपी और उत्तराखंड तक में पुलिस के हत्थे नहीं चढ़े। आरोपियों ने बताया कि कई बार चेकिंग में बचने के लिए वह रास्ते बदल देते थे। एक बार बेगम पुल पर चेकिंग में भी आरोपी बच गए थे। पुलिस ने आरोपी की बाइक भी बरामद कर ली है।

अच्छे घराने से ताल्लुक

एसपी सिटी ओमप्रकाश ने बताया कि मसूद अली अच्छे घराने से ताल्लुक रखता है। मसूद का एक भाई दिल्ली की जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर है, जबकि दूसरा भाई एक विभाग में अधिकारी पद पर कार्यरत है।

ठिकानों पर पुलिस की नजर

अवैध मादक पदार्थो की सप्लाई किन-किन ठिकानों पर होती थी, पुलिस अब इसकी जांच में लगी हैं। एसओ टीपी नगर रणवीर यादव का कहना है कि पूछताछ के बाद आरोपी से मिली जानकारी के आधार पर पुलिस ने छानबीन शुरू कर दी है। इसके लिए दूसरे राज्यों और जिलों की पुलिस से संपर्क साधा जाएगा।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.